• लॉगिन / रजिस्टर

बीएस6 नॉर्म्स लागू होने के बाद बंद हो जाएंगे ये 9 फेमस डीज़ल इंजन

प्रकाशित पर Dec 30, 2019 05:20 PM द्वारा Bhanu

  • 511 व्यूज़
  • Write a कमेंट

भारत में अगले साल ईको फ्रेंडली बीएस6 नॉर्म्स (BS-6 Norms) लागू होने जा रहे हैं। ऑटोमोबाइल कंपनियों के लिए इन नए नॉर्म्स के अनुसार डीज़ल इंजन को अपग्रेड करने का खर्च ज्यादा आता है जिसका सीधा असर कारों की कीमत पर पड़ता है। इसे देखते हुए कई कार निर्माता कंपिनयों ने अपनी कारों में छोटे डीज़ल इंजन और कुछ ने तो सभी तरह के डीज़ल इंजन बंद करने का फैसला लिया है। ऐसे में हमने यहां कुछ कारों और उनमें दिए गए डीज़ल इंजन की सूची तैयार की है जिनका इस्तेमाल बीएस6 नॉर्म्स लागू होने के बाद नहीं होगा। 

मारुति सुज़ुकी 1.3 लीटर डीडीआईएस 190/200 - स्विफ्ट, डिज़ायर, बलेनो, विटारा ब्रेज़ा 

Maruti Year-end Offers: Save Up To Rs 90,000 On Ciaz, Vitara Brezza And More!

मारुति सुज़ुकी (Maruti Suzuki) काफी सालों से अपनी कई कारों में फिएट कंपनी (Fiat Company) के 1.3 लीटर डीज़ल इंजन का इस्तेमाल करती आई है। इस इंजन को 75पीएस/190एनएम और 90पीएस/200एनएम की पावर एवं टॉर्क देने के हिसाब से ट्यून किया गया है। इस इंजन के साथ 5-स्पीड मैनुअल और 5-स्पीड एएमटी गियरबॉक्स का विकल्प दिया गया है। स्विफ्ट और बलेनो में यह इंजन काफी अच्छी टॉर्क जनरेट करने के लिए जाना जाता है। यह इंजन अपनी फ्यूल एफिशिएंसी के लिए भी काफी पॉपुलर है। मारुति स्विफ्ट (Maruti Swift) में यह इंजन 28.40 किलोमीटर/लीटर का माइलेज देता है। यह इंजन मारुति इग्निस (Maruti Ignis) में भी दिया गया था, मगर इस हैचबैक के डीज़ल वेरिएंट की डिमांड कम होने के कारण इसे काफी समय पहले बंद कर दिया गया। 

मारुति सुज़ुकी 1.3 लीटर डीडीआईएस 200 स्मार्ट हाइब्रिड - एस-क्रॉस, सियाज़

यह फिएट वाले 1.3 लीटर ​डीज़ल इंजन का ही एक बेहतरीन वर्जन है जिसमें मारुति की माइल्ड हाइब्रिड टेक्नोलॉजी का भी इस्तेमाल किया गया है। यह 90 पीएस की पावर और 200 एनएम का टॉर्क जनरेट करने में सक्षम है। कार में लगी छोटी बैट्री को चार्ज करने के लिए इसके साथ आइडल स्टॉप/स्टार्ट और ब्रेक री-जनरेशन का फीचर दिया गया है। इस इंजन के साथ भी 5-स्पीड मैनुअल और ऑटोमैटिक गियरबॉक्स का ऑप्शन दिया गया है। इस इंजन के साथ उपलब्ध सियाज़ सेडान (Maruti Ciaz) 28.09 किलोमीटर/लीटर का माइलेज देती है। यही इंजन अर्टिगा में भी दिया गया था मगर अब इसे बंद कर दिया गया है। 

साथ ही पढ़ें: टेस्टिंग के दौरान दिखी 2020 मारुति विटारा ब्रेजा फेसलिफ्ट, क्या इस बार मिलेगा इसमें सनरूफ का फीचर?

हुंडई 1.4-लीटर यू2 सीआरडीआई - एलीट आई20, वरना, क्रेटा

मारुति से अलग हुंडई मोटर्स (Hyundai Motors) लगभग अपनी सभी कारों में बीएस6 डीज़ल इंजन देगी। मगर, कंपनी 1.4-लीटर यू2 सीआरडीआई इंजन को बंद करने जा रही है। प्रीमियम हैचबैक सेगमेंट की एलीट आई20 (Elite i20) में इस पावरफुल इंजन का इस्तेमाल किया गया है जो अच्छी टॉर्क और माइलेज देने के लिए जाना जाता है। हुंडई वरना (Hyundai Verna) और क्रेटा (Hyundai Creta) में भी इस इंजन का ऑप्शन दिया गया है। यह 1.4 लीटर डीज़ल इंजन 90 पीएस की पावर और 220 एनएम का टॉर्क जनरेट करने में सक्षम है। इस इंजन के साथ 6-स्पीड मैनुअल गियरबॉक्स दिया गया है। अब इस इंजन की जगह किया सेल्टोस वाला 1.5 लीटर डीज़ल इंजन लेगा। हालांकि इस ​इंजन को डी-ट्यून (कम पावर ट्यूनिंग) के साथ पेश किया जाएगा। 

हुंडई 1.6-लीटर यू2 सीआरडीआई - वरना, क्रेटा

इस इंजन को कॉम्पैक्ट सेडान और एसयूवी सेगमेंट की कारों में अच्छी परफॉर्मेंस देने का श्रेय दिया जाता है। यह इंजन 128 पीएस की पावर और 260 एनएम का टॉर्क जनरेट करने में सक्षम है। इस इंजन के साथ 6-स्पीड मैनुअल और 6-स्पीड ऑटोमैटिक गियरबॉक्स दिया गया है। अब किया सेल्टोस (Kia Seltos) का 1.5 लीटर बीएस6 डीज़ल इंजन इस 1.6 लीटर इंजन की जगह लेगा। भारत में हुंडई एलांट्रा (Hyunda Elantra) में यह इंजन दिया जाता था बाद में एलांट्रा के फेसलिफ्ट (Elantra Facelift) मॉडल में इस इंजन का ऑप्शन हटा दिया गया। 

फोक्सवैगन स्कोडा 1.5-लीटर टीडीआई - पोलो, एमियो, वेंटो, रैपिड

भारत में बीएस6 नॉर्म्स लागू होने के बाद फोक्सवैगन ग्रुप छोटे डीज़ल इंजन की पेशकश नहीं करेगा। वहीं अफोर्डेबल कार ​कैटेगरी के लिए कंपनी का य​ह 1.5 लीटर टीडीआई इंजन उपलब्ध रहेगा। पोलो और वेंटो के रेग्यूलर वेरिएंट में यह इंजन 90 पीएस की पावर और 230 एनएम का टॉर्क जनरेट करने में सक्षम है। इस इंजन के साथ 5-स्पीड मैनुअल गियरबॉक्स दिया गया है। एमियो (Ameo), रैपिड (Rapid), पोलो (Polo) एवं वेंटो (Vento) के जीटी लाइन वेरिएंट में यही इंजन 110 पीएस की पावर और 250 एनएम का टॉर्क देता है। इस इंजन के साथ 5-स्पीड मैनुअल और 7-स्पीड डीएसजी ऑटोमैटिक गियरबॉक्स दिया गया है। यह डीज़ल इंजन शानदार परफॉर्मेंस के लिए काफी पॉपुलर है।  

साथ ही पढ़ें: 2019 की सबसे ज्यादा माइलेज देने वाली टॉप 5 पेट्रोल कारें

निसान-रेनो 1.5-लीटर के9के डीसीआई - किक्स, माइक्रा, सन्नी, टेरानो, डस्टर, कैप्चर, लॉजी

भारत में निसान मोटर्स (Nissan Motors) और रेनो (Renault) अपने लगभग सभी मॉड्ल्स में डीज़ल इंजन का ऑप्शन देती है। बीएस6 नॉर्म्स लागू होने के बाद रेनो अपनी कारों में डीज़ल इंजन नहीं देगी और ऐसा माना जा रहा है कि निसान भी यही योजना अपना सकती है। 1.5 लीटर डीज़ल इंजन 64पीएस/160एनएम (माइक्रा), 85पीएस/200एनएम (सन्नी, टेरानो, डस्टर) और 110पीएस/245 एनएम (टेरानो, डस्टर, कैप्चर, लॉजी, किक्स) में अलग-अलग पावर ​ट्यूनिंग के साथ दिया गया है। रेनो डस्टर (Renault Duster) और निसान टेरानो (Nissan Terrano) में यह इंजन ज्यादा पावर ट्यूनिंग के साथ दिया गया है, इनमें 6 -स्पीड मैनुअल और एएमटी गियरबॉक्स का ऑप्शन मिलता है। इसी इंजन के कम पावर वाले वर्जन के साथ केवल 5-स्पीड मैनुअल गियरबॉक्स दिया गया है। 2020 तक रेनो इंडिया (Renault India) और निसान मोटर्स, डीजल इंजन की जगह नए टर्बोचार्ज्ड पेट्रोल इंजन की पेशकश कर सकती है।  

टोयोटा 1.4-लीटर डी-4डी - इटियॉस लीवा, इटियॉस क्रॉस, प्लेटिनम इटियॉस, कोरोला एल्टिस

टोयोटा इंडिया (Toyota India) ने आधि​कारिक तौर पर तो 1.4 लीटर डीज़ल इंजन को बंद करने की घोषणा नहीं की है। मगर, कंपनी इसे बीएस6 नॉर्म्स के अनुसार शायद ही अपडेट करे। यह इंजन इटियॉस लीवा (Etios Liva), इटियॉस क्रॉस (Etios Cross) और प्लेटिनम इटियॉस (Platinum Etios) के साथ-साथ कोरोला एल्टिस (Corolla Altis) में भी दिया गया है। इटियॉस में यह इंजन 68 पीएस की पावर और 170 एनएम का टॉर्क देता है। इसके साथ 5-स्पीड मैनुअल गियरबॉक्स दिया गया है। वहीं, कोरोला एल्टिस में इस इंजन के साथ 6-स्पीड मैनुअल गियरबॉक्स दिया गया है और यह 88 पीएस की पावर और 205 एनएम का टॉर्क जनरेट करता है। 

टाटा 1.05 लीटर रेवोटॉर्क - टियागो, टिगॉर, टियागो एनआरजी

Hyundai Aura vs Maruti Dzire vs Honda Amaze vs Ford Aspire vs Tata Tigor vs VW Ameo vs Hyundai Xcent: Specification Comparison

टाटा मोटर्स (Tata Motors) ने अपनी छोटी कारों (Small Cars) के लिए 3-सिलेंडर वाला एक छोटा डीज़ल इंजन विकसित किया था। 1047 सीसी का यह डीज़ल इंजन 5-स्पीड मैनुअल गियरबॉक्स के साथ उपलब्ध है, जो 70 पीएस की पावर और 140 एनएम का टॉर्क देता है। यदि कंपनी इस इंजन को बीएस6 नॉर्म्स के अनुसार अपग्रेड करती है तो वो महंगा सौदा साबित हो सकता है। ऐसे में अप्रैल 2020 के बाद से टाटा टियागो (Tata Tiago), टाटा टिगॉर (Tata Tigor), टियागो एनआरजी (Tiago Nrg) केवल पेट्रोल इंजन में उपलब्ध होगी। टिगॉर ईवी (Tigor EV) की तरह टियागो का इलेक्ट्रिक वर्जन भी पेश किया जा सकता है। 

महिंद्रा 1.2 लीटर - केयूवी100 एनएक्सटी

दूसरी कंपनियो से अलग महिंद्रा (Mahindra) अपने बड़े डीज़ल इंजन को बंद करने के बजाए बीएस6 नॉर्म्स के अनुसार अपग्रेड करने की तैयारी कर रही है। मगर, कंपनी अपनी मिनी एसयूवी (Mini SUV) केयूवी100 एनएक्सटी (KUV100 NXT) में दिया गया 1.2 लीटर 3-सिलेंडर एम-फाल्कन डी75 इंजन बंद करने जा रही है। यह इंजन 78 पीएस की पावर और 190 एनएम का टॉर्क जनरेट करने में सक्षम है। वहीं, इस इंजन के साथ 5-स्पीड मैनुअल गियरबॉक्स दिया गया है। बीएस6 लागू होने के बाद यह कार पेट्रोल इंजन में उपलब्ध होगी और इसका एक ऑल इलेक्ट्रिक वर्जन भी बाज़ार में उतारा जाएगा।


यह भी पढ़ें:  अप्रैल 2020 तक बंद होगी रेनो लॉजी

द्वारा प्रकाशित

Write your कमेंट

2 कमेंट्स
1
R
razor gaming
Dec 30, 2019 1:00:10 PM

I am also a ford lover.I also want to known.

    जवाब
    Write a Reply
    1
    A
    anant bhatia
    Dec 30, 2019 10:46:46 AM

    Is the Ford 1.5 TDCI from the Figo / Aspire / Ecosport BS6 compatible?

      जवाब
      Write a Reply
      Read Full News
      • ट्रेंडिंग
      • हाल का
      ×
      आपका शहर कौन सा है?