• लॉगिन / रजिस्टर

लेक्सस ईएस 300एच की वो पांच खासियतें जो इस कार को बनाती है दूसरों से जुदा

संशोधित: अप्रैल 16, 2020 10:50 am | भानु | लेक्सस ईएस

  • 1976 व्यूज़
  • Write a कमेंट

लग्जरी सेडान सेगमेंट में मर्सिडीज़-बेंज (Mercedes-Benz), ऑडी (Audi) और बीएमडब्ल्यू (BMW) जैसे ब्रांड लोगों के बीच काफी प्रचलित हैं। इन कंपनियों की कारों में वो तमाम चीज़ें मौजूद रहती हैं जो किसी के लिए भी एक सपने से कम नहीं है।

जापान की कंपनी लेक्सस भारत में इतनी ज्यादा पॉपुलर नहीं है, मगर इसकी ईएस 300एच कार काफी स्पेशल है। ऐसे में हम आपको यहां इसकी उन 5 खासियतों के बारे में बता रहे हैं जो इसे भीड़ से अलग रखती है:-

एक्सटीरियर ऐसा कि भीड़ में अलग-सी दिखाई देती है ये सेडान

अगर आप मेट्रो सिटी में रहते हैं और रास्तों पर आपको मर्सिडीज ई-क्लास (Mercedes-Benz E-Class) या बीएमडब्ल्यू 5-सीरीज़ (BMW 5-Series) जैसी लग्जरी कारें दिख जाती हैं तो वो आपके लिए कोई असाधारण चीज़ नहीं होती है। इन कारों का डिज़ाइन काफी सिंपल है जिससे भीड़ में इनको अलग से पहचान नहीं मिल पाती है। मगर, लेक्सस के मामले में ऐसा नहीं है। लेक्सस ईएस 300एच (Lexus ES 300H) का डिज़ाइन काफी अलग है। इसकी शार्प लाइन, बड़ी सी ग्रिल और '3 आई' बाय बीम हेडलैंप से इसको एक यूनीक स्टाइल मिलती है। 

यह भी पढ़ें: इंटीरियर स्पेस कंपेरिजन : बीएमडब्ल्यू 5-सीरीज़ Vs ऑडी ए6 Vs मर्सिडीज़ ई-क्लास Vs वोल्वो एस90

भरोसेमंद और विश्वसनीय

इंटरनेशनल मार्केट में लेक्सस को भरोसेमंद कारें बनाने के लिए जाना जाता है। भारत में भी लेक्सस ईएस 300एच के साथ 3 वर्ष या 100,000 किलोमीटर की वारंटी की पेशकश की जाती है। 

ईको फ्रेंडली है ये कार

अगर आप एक ईको फ्रेंडली लग्जरी सेडान लेने की तमन्ना रखते हैं, तो इस सेगमेंट में ईएस 300एच इकलौती हाइब्रिड कार है। जरूरत पड़ने पर इसे पूरी तरह इलेक्ट्रिक मोड पर चलाया जा सकता है, वहीं पेट्रोल मोड पर चलाते हुए 217 पीएस की पावर मिलने के बावजूद यह अच्छा माइलेज देती है। लेक्सस इस कार को लेकर 22.37 किलोमीटर/लीटर का माइलेज दावा करती है, मगर आप इससे भी अच्छे माइलेज की उम्मीद कर सकते हैं। 

रिच केबिन एक्सपीरियंस

लेक्सस ईएस 300एच का केबिन एक्सपीरियंस शानदार साबित होता है। इसमें हर एलिमेंट काफी शानदार तरीके से पोजिशन किए गए हैं, जिससे केबिन का डिज़ाइन सजा-धजा नज़र आता है। चूंकि ये एक जापानी ब्रांड की कार है, ऐसे में इसमें काफी एलिमेंट्स जापान से ही प्रभावित लगते हैं। उदाहरण के तौर पर इसमें केबिन और स्टीयरिंग व्हील पर 'शिमामोकु' वुडन ट्रिम और डार्क कलर की स्ट्रिप्स का बखूबी इस्तेमाल किया गया है। वहीं, इंस्ट्रूमेंट क्लस्टर के बगल में ड्राइव मोड सिलेक्टर को पोजिशन करने से एक फाइटर प्लेन के कॉकपिट में बैठने जैसी फीलिंग आती है। 

यह भी पढ़ें: कोरोना संकट: मंदी से जूझती ऑटो इंडस्ट्री ने सरकार के सामने लगाई गुहार, कहा जीएसटी में की जाए कटौती

कंफर्ट में कोई कमी नहीं 

 

ईएस 300एच की खासियत केवल यहां तक ही सीमित नहीं है कि ये 0 से 100 किलोमीटर/घंटे की रफ्तार पर काफी तेजी से पहुंच जाती है या इसमें फीचर्स की भरमार है। बल्कि इसमें कंफर्ट का पूरा अहसास होता है और केबिन के अंदर किसी तरह का शोर नहीं होता है। आमतौर पर यूरोपियन कारों के बारे में कहा जाता है कि इनमें बैठकर आप आराम नहीं फरमा सकते हैं और केबिन के अंदर शोर भी बहुत आता है, मगर लेक्सस ईएस 300एच में आपको बिल्कुल भी ऐसी परेशानियों का सामना नहीं करना पड़ता है। इसकी सीटें भी किसी सोफा से कम नहीं है जिसमें बैठकर कंफर्ट का एक अलग ही अहसास होता है। आपके मूड को अच्छा रखने के लिए इसमें 17-स्पीकर से लैस शानदार मार्क लेविंसन म्यूजिक सिस्टम भी दिया गया है। 

यह भी पढ़ें: फीचर्स कंपेरिजन : बीएमडब्ल्यू एक्स1 Vs वोल्वो एक्ससी40

द्वारा प्रकाशित

लेक्सस ईएस पर अपना कमेंट लिखें

Read Full News

कंपेयर करने के लिए मिलती-जुलती कारें

एक्स-शोरूम कीमत नई दिल्ली
  • ट्रेंडिंग
  • हाल का
×
आपका शहर कौन सा है?