• लॉगिन / रजिस्टर
  • मारुति एस-प्रेसो front left side image
1/1
  • Maruti S-Presso
    + 48फोटो
  • Maruti S-Presso
  • Maruti S-Presso
    + 5कलर
  • Maruti S-Presso

मारुति एस-प्रेसोमारुति एस-प्रेसो एक 4 सीटर हैचबैक है जिसकी कीमत Rs. 3.7 - 5.13 Lakh* है। यह 14 वेरिएंट में उपलब्ध है। 998 cc के /बीएस6 इंजन और 2 तरह के गियरबॉक्स: मैनुअल & ऑटोमेटिक में उपलब्ध है। एस-प्रेसो के अन्य प्रमुख स्पेसिफिकेशन में 758kg का कर्ब वेट,180mm का ग्राउंड क्लीयरेंस और 270 liters का बूटस्पेस शामिल है। एस-प्रेसो में 6 कलर का ऑप्शन दिया गया है। यहां मारुति एस-प्रेसो के माइलेज,परफॉर्मेंस,प्राइस और यूजर के ओवरऑल एक्सपीरियंस के बेसिस पर 240 से ज्यादा यूजर रिव्यू उपलब्ध हैं।

कार बदलें
183 रिव्यूज इस कार को रेटिंग दें
Rs.3.7 - 5.13 लाख *
*एक्स-शोरूम कीमत in नई दिल्ली
जुलाई ऑफर देखें
इस महीने त्योहारी ऑफर से न चूकें
space Image

मारुति एस-प्रेसो के प्रमुख स्पेसिफिकेशन

माइलेज (तक)31.2 किलोमीटर/किलोग्राम
इंजन (तक)998 सीसी
बीएचपी67.05
ट्रांसमिशनमैनुअल/ऑटोमेटिक
सीटें4
बूट स्पेस270

एस-प्रेसो पर लेटेस्ट अपडेट

लेटेस्ट अपडेट : मारुति सुजुकी ने एस-प्रेसो के सीएनजी वेरिएंट लॉन्च कर दिए हैं। मारुति एस-प्रेसो सीएनजी की प्राइस 4.84 लाख से 5.13 लाख रुपये (एक्स-शोरूम दिल्ली) के बीच है।

मारुति एस प्रेसो वेरिएंट : भारत में एस प्रेसो को मारुति के एरीना शोरूम के जरिए बेचा जाता है। यह गाड़ी तीन वेरिएंट्स में स्टैंडर्ड, एल और वी उपलब्ध है। इस कार के टॉप वेरिएंट वी में एएमटी ट्रांसमिशन का ऑप्शन दिया गया है। सीएनजी किट का ऑप्शन इसके मिड वेरिएंट एल और टॉप वेरिएंट वी में रखा गया है। मारुति एस-प्रेसो का कौनसा वेरिएंट रहेगा आपके लिए बेहतर, जानिए यहां

मारुति एस प्रेसो प्राइस: बीएस6 एस प्रेसो की प्राइस रेंज 3.70 लाख रुपये से 5.13 लाख रुपये के बीच है। इस गाड़ी के एएमटी ट्रांसमिशन से लैस वेरिएंट वीएक्सआई, वीएक्सआई (ओ) और वीएक्सआई+ (टॉप वेरिएंट) की कीमतें क्रमशः 4.75 लाख रुपये, 4.81 लाख रुपये और 4.99 लाख रुपये है। वहीं, एल, एल (ओ), वी, वी (ओ) वेरिएंट (सीएनजी किट के साथ) की प्राइस क्रमशः 4.84 लाख रुपये, 4.90 लाख रुपये, 5.07 लाख रुपये और 5.13 लाख रूपए (सभी कीमतें, एक्स-शोरूम दिल्ली) हैं।

मारुति एस प्रेसो इंजन, ट्रांसमिशन और माइलेज : इस 5-सीटर कार में बीएस6 नॉर्म्स से लैस 1.0-लीटर पेट्रोल इंजन दिया गया है जो 68 पीएस की पावर और 90 एनएम का टॉर्क जनरेट करता है। पावर ट्रांसमिशन के लिहाज से इसमें इंजन के साथ 5-स्पीड मैनुअल और 5-स्पीड एएमटी गियरबॉक्स का ऑप्शन रखा गया है। मारुति एस-प्रेसो सीएनजी किट में भी उपलब्ध है। सीएनजी वेरिएंट में भी बीएस6 नॉर्म्स से लैस 1.0-लीटर पेट्रोल इंजन 5-स्पीड एमटी गियरबॉक्स के साथ दिया गया है। सीएनजी के साथ यह इंजन 59 पीएस की पावर और 78 एनएम का टॉर्क जनरेट करने में सक्षम है। इसकी वॉटर फिलिंग टैंक की क्षमता 55 लीटर है। इस हैचबैक का माइलेज कुछ इस प्रकार है:-

  • पेट्रोल एमटी : 21.4 किलोमीटर प्रति लीटर (स्टैंडर्ड, एलएक्सआई)
  • पेट्रोल एमटी/एएमटी : 21.7 किलोमीटर प्रति लीटर (वीएक्सआई और वीएक्सआई+)
  • एस-प्रेसो सीएनजी : 31.2 किलोमीटर प्रति किलोग्राम

मारुति एस प्रेसो फीचर्स : इस फोर व्हीलर गाड़ी की फीचर लिस्ट में डिजिटल इंस्ट्रूमेंट क्लस्टर, एप्पल कारप्ले और एंड्रॉइड ऑटो के साथ 7-इंच इंफोटेनमेंट सिस्टम, फ्रंट पावर विंडो और कीलैस एंट्री आदि शामिल हैं।

मारुति एस प्रेसो सेफ्टी फीचर्स : पैसेंजर सेफ्टी के लिहाज से इस एंट्री-लेवल हैचबैक के सभी वेरिएंट्स में ड्राइवर एयरबैग, एंटी-लॉक ब्रेकिंग सिस्टम (एबीएस), इलेक्ट्रॉनिक ब्रेकफोर्स डिस्ट्रीब्यूशन (ईबीडी), रियर पार्किंग सेंसर, स्पीड अलर्ट सिस्टम और फ्रंट सीटबेल्ट रिमाइंडर जैसे फीचर्स स्टैंडर्ड मिलते है। वहीं, इसके टॉप वेरिएंट में फ्रंट पैसेंजर एयरबैग और फ्रंट सीटबेल्ट प्रीटेन्शनर जैसे फीचर्स भी दिए गए हैं। हालांकि, दूसरे वेरिएंट में यही फीचर्स ऑप्शनल रखे गए हैं।

इनसे है मुकाबला : सेगमेंट में इसका सीधा मुकाबला रेनो क्विड से है। प्राइस के मामले में इसका कम्पेरिज़न डैटसन रेडी-गो, मारुति वैगनआर और हुंडई सैंट्रो से भी है।

space Image

मारुति एस-प्रेसो कीमत सूची (वेरिएंट)

एसटीडी998 सीसी, मैनुअल, पेट्रोल, 21.4 किमी/लीटरRs.3.7 लाख *
एसटीडी ऑप्शनल998 सीसी, मैनुअल, पेट्रोल, 21.4 किमी/लीटरRs.3.76 लाख*
एलएक्सआई998 सीसी, मैनुअल, पेट्रोल, 21.4 किमी/लीटरRs.4.09 लाख*
एलएक्सआई ऑप्शनल998 सीसी, मैनुअल, पेट्रोल, 21.4 किमी/लीटरRs.4.15 लाख*
वीएक्सआई998 सीसी, मैनुअल, पेट्रोल, 21.7 किमी/लीटर
टॉप सेलिंग
Rs.4.32 लाख*
वीएक्सआई ऑप्शनल998 सीसी, मैनुअल, पेट्रोल, 21.7 किमी/लीटरRs.4.38 लाख*
वीएक्सआई प्लस998 सीसी, मैनुअल, पेट्रोल, 21.7 किमी/लीटरRs.4.56 लाख*
वीएक्सआई एटी998 सीसी, ऑटोमेटिक, पेट्रोल, 21.7 किमी/लीटरRs.4.75 लाख*
वीएक्सआई ऑप्शनल एटी998 सीसी, ऑटोमेटिक, पेट्रोल, 21.7 किमी/लीटरRs.4.81 लाख*
एलएक्सआई सीएनजी998 सीसी, मैनुअल, सीएनजी, 31.2 किलोमीटर/किलोग्रामRs.4.84 लाख*
एलएक्सआई ऑप्शनल सीएनजी998 सीसी, मैनुअल, सीएनजी, 31.2 किलोमीटर/किलोग्रामRs.4.9 लाख*
वीएक्सआई प्लस एटी998 सीसी, ऑटोमेटिक, पेट्रोल, 21.7 किमी/लीटरRs.4.99 लाख*
वीएक्सआई सीएनजी998 सीसी, मैनुअल, सीएनजी, 31.2 किलोमीटर/किलोग्राम
टॉप सेलिंग
Rs.5.07 लाख *
वीएक्सआई opt सीएनजी998 सीसी, मैनुअल, सीएनजी, 31.2 किलोमीटर/किलोग्रामRs.5.13 लाख *
सभी वेरिएंट देखें
space Image

सवाल और जवाब

  • अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न
  • नई प्रशन

मारुति एस-प्रेसो की तुलना उसके जैसी कारों के साथ

नई दिल्ली में एक्स-शोरूम कीमत

मारुति एस-प्रेसो रिव्यू

ज्यादा ग्राउंड क्लीयरेंस और कम कीमत वाली मारुति की यह माइक्रो एसयूवी क्या छोटी सिटी कार की परिभाषा को नई पहचान देने में कामयाब हुई है? आईये जानें 

मारुति ने अपनी इस लेटेस्ट कार की प्राइस कॉफ़ी के एक प्रकार के नाम पर रखा है, जिसका उपयोग अधिकांश भारतीय नहीं करते हैं। कुछ उसी प्रकार एस-प्रेसो कार भी मारुति की अन्य कारों से कुछ हटकर है। यह पहली बार है जब मारुति ने इस प्रकार की कोई कार उतारी है। हालांकि, रेनो इंडिया क्विड के साथ कई सालों पहले ही इस सेगमेंट में कदम रख चुकी है और बेहद सफल भी रही।

एक्सटीरियर

मारुति सुजुकी अपनी इस कार को मिनी-एसयूवी कहती है। लेकिन हम इस बात से पूरी तरह सहमत नहीं है। इस बात में कोई शक नहीं की इसमें किसी एसयूवी कार की तरह 180 मिलीमीटर का ऊंचा ग्राउंड क्लेअरन्स और टाल-बॉय स्टान्स मिलता है। मगर, यह विटार ब्रेज़ा जैसी एसयूवी के छोटे वर्ज़न की बजाएं ऑल्टो का उठा हुआ मॉडल ज्यादा लगता है। हालांकि, कंपनी ने इसमें कई एलिमेंट विटारा ब्रेज़ा से कुछ मिलते-जुलते दिए हैं।  

बात की जाए एस-परेसो के फ्रंट डिज़ाइन की तो, इसके चौकोर हेडलैम्प्स, टूथ ग्रिल और बड़ा बम्पर आपको ब्रेज़ा की थोड़ी याद दिलाएंगे। इसका लम्बा और सपाट बोनट और ए-पिलर के तीखे एंगल जैसे एलिमेंट्स इसे कुछ हद तक एसयूवी जैसा लुक देते हैं। यह छोटी और ऊँची कार है और शायद एक नज़र में सबको पसंद ना आए। इसमें ड्यूल-टोन बंपर्स मिलते हैं। आश्चर्य की बात है कि इसमें फॉगलैम्प जैसे बेसिक फीचर की कमी है। फॉग लैंप की जगह एस-प्रेसो में ऑफिशियल एक्सेसरीज के रूप में डे-टाइम रनिंग लैंप मिलते है।

साइड से देखने पर एस-प्रेसो में अलॉय व्हील की कमी खलती है। गौरतलब है कि कंपनी ने इसके टॉप वेरिएंट में भी अलॉय व्हील की पेशकश नहीं की है। इसके फेंडर्स पर मिलने वाले छोटे टर्न इंडीकेटर्स 20-साल पुरानी मारुति जेन से लिए गए हैं जो मारुति की डिजाइनिंग पर कुछ सवाल तो जरूर खड़ा करते हैं। इसमें डोर काफी बड़े हैं जो एक अच्छी बात है। लेकिन इसमें साइड क्लैडिंग और व्हील आर्च क्लैडिंग की कमी है। यदि इसमें ये दोनों चीज़े होती तो शायद एस-प्रेसो और ज्यादा आकर्षक होती। हालांकि, मारुति ने कार की प्राइसिंग को कम से कम रखने के लिए इन फीचर्स को पेश नहीं किया है। लेकिन इच्छुक ग्राहक क्लैडिंग और अलॉय व्हील्स को एक्सेसरीज के रूप में मारुति से लगवा सकते हैं। ग्राहकों को अलॉय व्हील्स, डीआरएल और क्लैडिंग एक्सेसरीज के लिए लगभग 40,000 रुपये अधिक चुकाने होंगे। 

एस-प्रेसो की रियर डिज़ाइन भी काफी सिंपल है। इसमें भी फ्रंट की तरह ऊँचा ड्यूल टोन बम्पर मिलता है। इसकी टेललैंप में एलईडी एलिमेंट्स दिए गए हैं। कार का बूट गेट के बाएं निचले हिस्से पर 'एस-प्रेसो' की बैजिंग दी गई है। यदि यह बैजिंग बूटगेट के सेंटर में होती तो और अच्छा लगता। इसके अलावा, इस पर वेरिएंट बैजिंग नहीं दी गई है।      

साइज के लिहाज़ से एस-प्रेसो ऑल्टो से बड़ी है। यह अपने सेगमेंट में भी सबसे ऊंची कार है। लेकिन अन्य मामलों में रेनो क्विड एस-प्रेसो से आगे है। 

 साइज (मिलीमीटर में) मारुति एस-प्रेसो रेनो क्विड डैटसन रेडी-गो
लंबाई  3665 3731 3429
चौड़ाई  1520 1579 1560
ऊंचाई  1564 1490 1541
व्हीलबेस 2380 2422 2348

इंटीरियर

एस-प्रेसो के डोर काफी चौड़े खुलते हैं जिससे कार में बैठना और उतरना आसान है। वहीं, ऑल्टो और क्विड में बैठने के लिए आपको ज्यादा झुकना पड़ता है। कार में बैठते ही इसका सर्कुलर एलिमेंट्स वाला स्पोर्टी डैशबोर्ड आपका ध्यान अपनी ओर खींचने में कामयाब होता है। इसके डैशबोर्ड के सेंटर में डिजिटल इंस्ट्रूमेंट क्लस्टर दिया गया है। इंस्ट्रुंनेट क्लस्टर के नीचे वैगनआर वाला टचस्क्रीन इंफोटेनमेंट सिस्टम दिया गया है। इसके नीचे हजार्ड लैंप और फ्रंट पावर विंडो के स्विच दिए गए हैं। इस पूरे सेटअप के चारों ओर सर्कल दिया गया है जो मिनी कूपर कार की याद दिलाता है। यह सर्कल ऑरेंज एक्सटीरियर कलर के ऑरेंज कलर में आता है। वहीं, कोई अन्य एक्सटीरियर पेंट के साथ यह सर्कल सिल्वर कलर में आता है। इंटीरियर के प्लास्टिक की क्वालिटी और फिटिंग-फिनिशिंग इस सेगमेंट के हिसाब से अच्छी है। 

एस-प्रेसो की एक बात जो हमे बेहद अच्छी लगी वह ये कि छोटे साइज के होने के बावजूद भी इसमें अच्छा केबिन स्पेस मिलता है। यह छोटी फॅमिली के लिए एक अच्छी कार साबित होती सकती है। इसमें 6 फ़ीट के चार वयस्क लोग आसानी से बैठ सकते हैं। पांचवें पैसेंजर के तौर पर इसमें एक अवयस्क/बच्चा ही कम्फर्टेबल तरीके से बैठे सकेगा। एस-प्रेसो की चौड़ाई क्विड से 60 मिलीमीटर कम है लेकिन इसमें क्विड से अच्छा शोल्डर स्पेस मिलता है। फ्रंट में आप देखेंगे कि मारुति ने पावर विंडो के बटनों को डैशबोर्ड पर पोज़िशन किया है। साथ ही, डोर पैड को भी सकड़ा बनाया है जिससे फ्रंट में भी अच्छी चौड़ाई मिल पाती है। इसके अलावा, एस-प्रेसो में पर्याप्त मात्रा में हेडरूम भी मिलता है। लेकिन 6 फ़ीट से ज्यादा बड़े पैसेंजर/ड्राइवर को थोड़ी सी परेशानी हो सकती है क्योँकि इसकी फ्रंट सीट्स को थोड़ा उठा हुआ बनाया गया है। गौरतबल है कि ऑल्टो में एस-प्रेसो से ज्यादा हेडरूम मिलता है। 

फ्रंट सीट्स  एस-प्रेसो  क्विड ऑल्टो
हेडरूम 980 मिलीमीटर 950 मिलीमीटर 1020 मिलीमीटर
केबिन की चौड़ाई  1220 मिलीमीटर 1145 मिलीमीटर 1220 मिलीमीटर
नी-रूम (न्यूनतम)  590 मिलीमीटर 590 मिलीमीटर 610 मिलीमीटर
नी-रूम (अधिकतम) 800 मिलीमीटर 760 मिलीमीटर 780 मिलीमीटर
सीट बेस की लंबाई 475 मिलीमीटर 470 मिलीमीटर  -
बैकरेस्ट की ऊंचाई 660 मिलीमीटर 585 मिलीमीटर 640 मिलीमीटर

मारुति एस-प्रेसो में फैब्रिक सीटें दी गई है जो बेहद सॉफ्ट और सिटी राइड के लिए कम्फर्टेबल है। हालांकि, लंबी दूरी की यात्रा में आपको थोड़ा डिसकम्फर्ट अनुभव हो सकता है। इसके अलावा, एस-प्रेसो की सीटों की लंबाई भी थोड़ी ज्यादा होनी चाहिए थी। इसमें एडजस्टेबल हेडरेस्ट की भी कमी है। लेकिन इसके फिक्स-हेडरेस्ट गर्दन और सिर को अच्छा सपोर्ट देते है।

केबिन स्टोरेज स्पेस की बात करे तो, एस-प्रेसो के फ्रंट में पर्याप्त स्पेस मिलता है। इसके डैशबोर्ड पर एक छोटा ग्लव बॉक्स, एक ओपन स्टोरेज स्पेस, 1-लीटर बोतल व कुछ अन्य छोटी-मोटी चीज़ें रखने के लिए डोर पर स्टोरेज, सेंटर कंसोल पर दो कप होल्डर और ड्राइवर नी-साइड छोटा स्टोरेज मिलता हैं। रियर पैसेंजर के लिए सेंटर कंसोल टनल के अंतिम छोर पर एक छोटा स्पेस मिलता है। इसके अलावा, रियर पैसेंजर के लिए डोर होल्डर या सीटबैक पॉकेट जैसी सुविधाओं की कमी है।  

मारुति एस-प्रेसो की पिछली सीटों पर क्विड और ऑल्टो से अच्छा नी-रूम मिलता है। साथ ही इन सीटों पर 6 फ़ीट से ज्यादा ऊंचाई वाले पैसेंजर को भी पर्याप्त हेडरूम मिलता है। केवल एक कमी जो यहां खलती है वह ये कि फ्रंट की तरह इसकी पिछली सीटों पर भी फिक्स हेडरेस्ट मिलते हैं जो लम्बे व्यक्ति की गर्दन को उतना अच्छा सपोर्ट नहीं देते हैं।  

रियर सीट मारुति एस-प्रेसो  रेनो क्विड मारुति ऑल्टो
हेडरूम 920 मिलीमीटर 900 मिलीमीटर 920 मिलीमीटर
शोल्डर रूम  1200 मिलीमीटर 1195 मिलीमीटर 1170 मिलीमीटर
नी-रूम (न्यूनतम) 670 मिलीमीटर 595 मिलीमीटर 550 मिलीमीटर
नी-रूम (अधिकतम) 910 मिलीमीटर 750 मिलीमीटर 750 मिलीमीटर
आइडियल नी-रूम* 710 मिलीमीटर 610 मिलीमीटर 600 मिलीमीटर
सीट बेस की लंबाई 455 मिलीमीटर 460 मिलीमीटर 480 मिलीमीटर
बैकरेस्ट की ऊंचाई 550 मिलीमीटर 575 मिलीमीटर 510 मिलीमीटर

*फ्रंट सीट को 5'8" से 6' के पैसेंजर/ड्राइवर के अनुसार एडजस्ट करने पर। 

कुल मिलकर एस-प्रेसो में 5-सीटर की जगह 4-सीटर कार कहना सही होगा। क्योंकि इसमें चार वयस्क लोग कम्फर्टेबल होकर बैठ सकेंगे। रियर सीट पर तीन वयस्क लोगो को तंग होकर बैठना पड़ेगा।

मारुति एस-प्रेसो में 270-लीटर का बूटस्पेस मिलता है। इसमें दो मध्यम आकार के सूटकेस के अलावा कई अन्य छोटे मोटे समान या बैग को भी एक साथ रखा जा सकेगा।

टेक्नोलॉजी और फीचर्स

 

मारुति एस-प्रेसो के टॉप वेरिएंट में मैनुअल एसी, फ्रंट पावर विंडो, पावर स्टीयरिंग, स्टीयरिंग माउंटेड ऑडियो और टेलीफोनी कंट्रोल्स, 7-इंच का टचस्क्रीन इंफोटेनमेंट सिस्टम, एंड्रॉयड ऑटो और एप्पल कारप्ले कनेक्टिविटी का फीचर मिलता है। रेनो क्विड की तुलना में इसमें रिवर्स कैमरा, रियर पावर विंडो और रियर चार्जिंग सॉकेट जैसे फीचर्स की कमी है। कार का इंफोटेनमेंट सिस्टम का टच अच्छा है और इसे इस्तमाल करना भी आसान है। हालाँकि एंड्रॉइड ऑटो के माध्यम से फोन को कनेक्ट करने में काफी समय लेता है।

इसके फ्रंट में (डोर पर) दो स्पीकर्स दिए हैं जिनकी साउंड क्वालिटी शानदार है। इसके रियर डोर पर स्पीकर फिट करने के लिए कोई स्लॉट नहीं दिया गया है। ऐसे में आफ्टरमार्केट जो लोग कार में अतिरिक्त स्पीकर लगवाना चाहते हैं उन्हें रियर पार्सल ट्रे का इस्तमाल करना होगा।   

एस-प्रेसो में मिलने वाला मैनुअल एसी काफी अच्छे से काम करता है और बेहद कम समय में केबिन को ठंडा कर देता है। हमारे अनुसार यह किसी अन्य छोटी कार में मिलने वाले एयर कंडीशन सिस्टम से कही बेहतर है। हमने एस-प्रेसो को जोधपुर (राजस्थान) के तपते और उमस से भरे मौसम में टेस्ट किया लेकिन उसके बावजूद भी कार को केबिन चिल्ड़ करने में कोई समस्या नहीं हुई।

जैसा कि हमने पहले भी बताया एस-प्रेसो में स्पीडोमीटर, ओडोमीटर व फ्यूल गेज आदि डैशबोर्ड के सेंटर में मिलते हैं। ऐसे में जिन लोगो के पास कोई और कार भी है उन्हें एस-प्रेसो के इस सेटअप के साथ एडजस्ट होने में थोड़ा समय  लग सकता है। हालांकि यदि किसी के पास पहले ही टोयोटा इटिऑस, शेवरले स्पार्क, टाटा इंडिका विस्टा या मांजा में से कोई कार है तो उन्हें ज्यादा परेशानी नहीं होगी क्योंकि इन कारों में भी सेंट्रली-माउंटेड इंस्ट्रूमेंट क्लस्टर मिलता है/था। एस-प्रेसो में टेको मीटर नहीं दिया गया है।

हमारे अनुसार एस-प्रेसो को टेक्निकल और फीचर्स पॉइंट पर और बेहतर बनना चाहिए था। अगर मारुति अपनी इस कार में डे/नाईट मिरर, इलेक्ट्रिक ओ.आर.वी.एम. (आउटसाइड रियर व्यू मिरर), रियर वाइपर/वॉशर और रियर डिफॉगर, हाइट एडजस्टेबल ड्राइवर सीट और टिल्ट एडजस्टेबल स्टीयरिंग व्हील जैसे बेसिक फीचर्स और जोड़ देती तो कार की प्रैक्टिकल अप्रोच बढ़ जाती।

परफॉरमेंस

एस-प्रेसो में ऑल्टो के10 और वैगनआर वाला 1.0-लीटर, 3-सिलेंडर इंजन दिया गया है जो 5500आरपीएम पर 68पीएस की पावर और 3500आरपीएम पर 90एनएम का टॉर्क जनरेट करता है। मारुति ने इंजन से पैदा होने वाले वाइब्रेशन को काफी हद तक कंट्रोल किया है। लेकिन गलत गियर पर गलत स्पीड से कार चलने पर आपको जरूर केबिन में वाइब्रेशन महसूस होंगे। 

मारुति ने अपने इस जाने-माने इंजन को बीएस6 उत्सर्जन मानकों पर अपग्रेड कर पेश किया है। हालांकि, इन सख्त उत्सर्जन नॉर्म्स पर अपडेट होने के बावजूद भी इसकी परफॉर्मेंस में कोई अंतर नहीं आया है। यह शहर में शानदार प्रदर्शन करता है और दूसरे-तीसरे गियर में भी आप आसानी से सिटी ड्राइविंग कर सकते हैं।

 हाईवे पर, यह इंजन 80 से 100 किमी/घंटा की स्पीड आराम से पकड़ लेती है और तीन अंकों वाली स्पीड पर भी कार स्टेबल महसूस होती है। हालांकि, इसके सस्पेंशन को स्टिफ (हार्ड) रखा गया है लेकिन फिर भी कार की ज्यादा ऊंचाई के चलते हाई स्पीड पर बॉडी रोल होता है। ऐसे में तेज़ स्पीड पर ओवरटेक न करें।    

मैनुअल गियरबॉक्स से आपको कोई ख़ासा शिकायत नहीं होगी। हालांकि इसका गियर ट्रेवल थोड़ा ज्यादा है। बात करें एएमटी गियरबॉक्स की तो, इसकी परफॉर्मेंस सैंट्रो और क्विड की तुलना में अच्छी है। चूँकि यह ऑटोमैटिक गियरशिफ्ट करता है तो आपको बार-बार गियरबदलने और क्लच के इस्तमाल से राहत मिलती है। यह स्मूथ तरीके से ऑटोमैटिक गियर शिफ्टिंग करता है। हालांकि, पूरी तरह से आपको गियरशिफ्टिंग का पता नहीं चलेगा ऐसा भी नहीं है। साथ ही ओवरटेक के दौरान यह डाउनशिफ्टिंग में एक-दो सेकण्ड्स का टाइम भी लेता है। 

राइड और हैंडलिंग

एस-प्रेसों शहर में बेहद अच्छी राइड क्वालिटी और हैंडलिंग देती है। केबिन से रोड और आस-पास का अच्छा व्यू (विजिबिलिटी) मिलती है। कार के छोटे साइज लेकिन ज्यादा ऊंचाई और ग्राउंड क्लीयरेंस के चलते यह आसानी से स्पीड ब्रेकर्स या रोड की अन्य बाधाओं को पार कर लेती है और बिना गियर बदले आप वापस रेव कर सकते हैं। कार को छोटे तंग इलाको से भी निकालना आसान है। हालांकि, इसमें पतले टायर्स मिलते हैं जिसके चलते रोड पर इनकी पकड़ उतनी ज्यादा मजबूत नहीं होती। इसलिए हाई-स्पीड पर ब्रेकिंग न करें। इसके अलावा, जैसा की हमने भी बताया गाड़ी के सस्पेंशन को थोड़ा स्टिफ रखा गया है जिससे सिटी स्पीड पर राइड थोड़ी बाउंसी लगती है। लेकिन थोड़ी तेज़ स्पीड पर केबिन के अंदर बंप्स का पता नहीं चलता है।    

तीन अंकों की स्पीड पर भी कार सीधी रोड पर स्टेबल रहती है। लेकिन पतले टायर्स और बॉडी रोल के चलते तेज़ स्पीड पर शार्प टर्निंग या ओवरटेकिंग को भी अनदेखा करें।

एस-प्रेसो में ऑल्टो के10 और वैगनआर वाला 1.0-लीटर, 3-सिलेंडर इंजन दिया गया है जो 5500आरपीएम पर 68पीएस की पावर और 3500आरपीएम पर 90एनएम का टॉर्क जनरेट करता है। मारुति ने इंजन से पैदा होने वाले वाइब्रेशन को काफी हद तक कंट्रोल किया है। लेकिन गलत गियर पर गलत स्पीड से कार चलने पर आपको जरूर केबिन में वाइब्रेशन महसूस होंगे। 

मारुति ने अपने इस जाने-माने इंजन को बीएस6 उत्सर्जन मानकों पर अपग्रेड कर पेश किया है। हालांकि, इन सख्त उत्सर्जन नॉर्म्स पर अपडेट होने के बावजूद भी इसकी परफॉर्मेंस में कोई अंतर नहीं आया है। यह शहर में शानदार प्रदर्शन करता है और दूसरे-तीसरे गियर में भी आप आसानी से सिटी ड्राइविंग कर सकते हैं।

 हाईवे पर, यह इंजन 80 से 100 किमी/घंटा की स्पीड आराम से पकड़ लेती है और तीन अंकों वाली स्पीड पर भी कार स्टेबल महसूस होती है। हालांकि, इसके सस्पेंशन को स्टिफ (हार्ड) रखा गया है लेकिन फिर भी कार की ज्यादा ऊंचाई के चलते हाई स्पीड पर बॉडी रोल होता है। ऐसे में तेज़ स्पीड पर ओवरटेक न करें।    

मैनुअल गियरबॉक्स से आपको कोई ख़ासा शिकायत नहीं होगी। हालांकि इसका गियर ट्रेवल थोड़ा ज्यादा है। बात करें एएमटी गियरबॉक्स की तो, इसकी परफॉर्मेंस सैंट्रो और क्विड की तुलना में अच्छी है। चूँकि यह ऑटोमैटिक गियरशिफ्ट करता है तो आपको बार-बार गियरबदलने और क्लच के इस्तमाल से राहत मिलती है। यह स्मूथ तरीके से ऑटोमैटिक गियर शिफ्टिंग करता है। हालांकि, पूरी तरह से आपको गियरशिफ्टिंग का पता नहीं चलेगा ऐसा भी नहीं है। साथ ही ओवरटेक के दौरान यह डाउनशिफ्टिंग में एक-दो सेकण्ड्स का टाइम भी लेता है।

सुरक्षा

मारुति की इस माइक्रो-एसयूवी के सभी वेरिएंट्स में ड्राइवर साइड एयरबैग, एंटीलॉक ब्रेकिंग सिस्ट (एबीएस), इलेक्ट्रॉनिक ब्रेकफोर्स डिस्ट्रीब्यूशन (ईबीडी), रिवर्स पार्किंग सेंसर, फ्रंट सीटबेल्ट रिमाइंडर और हाई स्पीड अलर्ट सिस्टम जैसे फीचर्स मिलते हैं। वहीं, वीएक्सआई+ वेरिएंट में पैसेंजर साइड एयरबैग अतिरिक्त मिलता है। हालांकि, अन्य वेरिएंट्स में भी पैसेंजर साइड एयरबैग का ऑप्शन मिलता है लेकिन इसके लिए ग्राहकों को 6,000 रुपये की अतिरिक्त राशि चुकानी होगी। हम आपको सलाह देंगे की आप पैसेंजर साइड एयरबैग का ऑप्शन जरूर चुनें।  

एस-प्रेसो को क्रैश टेस्ट नॉर्म्स के अनुसार तैयार किया गया है। हालांकि, एनकैप द्वारा अब तक इसका क्रैश टेस्ट नहीं किया गया है।  

वेरिएंट

मारुति एस-प्रेसो कुल तीन वैरिएंट: एलएक्सआई, वीएक्सआई और वीएक्सआई+ में उपलब्ध है। इसके टॉप वेरिएंट - वीएक्सआई+ को छोड़कर अन्य सभी वेरिएंट ऑप्शन (ओ) सब-वेरिएंट में भी आते हैं। इन ऑप्शनल वेरिएंट के साथ पैसेंजर एयरबैग और फ्रंट सीटबेल्ट्स में प्रीटेशनर व फ़ोर्स लिमिटर जैसे सेफ्टी फीचर अतिरिक्त मिलते हैं।  

आपको बता दें कि एस-प्रेसो के बेस वेरिएंट - एलएक्सआई में फ्रंट पावर विंडो, पावर स्टीयरिंग और एसी जैसे बेसिक फीचर्स की कमी है। ऐसे में आप इस वेरिएंट को भूल ही जाएं तो बेहतर है। यदि आपका बजट कम है तो आप एलएक्सआई (ओ) वेरिएंट ले सकते हैं इसमें ऊपर बताए गए अतिरिक्त सेफ्टी फीचर्स के अलावा एसी और पावर स्टीयरिंग भी मिल जाता है। इसके अलावा, वीएक्सआई (ओ) और वीएक्सआई+ में से हम आपको अपना बजट थोड़ा बढ़ाकर वीएक्सआई+ लेने की सलाह देंगे क्योंकि इसमें इंटरनली एडजस्टेबल आउटसाइड रियर व्यू मिरर (ओआरवीएम), टचस्क्रीन इंफोटेनमेंट सिस्टम और स्टीयरिंग माउंटेड ऑडियो कंट्रोल जैसे फीचर्स भी मिलते हैं।  

निष्कर्ष

क्या मारुति एस-प्रेसो छोटी सिटी कार की परिभाषा को नई पहचान देती हैं? पूरी तरह से नहीं। हाँ, लेकिन यह एक सस्ती हैचबैक कार से हर मामले में बेहतर साबित होती है। यह एंट्री-लेवल सेगमेंट में सबसे ज्यादा स्पेशियस कार है। कार का बूट भी छोटी फॅमिली के लिए पर्याप्त है। यह पूरा पैकेज मारुति के भरोसेमंद 1.0-लीटर पेट्रोल इंजन के साथ आता है जिसकी परफॉरमेंस बेहद अच्छी है। इंजन के साथ एएमटी गियरबॉक्स का भी ऑप्शन मिलता है जो आपको बार-बार गियर बदलने के झंझट से आजादी देता है। हमारे अनुसार पहली बार कार खरीदने वालो के लिए मारुति एस-प्रेसो एक अच्छा विकल्प है। 

हालांकि, एस-प्रेसो की डिज़ाइन उस प्रकार की नहीं है जिसे सब पसंद कर सकें। इस मामले में एस-प्रेसो के मुकाबले वाली रेनो क्विड कहीं आगे है। इसके अलावा, फीचर्स और प्राइसिंग के मोर्चे पर भी रेनो क्विड ज्यादा वैल्यू-फॉर-मनी लगती है। इसके अलावा एस-प्रेसो ना खरीदने का एक और कारण मारुति वैगनआर है। क्योंकि मारुति एस-प्रेसो 3.69 लाख से 4.91 लाख रुपये (एक्स-शोरूम दिल्ली) की प्राइस रेंज में उपलब्ध है। इस लिहाज़ से इसकी कीमत मारुति वैगनआर के काफी करीब है। ग्राहक अपने बजट को 50 से 70 हज़ार रुपये और बढ़ाकर (यानि मासिक ईएमआई में 1000-1500 रुपये का इज़ाफ़ा) एस-प्रेसो से बड़ी और बेहतर कार के रूप में वैगनआर ले सकते हैं।     

मारुति एस-प्रेसो की खूबियां और खामियां

पसंद की जाने वाली चीज़े

  • अच्छा स्पेस: 6-फुट की ऊंचाई वाले चार जाने कम्फर्टेबल होकर बैठ सकते हैं।
  • सिटी कंडीशन में इंजन की शानदार परफॉर्मेंस
  • 270-लीटर का स्पेशियस बूट

नापसंद की जानें वाली चीज़ें

  • रियर पावर विंडो, बोत्तल होल्डर जैसे कई अन्य बेसिक फीचर्स की कमी
  • 100 से ज्यादा की स्पीड पर पतले व्हील्स के चलते ओवरटेकिंग, शार्प टर्निंग या इमरजेंसी ब्रेकिंग खतरनाक साबित हो सकती है। 
  • फीचर्स के अनुसार ज्यादा कीमत (ओवरप्राइसड) 

फीचर जो बनाते हैं खास

  • मारुति एस-प्रेसो की खूबियां और खामियां

    एंड्रॉइड ऑटो और एप्पल कारप्ले से लैस 7-इंच का टचस्क्रीन इंफोटेनमेंट सिस्टम

  • मारुति एस-प्रेसो की खूबियां और खामियां

    सेगमेंट में पहली बार स्टीयरिंग माउंटेड ऑडियो कन्ट्रोल्स का फीचर

  • मारुति एस-प्रेसो की खूबियां और खामियां

    पावरफूल एयर कंडीशनिंग सिस्टम 

space Image

मारुति एस-प्रेसो यूज़र रिव्यू

4.4/5
पर बेस्ड183 यूजर रिव्यू
  • All (195)
  • Looks (86)
  • Comfort (33)
  • Mileage (33)
  • Engine (28)
  • Interior (24)
  • Space (17)
  • Price (36)
  • More ...
  • नई
  • उपयोगी
  • VERIFIED
  • CRITICAL
  • Awesome Car

    This car is very good in the internal we have a good space and from the front side looking like a Brezza. The car parking need some space and comfortable driving in the c...और देखें

    द्वारा ajay
    On: Jun 09, 2020 | 13730 Views
  • New Generation Car

    Awesome car with the best engine performance and CNG. Overall, the mileage in the city is 30km.

    द्वारा sourav hossain
    On: Jul 07, 2020 | 33 Views
  • Value For Money

    I just want to share my experience and advantages of this car- 1) The front side of the car is more visible for drivers, since it will more helpful during city ride, 2)...और देखें

    द्वारा selva ganesh
    On: Jun 01, 2020 | 12794 Views
  • Good Car For Middle Class Family

    Really it's a very good car for the middle class family, good driving experience, and comfort road and clarence also good.

    द्वारा suresh
    On: Jun 01, 2020 | 97 Views
  • Good In Performance

    Overall, good car and unexpected mileage 22. Good in hill claiming with smooth engine and good for long drives.

    द्वारा swapnil
    On: Jun 01, 2020 | 56 Views
  • सभी एस-प्रेसो रिव्यूज देखें
space Image

मारुति एस-प्रेसो वीडियोज़

  • Maruti Suzuki S-Presso Variants Explained (in Hindi); Which One To Buy?
    6:30
    Maruti Suzuki S-Presso Variants Explained (in Hindi); Which One To Buy?
    nov 04, 2019
  • Maruti Suzuki S-Presso First Drive Review | Price, Features, Variants & More | CarDekho.com
    11:14
    Maruti Suzuki S-Presso First Drive Review | Price, Features, Variants & More | CarDekho.com
    oct 07, 2019
  • Maruti Suzuki S-Presso Pros & Cons | Should You Buy One?
    4:20
    Maruti Suzuki S-Presso Pros & Cons | Should You Buy One?
    nov 01, 2019
  • Maruti S-Presso vs Renault Kwid | AMT Comparison | ZigWheels.com
    11:37
    Maruti S-Presso vs Renault Kwid | AMT Comparison | ZigWheels.com
    dec 09, 2019
  • Maruti Suzuki S-presso : The Bonsai Car : PowerDrift
    6:54
    Maruti Suzuki S-presso : The Bonsai Car : PowerDrift
    nov 06, 2019

मारुति एस-प्रेसो कलर

  • सॉलिड फायर रेड
    सॉलिड फायर रेड
  • मैटेलिक ग्रेफाइट ग्रे
    मैटेलिक ग्रेफाइट ग्रे
  • सॉलिड सुपीरियर व्हाइट
    सॉलिड सुपीरियर व्हाइट
  • मैतेलिक सिल्की सिल्वर
    मैतेलिक सिल्की सिल्वर
  • सॉलिड सिज़ल ऑरेंज
    सॉलिड सिज़ल ऑरेंज
  • पर्ल स्टारी ब्लू
    पर्ल स्टारी ब्लू

मारुति एस-प्रेसो फोटो

  • तस्वीरें
  • Maruti S-Presso Front Left Side Image
  • Maruti S-Presso Side View (Left)  Image
  • Maruti S-Presso Rear Left View Image
  • Maruti S-Presso Front View Image
  • Maruti S-Presso Rear view Image
  • Maruti S-Presso Grille Image
  • Maruti S-Presso Front Fog Lamp Image
  • Maruti S-Presso Headlight Image
space Image

मारुति एस-प्रेसो न्यूज़

मारुति एस-प्रेसो रोड टेस्ट

space Image

और ऑप्शन देखें

मारुति एस-प्रेसो पर अपना कमेंट लिखें

12 कमेंट्स
1
A
ankur sharma
Jun 9, 2020 9:16:21 PM

What is the current june 2020 offer for spresso vxi?

    जवाब
    Write a Reply
    1
    S
    shivram singh
    Jun 1, 2020 6:32:57 PM

    Insurance kitne saal ka hoga

      जवाब
      Write a Reply
      1
      a
      anser raguman
      Dec 3, 2019 11:55:59 AM

      Insiyal amount

        जवाब
        Write a Reply
        space Image
        space Image

        भारत में मारुति एस-प्रेसो की कीमत

        सिटीएक्स-शोरूम कीमत
        मुंबईRs. 3.7 - 5.13 लाख
        बैंगलोरRs. 3.7 - 5.13 लाख
        चेन्नईRs. 3.7 - 5.13 लाख
        हैदराबादRs. 3.7 - 5.13 लाख
        पुणेRs. 3.7 - 5.13 लाख
        कोलकाताRs. 3.7 - 5.13 लाख
        कोच्चिRs. 3.69 - 5.13 लाख
        अपना शहर चुनें
        space Image

        ट्रेंडिंग मारुति कारें

        • पॉपुलर
        • अपकमिंग
        • सभी कारें
        ×
        आपका शहर कौन सा है?