• लॉगिन / रजिस्टर

क्रैश टेस्ट में हुंडई ग्रैंड आई10 निओस को मिली 2-स्टार सेफ्टी रेटिंग

प्रकाशित: नवंबर 12, 2020 12:41 pm । सोनूहुंडई ग्रैंड आई10 निओस

  • 645 व्यूज़
  • Write a कमेंट

  • ग्लोबल एनकैप ने ग्रैंड आई10 निओस के मिड वेरिएंट स्पोर्ट्ज का क्रैश टेस्ट किया है।
  • व्यस्क और चाइल्ड पैसेंजर की सेफ्टी के लिए इसे 2-स्टार रेटिंग मिली है।
  • सेफ्टी के लिए इसमें ड्यूल एयरबैग, प्रीटेंशनर के साथ सीटबेल्ट और लोड लिमिटर जैसे फीचर दिए गए हैं।
  • टाटा नेक्सन, अल्ट्रोज और महिंद्रा एक्सयूवी300 ही एकमात्र मेड इन इंडिया कार हैं जिन्हें 5-स्टार सेफ्टी रेटिंग दी गई है।

ग्लोबल एनकैप ने अपने #SaferCarsForIndia कैंपेन के तहत इस बार हुंडई ग्रैंड आई10 निओस का क्रैश टेस्ट किया है, जिसमें इस कार को व्यस्क और चाइल्ड पैसेंजर की सेफ्टी के लिए 2-स्टार रेटिंग मिली है। साल 2018 में इसके कंपेरिजन वाली मारुति स्विफ्ट को भी इतनी ही सेफ्टी रेटिंग मिली थी।

ग्लोबल एनकैप ने ग्रैंड आई10 निओस के मिड वेरिएंट स्पोर्ट्ज का क्रैश टेस्ट किया है। पैसेंजर की सेफ्टी के लिए इस कार में ड्यूल एयरबैग, ईबीडी के साथ एबीएस और रियर पार्किंग सेंसर जैसे फीचर्स सभी वेरिएंट में स्टैंडर्ड रखे गए हैं, जबकि स्पोर्ट्ज वेरिएंट में फ्रंट सीटबेल्ट प्रीटेंशनर, लोड लिमिटर, रियर पार्किंग कैमरा, स्पीड सेंसिंग और इंपेक्ट सेंसिंग डोर लॉक/अनलॉक जैसे कुछ अतिरिक्त फीचर भी मिलते हैं। व्यस्क पैसेंजर की सुरक्षा के लिए इस हुंडई कार को 17 में से 7.05 पॉइंट और चाइल्ड पैसेंजर की सुरक्षा के लिए 49 में से 15 पॉइंट मिले हैं। 

यह भी पढ़ें : क्रैश टेस्ट में किया सेल्टोस को मिली 3-स्टार रेटिंग

ग्रैंड आई10 निओस को 64 किलोमीटर प्रति घंटा की स्पीड पर क्रैश टेस्ट किया गया, जिसमें इस हैचबैक कार की बॉडी और फुटवेल एरिया अस्थिर पाया गया। ग्लोबल एनकैप के अनुसार क्रैश टेस्ट में इस कार में व्यस्क पैसेंजर की डमी के सिर और गर्दन को नुकसान पहुंचने की संभावनाएं कम रही। वहीं ड्राइवर की चेस्ट का प्रोटेक्शन ज्यादा खास नहीं रहा। इसी तरह ड्राइवर के घुटनों का प्रोटेक्शन ठीक-ठाक जबकि पैसेंजर के घुटनो का प्रोटेक्शन औसत रहा।

ग्रैंड आई10 निओस में आईएसओफिक्स चाइल्ड सीट एंकर और सीआरएस का अभाव है। इसमें तीन साल के बच्चे की डमी को सीटबेल्ट लगाकर आगे की तरफ मुहं करके बैठाया गया था। आगे से टक्कर लगने की स्थिति में बच्चे की डमी की चेस्ट को नुकसान पहुंचने की संभावनाएं रही। वहीं 18 महीने के व्यक्ति की डमी का चेस्ट प्रोटेक्शन अच्छा रहा।

यह भी पढ़ें : ग्लोबल एनकैप क्रैश टेस्ट में मारुति एस-प्रेसो को मिली इतनी रेटिंग

द्वारा प्रकाशित
was this article helpful ?

0 out ऑफ 0 found this helpful

हुंडई ग्रैंड आई10 निओस पर अपना कमेंट लिखें

Read Full News

कंपेयर करने के लिए मिलती-जुलती कारें

एक्स-शोरूम कीमत नई दिल्ली
×
आपका शहर कौन सा है?