भारत एनकैप क्रैश टेस्ट देश में बिकने वाली कारों के लिए नहीं होना चाहिए अनिवार्य : मारुति सुजुकी चेयरमैन आरसी भार्गव

संशोधित: जून 29, 2022 05:32 pm | स्तुति

  • 1459 व्यूज़
  • Write a कमेंट

Bharat NCAP Should Not Be Mandatory, Says Maruti Suzuki Boss RC Bhargava

  • मारुति सुजुकी के चेयरमैन आरसी भार्गव का कहना है कि भारत में बिकने वाली सभी कारों के लिए भारत एनकैप अनिवार्य नहीं होना चाहिए।  

  • उनका मानना है कि एनकैप रेटिंग से केवल अमीर लोगों को ही फायदा मिलेगा।  

  • अच्छी रेटिंग के लिए एक कार में छह एयरबैग्स, ईएससी, सभी पैसेंजर के लिए थ्री-पॉइंट सीटबेल्ट और पेडेस्ट्रियन प्रोटेक्शन जैसे फीचर्स का होना बेहद जरूरी है।

  • इन सभी फीचर्स के शामिल होने से खासकर एंट्री लेवल मॉडल्स की कीमतें बढ़ जाएंगी। 

केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी ने भारत एनकैप के क्रैश टेस्ट रेटिंग को लेकर तैयार किए गए ड्राफ्ट नोटिफिकेशन को हाल ही में मंजूरी दी है। भारत में बिकने वाली सभी कारों को अब अनिवार्य रूप से देश में ही आयोजित किए जाने वाले क्रैश टेस्ट से गुजरना होगा। सरकार का कहना है कि इससे खरीदारों को कार की सेफ्टी रेटिंग के बारे में पहले से ही पता चल सकेगा। 

मारुति सुजुकी के चेयरमैन आरसी भार्गव ने हाल ही में एक इंटरव्यू के दौरान कहा कि भारत में बिकने वाली सभी कारों के लिए भारत एनकैप अनिवार्य नहीं होना चाहिए। उनका यह भी कहना है कि “भारत यूरोपियन मार्केट से अलग है और हम यहां यूरोप वाले रोड सेफ्टी नियमों का पालन नहीं कर सकते हैं। भार्गव ने अपने स्टेटमेंट में यह भी कहा कि 'एनकैप रेटिंग से केवल अमीर कार खरीदारों को ही फायदा मिलेगा।"

भारत एनकैप क्रैश टेस्ट में अच्छी रेटिंग हासिल करने के लिए एक कार में छह एयरबैग्स, ईएससी, सभी पैसेंजर के लिए थ्री-पॉइंट सीटबेल्ट और पेडेस्ट्रियन प्रोटेक्शन जैसे फीचर्स का होना बेहद जरुरी है। इस टेस्ट से एडल्ट और चाइल्ड सेफ्टी प्रोटेक्शन और सेफ्टी असिस्ट टेक्नोलॉजी जैसे एडीएएस को लेकर जानकारी भी मिल सकेगी। 

maruti six airbags

छह एयरबैग्स अनिवार्य होने से कारों की कीमतें भी बढ़ सकती हैं। कई मॉडल्स में चार एयरबैग्स को जोड़ने के साथ बॉडी से जुड़े कई मॉडिफिकेशन्स भी करने होंगे, ऐसा करने से एंट्री लेवल अफोर्डेबल मॉडल्स महंगे हो जाएंगे। 

ग्लोबल एनकैप के #SaferCarsForIndia केम्पेन को लेकर लागू नियम भी जुलाई 2022 से और सख्त हो जाएंगे। ऐसे में एक कार के लिए 5-स्टार सेफ्टी रेटिंग हासिल करना बेहद मुश्किल हो जाएगा। भारत एनकैप के टेस्टिंग प्रोटोकॉल ग्लोबल क्रैश टेस्ट के नियमों के अनुरूप होंगे।

यह भी पढ़ें : भारत एनकैप को सरकार से मिली मंजूरी, 2023 के अंत तक देश में ही शुरू होगा कारों का क्रैश टेस्ट

द्वारा प्रकाशित
was this article helpful ?

0 out ऑफ 0 found this helpful

Write your कमेंट

Read Full News
  • ट्रेंडिंग
  • हाल का

ट्रेंडिंगकारें

  • लेटेस्ट
  • अपकमिंग
  • पॉपुलर
×
We need your सिटी to customize your experience