• लॉगिन / रजिस्टर

फॉक्सवेगन पोलो को जल्द मिलेगा नया अपडेट

संशोधित पर May 15, 2019 11:40 AM द्वारा Bhanu for फॉक्सवेगन पोलो 2015-2019

  • 378 व्यूज़
  • Write a कमेंट

भारत में फॉक्सवेगन पोलो का पांचवां जनरेशन मॉडल बिक्री के लिए उपलब्ध है। 2022 से पहले छठीं जनरेशन पोलो के भारत में लॉन्च होने की कोई उम्मीद नहीं है। लेकिन तब तक के लिए कंपनी पोलो को कुछ नए बदलावों के साथ अपडेट करेगी। हाल ही में पोलो के इस अपडेटेड मॉडल की कुछ तस्वीरें लीक हुुई हैं, जिससे पोलो में होने वाले नए बदलावों की महत्वपूर्ण जानकारियां हाथ लगी हैं। 

पोलो के टेस्टिंग मॉडल के अगले और पिछले हिस्से को काफी हद तक कवर किया हुआ था। हालांकि इसके बावजूद भी इसमें हुए बदलावों के बारे में अंदाजा लगाना आसान है। कंपनी ने नई पोलो में नए डिज़ाइन का रियर बम्पर और टेललैंप दी है। दोनों की डिज़ाइन 2017 में लॉन्च हुए लिमिटेड एडिशन पोलो जीटीआई की तरह है। बता दें कि भारतीय बाजार में फॉक्सवेगन पोलो जीटीआई के केवल 100 यूनिट ही उतारे गए थे। उम्मीद की जा रही है कि कार के फ्रंट बंपर को भी बदला जाएगा। नए बम्पर की डिज़ाइन भी पोलो जीटीआई के बंपर के समान ही होगी। पोलो में जीटीआई मॉडल वाले डे-टाइम रनिंग लैंप से लैस एलईडी हैडलैंप भी दिए गए हैं। ऐसे ही हैडलैंप फॉक्सवेगन वेंटो में भी मिलते हैं। गाड़ी के इंटीरियर से जुड़ी तस्वीरें कैमरे में कैद नहीं हो पाई है। माना जा रहा है कि कार के केबिन में भी मामूली बदलाव देखने को मिल सकते हैं। 

पोलो फेसलिफ्ट में कॉस्मैटिक अपडेट के साथ कंपनी कार के इंजन में भी थोड़े बदलाव कर सकती है। इस लिहाज से पोलो के 1.0-लीटर पेट्रोल इंजन को बीएस-6 मानदंडो के अनुसार अपग्रेड किया जा सकता है। यह 1.0-लीटर नैचुरली एस्पिरेटेड पेट्रोल इंजन 76 पीएस की पावर और 95 एनएम का टॉर्क जनरेट करने में सक्षम है। यह इंजन 5-स्पीड मैनुअल गियरबॉक्स के साथ आता है। दूसरी ओर, बीएस-6 मानदंड लागू होने के बाद कंपनी इसके 1.5 लीटर डीजल इंजन को बंद कर देगी। इसके अलावा, कंपनी पोलो जीटी टीएसआई के 1.2-लीटर टर्बो पेट्रोल इंजन को भी बंद कर सकती है। इसकी जगह कार में 1.0-लीटर टर्बो पेट्रोल इंजन दिया जा सकता है, जिसे भारत में ही तैयार किया जाएगा। 

जैसा कि हमने पहले भी बताया है कि बीएस6 मानदंड लागू होने के बाद पोलो जीटी टीएसआई मॉडल में 1.0-लीटर टर्बो पेट्रोल इंजन दिया जा सकता है। यूरोपियन बाजार में उपलब्ध पोलो के पांचवे जनरेशन मॉडल में यही इंजन मिलता था। यूरोप में यह इंजन दो पावर ट्यूनिंग में उपलब्ध था, इनमे क्रमश: 95पीएस/175एनएम और 114पीएस/175एनएम शामिल हैं। इस इंजन के साथ मैनुअल और ड्यूल क्लच गियरबॉक्स दोनों का विकल्प मिलता था। फॉक्सवेगन भारत में इस इंजन का सीएनजी वर्जन भी पेश करने की योजना बना रही है। 

पोलो के साथ साथ कंपनी वेंटो सेडान को भी इन्हीं कॉस्मैटिक बदलावों के साथ उतार सकती है। दोनों कारों को 2019 की दूसरी छमाही में लॉन्च किया जा सकता है। मौजूदा मॉडल के मुकाबले पोलो फेसलिफ्ट की कीमत में थोड़ा इजाफा होने के आसार हैं। वर्तमान में पोलो की कीमत 5.71 लाख रुपए से लेकर 9.72 लाख रूपए (एक्स-शोरूम, दिल्ली) है। 

फॉक्सवेगन पोलो के छठें जनरेशन मॉडल को एमक्यूबी-ए0 प्लेटाफॉर्म पर बनाया गया है। फॉक्सवेगन के इंडिया 2.0 बिजनेस प्लान के तहत इस प्लेटफॉर्म को भारत में तैयार किया जा रहा है। इस प्लेटफॉर्म पर पहले प्रॉडक्ट के रूप में स्कोडा और फॉक्सवेगन की नई एसयूवी कारें होंगी। ये दोनों कारें 2021 तक लॉन्च हो सकती हैं। इसके बाद  वेंटो और रैपिड के रिप्लेसमेंट मॉडल को भी इसी प्लेटफार्म पर तैयार किया जाएगा, जिनके 2022 तक लॉन्च होने की संभावना है। ऐसे में उम्मीद है कि फॉक्सवेगन पोलो का नया जनरेशन मॉडल 2022 तक ही भारत में बिक्री के लिए उपलब्ध हो सकेगा। 

यह भी पढ़ें: जानिये, स्कोडा कामिक से जुड़ी पांच अहम बातें

द्वारा प्रकाशित

फॉक्सवेगन Polo 2015-2019 पर अपना कमेंट लिखें

Read Full News
×
आपका शहर कौन सा है?