• लॉगिन / रजिस्टर

मिलिये फॉक्सवेगन की नई पोलो हैचबैक से...

प्रकाशित पर jun 19, 2017 02:13 pm द्वारा raunak for फॉक्सवेगन पोलो 2015-2019

  • 10 व्यूज़
  • Write a कमेंट

फॉक्सवेगन ने बर्लिन में आयोजित एक स्पेशल इवेंट के दौरान नई पोलो हैचबैक से पर्दा उठाया है, नई पोलो को इसी साल के अंत तक लैटिन अमेरिका और चीन सहित कई यूरोपीय देशो में उतारा जाएगा।

भारतीय बाजार को लेकर अभी कंपनी ने कोई जानकारी नहीं दी है, कयास लगाए जा रहे हैं कि भारत में नई पोलो को साल 2018 के अंत तक उतारा जा सकता है। क्या खासियतें समाई हैं नई पोलो हैचबैक में, जानेंगे यहां...

 

कद-काठी

  • लंबाई: 4053 एमएम (पुरानी पोलो से 81 एमएम ज्यादा लंबी)
  • चौड़ाई: 1751 एमएम (पुरानी पोलो से 69 एमएम ज्यादा चौड़ी)
  • ऊंचाई: 1446 एमएम (पुरानी पोलो से 7 एमएम कम ऊंची)
  • व्हीलबेस: 2564 एमएम (पुरानी पोलो से 94 एमएम ज्यादा बड़ा व्हीलबेस)
  • बूट स्पेस: 351 लीटर (पुरानी पोलो से 71 लीटर ज्यादा बड़ा बूट स्पेस)

अगर नई पोलो भारत आती है तो यहां इसकी लंबाई 4-मीटर के दायरे में रहेगी, कुछ ऐसी ही रणनीति होंडा ने जैज़ के साथ भी अपनाई थी, होंडा ने जैज़ को कम टैक्स के दायरे में लाने के लिए इसके बंपर की चौड़ाई को कम किया था।

प्लेटफार्म

छठवीं जनरेशन की पोलो हैचबैक को फॉक्सवेगन ग्रुप के मॉड्यूलर ट्रांसवर्स मैट्रिक्स (एमक्यूबी) प्लेटफार्म पर तैयार किया गया है, इस प्लेटफार्म पर बनने वाली सबसे पहली छोटी कार सिएट इबिजा थी, जिसे कंपनी ने जिनेवा मोटर शो-2017 में पेश किया था, इस प्लेटफार्म पर बनने वाली 2018 पोलो, फॉक्सवेगन की पहली छोटी कार होगी, दूसरी जनरेशन की वेंटो/पोलो सेडान भी इसी प्लेटफार्म पर बनी होंगी।

 

डिजायन

छठवीं जनरेशन की पोलो हैचबैक पहले से ज्यादा आकर्षक है, इसे फॉक्सवेगन के मॉड्यूलर ट्रांसवर्स मैट्रिक्स (एमक्यूबी) प्लेटफार्म पर तैयार किया गया है। आज के ट्रेंड को भांपते हुए कंपनी ने इसकी लंबाई और चौड़ाई को बढ़ाया है।

 

2018 पोलो में फॉक्सवेगन की पारंपरिक ग्रिल दी गई है, इसके दोनों ओर आयताकार डिजायन वाले एलईडी हैडलैंप्स दिए गए हैं, इन में डे-टाइन रनिंग एलईडी लाइटें भी लगी हैं, संभावना हैं कि ये टर्न इंडिकेटर्स का भी काम करेंगी।

 

डे-टाइम रनिंग लाइटों का डिजायन फॉक्सवेगन की मौजूदा कारों जैसा है, ये ग्रिल में लगी क्रोम स्लेट में जाकर मिल जाती है।

 

अब आते हैं साइड वाले हिस्से की तरफ, साइड में कई कर्व लाइनें दी गई हैं, इन में से एक तो हैडलैंप्स से शुरू होती है और विंडो लाइन में जाकर मिल जाती है। दूसरी कर्व लाइन ए पिलर से शुरू होती है और पूरी कार के चारों ओर जाती है।

 

डिजायन को आसानी से समझा जा सके इसके लिए कंपनी ने एरो शेप वाली टोर्नडो डबल साइड शोल्डर लाइन दी है।

 

टॉर्नेडो लाइन पीछे वाले हिस्से से शुरू होकर आगे वाले फेंडर तक जाती है। टॉर्नेडो लाइन नई पोलो को अलग और हैवी बनाती है।

 

नई पोलो का ए पिलर पहले से ज्यादा झुका हुआ है, इस वजह से इस में बड़ी कार वाला अहसास आता है। इसके आगे वाले व्हील आर्च भी बड़े और चौड़े हैं, इन में पुरानी बीएमडब्ल्यू 3-सीरीज की झलक दिखाई देती है।

 

अब चलते हैं पीछे वाले हिस्से की तरफ, यहां पर पोलो की पहचान रही चौकोर टेललैंप्स और बंपर माउंटेड लाइसेंस प्लेट को पहले की तरह बरकरार रखा गया है। इस में नई कर्व लाइन दी गई है, जो इसकी एक टेललैंप्स को दूसरी टेललैंप्स से जोड़ती है।

 

नई पोलो हैचबैक का केबिन टी-क्रॉस ब्रीज़ एसयूवी के प्रोडक्शन वर्जन जैसा होगा।

 

फीचर

  • फुल एलईडी हैडलैंप्स के साथ डे-टाइम रनिंग एलईडी लाइटें और एलईडी टेललैंप्स

  • बड़ी पैनारोमिक सनरूफ
  • 18 इंच के अलॉय व्हील (पोलो जीटीआई)

  • सेगमेंट फर्स्ट फीचर के तौर पर नई पोलो में फॉक्सवेगन का नया फुल डिजिटल इंस्ट्रूमेंट क्लस्टर दिया गया है, कंपनी ने इसे एक्टिव इंफो डिस्प्ले नाम दिया है, इसे ऑडी के वर्चुअल कॉकपिट की तरह कस्टमाइज किया जा सकता है।

  • फॉक्सवेगन का नया इंफोटेंमेंट सिस्टम (6.5 इंच से 8 इंच)

  • पुरानी पोलो से मिलता-जुलता डी-शेप वाला फ्लैट-बोटम स्टीयरिंग व्हील

  • एयर केयर क्लाइमेट्रॉनिक सिस्टम के साथ एयर क्वालिटी सेंसर और एलर्जीन फिल्टर
  • वायरलैस स्मार्टफोन चार्जिंग

  • पेसिव की-लैस एंट्री के साथ पुश-बटन इंजन स्टार्ट स्टॉप

  • 14 बॉडी कलर और 13 डैशपेड कलर का विकल्प

  • बीट्स वाला 300 वॉट का साउंड सिस्टम (ओप्शनल)
  • यूरोपीय मॉडल में एक्टिव सेफ्टी टेक और कंफर्ट फीचर के तौर पर फ्रंट असिस्ट, सिटी इमरजेंसी ब्रेकिंग, पैदल यात्रियों की निगरानी करने वाला पैडरेशन मॉनिटरिंग, एक्टिव क्रूज़ कंट्रोल और पार्क असिस्टम समेत कई फीचर दिए गए हैं।

इंजन

नई पोलो के यूरोपीय मॉडल में नौ इंजन का विकल्प मिलेगा।

  • पेट्रोल: 1.0 लीटर एमपीआई इंजन दो पोवर ट्यूनिंग (65 पीएस और 75 पीएस), 1.0 लीटर टीएसआई इंजन दो पावर ट्यूनिंग (95 पीएस और 115पीएस), नया 1.5 लीटर टीएसआई ईवीओ (150पीएस) (एक्टिव सिलेंडर डिएक्टीवेशन के साथ) और पोलो जीटीआई में 2.0 लीटर टीएसआई इंजन (200पीएस) की पावर के साथ आएगा।

 

  • डीज़ल: 1.6 लीटर टीडीआई इंजन दो पावर ट्यूनिंग 80 पीएस और 95 पीएस के साथ आएगा।
  • सीएनजी: 1.0 लीटर टीजीआई, 90 पीएस की पावर के साथ आएगा।
  • ट्रांसमिशन: 5-स्पीड मैनुअल, 6-स्पीड मैनुअल और 7-स्पीड ड्यूल-क्लच ऑटोमैटिक (डीएसजी) गियरबॉक्स का विकल्प मिलेगा।

 

भारत आने वाली नई पोलो हैचबैक में 1.0 लीटर टीएसआई (95 पीएस और 115 पीएस) और 1.5 लीटर टीडीआई डीज़ल इंजन (90 पीएस और 110 पीएस) की पावर के साथ आ सकता है।

यह भी पढें : फिएट ने उठाया एर्गो हैचबैक से पर्दा, लेगी पुंटो की जगह

द्वारा प्रकाशित

फॉक्सवेगन पोलो 2015-2019 पर अपना कमेंट लिखें

Read Full News
  • ट्रेंडिंग
  • हाल का
×
आपका शहर कौन सा है?