• लॉगिन / रजिस्टर

डिजायर के टॉप वेरिएंट से महंगी हो सकती है मारूति की अपकमिंग इलेक्ट्रिक कार

प्रकाशित पर Apr 30, 2019 05:09 PM द्वारा Jagdev Kalsi for मारुति वैगन-आर इलेक्ट्रिक

  • 411 व्यूज़
  • Write a कमेंट

मारुति सुजुकी जल्द ही इलेक्ट्रिक कार सेगमेंट में कदम रखेगी। इसके लिए कंपनी अपनी एक कार के इलेक्ट्रिक वर्जन की टेस्टिंग कर रही है। साल 2020 तक कंपनी इस कार को बाजार में उतार देगी। यह सेगमेंट की सबसे सस्ती और छोटी इलेक्ट्रिक कार होगी। इसका मुकाबला अपकमिंग टाटा टियागो इलेक्ट्रिक और महिंद्रा ईकेयूवी100 से होगा। मारूति ने संकेत दिए हैं कि यह इलेक्ट्रिक गाड़ी 9 लाख रुपए की प्राइस रेंज में उपलब्ध हो सकती है।

कंपनी के चेयरमैन आरसी भार्गव ने बताया कि 5 लाख रुपए तक की प्राइस रेंज में आने वाली मारूति कार के इलेक्ट्रिक वर्जन की कीमत 9 लाख रुपए तक रखी जा सकती है। दूसरी तरफ, कंपनी के प्रबंध निदेशक केनिची आयुकावा ने कहा है कि भारत में टैक्स नियमों के कारण छोटी इलेक्ट्रिक कार की कीमत 12 लाख रुपए तक भी पहुंच सकती है। यानी इस कार की कीमत डिजायर के टॉप वेरिएंट से भी महंगी हो सकती है। डिजायर के टॉप वेरिएंट की कीमत 9.55 लाख रुपए (एक्स-शोरूम दिल्ली) है। अगर कार की कीमत 15 लाख रुपए से नीचे रहती है तो ग्राहकों को फेम II योजना का लाभ  मिलेगा। इस योजना के तहत ग्राहकोें को इलेक्ट्रिक कार खरीदने पर टैक्स में 1.5 लाख रुपए तक की छूट दी जाएगी।

एक छोटी इलेक्ट्रिक कार की कीमत 9 लाख रुपए होना कोई आश्चर्य की बात नहीं है। क्योंकि यह कारें ईंधन पर होने वाले मोटे खर्चे से ग्राहकों को बचाती है। उदाहरण के रूप में महिंद्रा की वरिटो सेडान के इलेक्ट्रिक वर्जन की कीमत 10 लाख रुपए है। वहीं, इस कार का डीजल वर्जन 7.5 लाख रुपए में उपलब्ध है।

कंपनी के उच्चाधिकारी इलेक्ट्रिक कारों के महंगे होने के प्रति अपनी चिंता जता चुके हैं। उनका मानना है कि इलेक्ट्रिक कारों के पेट्रोल एवं डीजल वर्जन से महंगे होने के कारण ग्राहक इन्हें खरीदने में ज्यादा रूचि नहीं दिखाएंगे।

इलेक्ट्रिक कारों की मेंटेनेंस और रनिंग कॉस्ट काफी कम है। ऐसे में इन कारों का वाणिज्यिक उपयोग लेने के इरादे से कुछ ग्राहक इसमें रूचि दिखा सकते हैं। इन कारों में कुछ कमियां भी होती है। जैसे कि ये ज्यादा दूरी तय नहीं कर सकती हैं और इन्हें चार्ज करने में भी काफी समय लगता है। इलेक्ट्रिक कारों के मुकाबले डीज़ल, सीएनजी और माइल्ड हाइब्रिड पेट्रोल कारें ज्यादा अच्छे विकल्प के तौर पर देखी जाती हैं। इलेक्ट्रिक कारों को उपयुक्त बनाने के लिए कार निर्माताओं को यह सुनिश्चित करना होगा कि वो इनकी रेंज ज्यादा रखने की कोशिश करें। साथ ही कोई ऐसी तकनीक विकसित करें कि कार को चार्ज करने में ज्यादा समय ना लगे। लेकिन, ये दोनों बातें कार बनाने की लागत पर काफी असर डालेंगी जिससे स्वभाविक रूप से कारों की कीमत महंगी हो जाएगी।

यह भी पढें : मारुति सुजुकी अर्टिगा नए 1.5 लीटर डीज़ल इंजन के साथ लॉन्च, पहले से ज्यादा पावरफुल हुई ये कार

द्वारा प्रकाशित

मारुति वैगन-आर इलेक्ट्रिक पर अपना कमेंट लिखें

1 कमेंट
1
S
soumyadip ghoshal
May 4, 2019 6:50:02 PM

Please reduce the cost of this Electric WagonR. The price of the petrol version is Rs. 4.90 lakhs & this electric version costs Rs. 8 lakhs. Then tell me who will purchase this electric one? If you want to sell this electric version, then for God sake reduce its price. Keep it within 3-4 lakhs, so that everyone can purchase this car & could help in reducing the pollution in the cities.

जवाब
Write a Reply
2
C
cardekho
May 7, 2019 8:56:32 AM

We totally understand your concern. But the electric cars are totally different from a petrol of diesel engine cars. The brand has to set the price by considering the manufacturing and infrastructure for electric cars. And certainly the petrol version of Wagon R is priced well but being a electric vehicle, it will be more economical.

    जवाब
    Write a Reply
    2
    M
    mustafa shamsi
    May 12, 2019 10:36:15 AM

    CarDekho how will a Person even think about purchasing it if it will be This Expensive .??

      जवाब
      Write a Reply
      2
      L
      luis melford
      May 12, 2019 11:39:50 AM

      Mustafa Shamsi it will save ur petrol cost for ur entire life , don't u think it's better cost reduction nvestment and environment friendly

        जवाब
        Write a Reply
        2
        M
        mirza azher baig khushter
        May 12, 2019 12:22:52 PM

        Luis Melford Why this cars does not required charging?? Charging is free?? What shall be the price of charging for the same km run of petrol?? If required to refill petrol it consumes 10 minutes Recharging not less than hour or 2 hour Waste of time!! It is good only for environment nothing else

          जवाब
          Write a Reply
          2
          S
          soumyadip ghoshal
          May 12, 2019 7:14:19 PM

          CarDekho , I can understand what you want to say. You are saying in a business purspective. But dear, plz don't forget that India is a middle income country. If you sell a car worth rupees 4 lakh & 8 lakh, then you tell me how many people will purchase the electric version? Like for eg: If there are 2 mobile phones, one priced 10K & the other costing 80K, so now you tell me a common man will purchase which mobile? He will of course buy the cheapest one. So, like that in s country like India where maximum people are middle income citizens, so they won't think of pollution, rather they will purchase the petrol version to save their money. Plz try to understand. To popularize the electric version then please lower the price of the electric WagonR. Don't always think in a business way. Plz sometimes think in a eco-friendly way to save the environment.

            जवाब
            Write a Reply
            2
            U
            uday tej yadav
            May 13, 2019 1:49:52 PM

            Luis Melford ..he may not spend 2 lakh rupees in his entire life time. Then what is the use of buying it for 9 lakh?

            जवाब
            Write a Reply
            3
            T
            tnb farm1
            Sep 2, 2019 12:01:29 PM

            Guys, it is as simple as that if you have high running go for it and if you have low running then don't buy it. Guys like me who have a drive of 150km daily and 15000 petrol per month will opt this 1.

              जवाब
              Write a Reply
              Read Full News
              ×
              आपका शहर कौन सा है?