मारुति सुजुकी पर इन कारणों से लगा 200 करोड़ रुपये का भारी जुर्माना

प्रकाशित: अगस्त 24, 2021 03:45 pm । भानु

  • 4074 व्यूज़
  • Write a कमेंट

भारत की सबसे बड़ी कारमेकर मारुति सुजुकी पर सीसीआई यानी कॉम्पिटशन कमिशन ऑफ इंडिया ने 200 करोड़ रुपये का भारी जुर्माना लगाया है। आपको बता दें कि कंपनियों के बीच कॉम्पिटशन पर नजर रखने वाली संस्था सीसीआई ने मारुति पर कॉम्पिटशन कानून का उल्लंघन करने का आरोपी पाते हुए उसपर बड़ा जुर्माना लगाया है। 

दरअसल कॉम्पिटशन कमिशन ऑफ इंडिया ने मारुति की डिस्काउंट पॉलिसी को एंटी कॉम्पिटिटिव पाते हुए उसकी मौजूदा पॉलिसी को लेकर कुछ सवाल भी खड़े किए हैं। मारुति ने अपने डीलरों के लिए एक डिस्काउंट कंट्रोल पॉलिसी लागू कर रखी है जिसके तहत उसने अपनी पूरे भारत में फैले डीलर नेटवर्क से कस्टमर्स को किसी तरह का एक्सट्रा डिस्काउंट और कोई गिफ्ट देने से मना कर रखा है। 2019 में भी सीसीआई ने मारुति को ऐसी एंटी कॉम्पिटिटिव एक्टविटी करने के लिए चेताया था। इस पूरे मामले पर मारुति के प्रवक्ता ने कहा कि ' 23 अगस्त 2021 को सीसीआई से हमें एक ऑर्डर प्राप्त हुआ। हम कानून के दायरे में रहते हुए इन आदेशों की पालना करेंगे। मारुति सुजुकी इंडिया लिमिटेड ने हमेशा अपने कस्टमर्स को सर्वोपरि रखा है और आगे भी वो यही करती रहेगी। 

यह भी पढ़ें:मारुति स्विफ्ट और डिजायर में जल्द मिलेगा सीएनजी का ऑप्शन

इसके अलावा मारुति का कहना है कि उन्होनें अपने ​डीलर्स के लिए कभी कोई डिस्काउंट कंट्रोल पॉलिसी नहीं रखी है। कंपनी का कहना है कि उन्होनें डीलर्स पर छोड़ रखा है कि वो अपने कस्टमर्स किसी भी तरह के फायदों की पेशकश कर सकते हैं। हालांकि सीसीआई मारुति और उसके डीलर्स के बीच ई मेल एक्सचेंज को सबूत के तौर पर पेश किया है जिससे ये साबित होता है कि मारुति ऐसी कुछ गड़बड़ियां कर रही थी। 

यह भी पढ़ें:मारुति सेलेरियो होगी सितंबर में लॉन्च,जानिए क्या कुछ अपडेट्स दिए गए हैं इसे

कुछ ठोस सबूतों के आधार पर मारुति पर इतना बड़ा जुर्माना लगाया है मगर इस बात से भी इंकार नहीं किया जा सकता कि मारुति काफी समय से अपनी कारों पर आकर्षक डिस्काउंट और ऑफर्स की पेशकश करती नजर आई है। वहीं कंपनी फेस्टिवल सीजन के दौरान भी कस्टमर्स को कुछ अतिरिक्त फायदों की पेशकश करती है। 

कंपनी ने चुपचाप ही अपने डीलर्स के बीच गाड़ियों की प्राइस को कंट्रोल करने के लिए डिस्काउंट कंट्रोल पॉलिसी लागू की होगी। मगर कानून की नजर में ऐसा करना जुर्म माना गया है क्योंकि इससे बाजार में कॉम्पिटि​शन पर काफी असर पड़ता है। 

द्वारा प्रकाशित
was this article helpful ?

0 out ऑफ 0 found this helpful

Write your कमेंट

Read Full News
×
We need your सिटी to customize your experience