• लॉगिन / रजिस्टर

गियर्ड फॉर ग्रेट चैलेंजः 18 दिन तक लगातार दौड़ीं टाटा की ये कारें, बनाए 360 रिकॉर्ड

प्रकाशित: अप्रैल 05, 2016 01:25 pm । sumitटाटा टियागो 2016-2019

  • 9 व्यूज़
  • Write a कमेंट

टाटा मोटर्स को मजबूत और रफ-टफ कारें बनाने वाली कंपनी के तौर जाना जाता है। इसी मामले में अब कंपनी 360 नए रिकॉर्ड्स के साथ एक नए पायदान पर पहुंच गई है। टाटा की तीन कारों जेस्ट, बोल्ट और आने वाली हैचबैक टियागो को 18 दिन के नॉन स्टॉप रनिंग टेस्ट में उतारा गया था, जहां इन कारों ने ट्रैक पर बिना थमें 50 हजार किलोमीटर की दूरी सफलतापूर्वक पूरी की।   

टाटा मोटर्स ने 'गियर्ड फॉर ग्रेट चैलेंज' नाम से इस टेस्ट को आयोजित किया था। इस चैलेंज में बोल्ट और जेस्ट के पेट्रोल वेरिएंट को उतारा गया जबकि टियागो के पेट्रोल और डीज़ल दोनों वेरिएंट शामिल हुए। यह रनिंग टेस्ट महाराष्ट्र के अहमदनगर में स्थित व्हीकल रिसर्च एंड डवलपमेंट के हाई स्पीड टेस्ट ट्रैक पर आयोजित किया गया। 'गियर्ड फॉर ग्रेट चैलेंज' में 22 शहरों के 60 से ज्यादा प्रोफेशनल ड्राइवर्स, रेसर्स और ऑटो एक्सपर्ट्स ने हिस्सा लिया।  

ऐसे पूरा हुआ  'गियर्ड फॉर ग्रेट चैलेंज'

रनिंग टेस्ट 4.2 किलोमीटर लंबे हाई स्पीड ट्रैक पर 18 दिन तक लगातार दिन-रात चला। इस दौरान हर दो घंटे में पिट ब्रेक होता था। इस दौरान कारें ड्राइवर बदलने, फ्यूल भरवाने, रूटीन चेक-अप और विंडशील्-हैडलैंप्स को साफ कराने के लिए रूकती थीं। इस दौरान कारें 130 से 140 किलोमीटर प्रति घंटा की रफ्तार तक दौडीं। औसत स्पीड की बात करें तो यह आंकड़ा 120 किलोमीटर प्रति घंटे का रहा। पहले 24 घंटे में टाटा बोल्ट की रफ्तार 131.7 किलोमीटर प्रति घंटा रही। इस दौरान बोल्ट ने 3161 किलोमीटर की दूरी तय की। इस इवेंट में टाटा ने कुल 360 रिकॉर्ड अपने नाम किए। इस तरह के टेस्ट रन में सफलता हासिल करने वाली टाटा पहली भारतीय कंपनी बन गई है।  

रनिंग टेस्ट के  दौरान कारों के माइलेज को भी रिकॉर्ड किया गया। टाटा जेस्ट पेट्रोल का माइलेज 29.89 किलोमीटर प्रति लीटर रहा, जबकि बोल्ट पेट्रोल ने 28.32 किलोमीटर प्रति लीटर का माइलेज दिया। टियागो (पेट्रोल और डीज़ल) के माइलेज की अभी जानकारी नहीं दी गई है। इसके माइलेज की जानकारी लॉन्चिंग के वक्त दी जाएगी।

इस सफलता पर खुशी जाहिर करते हुए टाटा मोटर्स की पैसेंजर व्हीकल बिजनेस यूनिट के अध्यक्ष मयंक पारीक ने कहा कि ‘ टेस्ट के दौरान 50,000 किलोमीटर का आंकड़ा पाना हमारे लिए काफी रोमांचक पल था। यह सफलता हमारी नई कारों में इस्तेमाल हुई बेजोड़ टेक्नोलॉजी और मजबूती को दर्शाती है। पारीक ने यह भी बताया कि ‘हमारे नए रेवोट्रॉन और रेवोटॉर्क इंजन बेजोड़ परफॉर्मेंस और एक नए तरह के ड्राइविंग अनुभव देने के लिए तैयार किए गए हैं। इन इंजनों को आने वाली टियागो में भी दिया जा रहा है। इस टेस्ट में बने एशियाई रिकॉर्ड दर्शाते हैं कि मार्केट में उपलब्ध इंजन के मुकाबले में हमारे इंजन कितने ज्यादा एडवांस हैं।’

यह भी पढ़ें : खरीदनी है टाटा टियागो, लॉन्चिंग से पहले जानें इसकी कुछ खास बातें
 

द्वारा प्रकाशित
was this article helpful ?

0 out ऑफ 0 found this helpful

टाटा टियागो 2016-2019 पर अपना कमेंट लिखें

Read Full News
×
आपका शहर कौन सा है?