• English
  • menu
  • Login / Register

टिगॉर के साथ कॉम्पैक्ट सेडान सेगमेंट की हारी बाज़ी जीतना चाहती है टाटा मोटर्स

संशोधित: अप्रैल 06, 2017 12:43 pm | khan mohd. | टाटा टिगॉर 2017-2020

  • 10 व्यूज़
  • Write a कमेंट

टाटा मोटर्स की नई पेशकश है टिगॉर, जो जल्द ही लॉन्च होने वाली है। टिगॉर सिर्फ एक नई कार न होकर टाटा मोटर्स के लिए वो बड़ा दांव है, जिसके जरिये टाटा मोटर्स कॉम्पैक्ट सेडान सेगमेंट में अपनी खोई हुई बादशाहत को वापस पाने की उम्मीद लगाए बैठी है।

यहां गौर करने वाली बात ये है कि भारत में कॉम्पैक्ट सेडान सेगमेंट की शुरुआत टाटा मोटर्स ने इंडिगो सीएस (कॉम्पैक्ट सेडान) से की थी। कंपनी ने साल 2006 में इंडिगो के एक्स्ट्रा बूट स्पेस को छांट दिया और इंडिगो सीएस को पेश कर दिया। इस कदम से कार कीमतें तब 50 हजार रूपए तक नीचे आ गईं और सेल्स चार्ट में इंडिगो ने धूम मचा दी।

लेकिन बीते 11 साल में यह सुहाना सफर लंबा नहीं टिक सका और कंपनी अर्श से फर्श पर आ गई। इस सेगमेंट में धीरे-धीरें दूसरी कार कंपनियां नई और अपडेट कारों के साथ उतरने लगीं और टाटा मोटर्स सिर्फ पिछड़ती ही चली गई। मारूति सुज़ुकी की डिज़ायर आज इस सेगमेंट की बादशाह के तौर पर स्थापित है, हर महीने इस कार की 16,613 यूनिट बिकती हैं। वहीं टाटा की इंडिगो और मांज़ा की बात करें तो इनका आंकड़ा फरवरी 2017 में महज़ 465 यूनिट का रहा।

मार्केट में हिस्सेदारी गंवाने के बाद टाटा ने कुछ वक्त खुद के  आकलन के लिए निकाला और खोई हुई इमेज़ और हिस्सेदारी को वापस पाने की रणनीति पर काम करना शुरू किया। इस नई कवायद के तहत कंपनी का सबसे सफल कदम साबित हुई नई हैचबैक कार टियागो, जिसे इम्पैक्ट डिजायन थीम पर तैयार किया गया है। टियागो के बाद हैक्सा को भी इसी डिजायन थीम पर बनाया गया। टियागो अपने सेगमेंट में हिट प्रोडक्ट साबित हुई है। अब बारी है टियागो पर ही बनी कॉम्पैक्ट सेडान टिगॉर की, जो 29 मार्च को लॉन्च होनी है।

कॉम्पैक्ट सेडान सेगमेंट में सफलता पाने के लिए किसी कार में आकर्षक डिजायन, जगहदार केबिन, ज्यादा माइलेज़ देने वाला इंजन, अच्छा बूट स्पेस के अलावा भरोसेमंद सेल्स और सर्विस नेटवर्क का होना बेहद जरूरी है। बदलते ट्रेंड में इन सारी चीजों के अलावा ग्राहक कंफर्ट और नए फीचर्स को भी अहमियत दे रहे हैं। इन सब चीजों पर नज़र डालें तो टाटा की टिगॉर करीब-करीब हर मामले में ख़री उतरती है।

डिजायन और फीचर लिस्ट के मामले में यह मुख्य प्रतिद्वंदी डिज़ायर को कड़ी टक्कर देने की क्षमता रखती है। हालांकि इसके लिए कंपनी को थोड़ा सब्र रखना होगा और ग्राहकों का भरोसा हासिल करने और अपनी बदलती छवि पर प्रमुखता से काम करना होगा। मार्केटिंग, रिसर्च और टेक्नोलॉज़ी के मामले में कंपनी पहले से कहीं ज्यादा आक्रामक हुई है और मारूति जैसी कंपनियों से इसकी टक्कर लेने की क्षमता भी बढ़ी है। टिगॉर कई मामलों में डिज़ायर से आगे है और मारूति के कैंप में हलचल मचा देने की क्षमता रखती है। हालांकि जल्द ही डिज़ायर का फेसलिफ्ट अवतार भी आने वाला है।

डिज़ायर के अलावा इस सेगमेंट में होंडा की अमेज़, हुंडई एक्सेंट और फोर्ड एस्पायर मौजूद हैं। हालांकि फीचर लिस्ट और डिजायन पर नज़र डालें तो टिगॉर फिलहाल सभी पर भारी पड़ती दिखाई देती है। इसकी कीमत भी 4.20 लाख रूपए से 6.50 लाख रूपए के करीब रहने की उम्मीद है, इस लिहाज़ से भी माना जा सकता है कि यह कार इस सेगमेंट में बरसों पहले खोई हुई बाज़ी को दोबारा कंपनी के खाते में डाल सकती है।

द्वारा प्रकाशित
was this article helpful ?

0 out ऑफ 0 found this helpful

टाटा टिगॉर 2017-2020 पर अपना कमेंट लिखें

Read Full News
  • ट्रेंडिंग
  • हाल का

ट्रेंडिंगसेडान

  • लेटेस्ट
  • अपकमिंग
  • पॉपुलर
×
We need your सिटी to customize your experience