• लॉगिन / रजिस्टर
Sell Your Car

रेनो काइगर का इंटीरियर ट्राइबर से कितना होगा अलग, जानिए यहां

संशोधित पर jun 30, 2020 10:46 am द्वारा stuti for Renault Kiger (HBC)

  • 3679 व्यूज़
  • Write a कमेंट

रेनो इंडिया (Renault India) इन दिनों अपनी अपकमिंग सब-4 मीटर एसयूवी काइगर (Kiger) पर काम कर रही है। हाल ही में इस गाड़ी को टेस्टिंग के दौरान देखा गया है। ऐसे में इसके इंटीरियर से जुड़ी कई अहम जानकारियां हाथ लगी हैं। इस गाड़ी को रेनो ट्राइबर वाले प्लेटफार्म पर तैयार किया जाएगा। ऐसे में अनुमान लगाए जा रहे थे कि इन दोनों ही कारों में काफी कुछ चीज़ें एक जैसी देखने को मिल सकती हैं। लेकिन, टेस्टिंग के दौरान नज़र आई काइगर के इंटीरियर को देखकर अंदाजा लगाया जा सकता है कि यह गाड़ी ट्राइबर से अलग होगी।  

रेनो काइगर (Renault Kiger) एक सब-4 मीटर एसयूवी है, ऐसे में इसे कंपनी के लाइनअप में ट्राइबर क्रॉसओवर एमपीवी के ऊपर पोजिशन किया जाएगा। इसका केबिन ट्राइबर से ज्यादा प्रीमियम नज़र आता है। दोनों ही कारों के बीच पहला अंतर केबिन की कलर थीम का देखने को मिलता है। काइगर के केबिन पर डार्क कलर थीम दी गई है, जबकि ट्राइबर के केबिन को लाइट ड्यूल-टोन कलर थीम के साथ पेश किया गया है। रेनो ट्राइबर में डैशबोर्ड पर सिल्वर स्ट्रिप लगी है जो फ्रंट एसी वेंट्स को कनेक्ट करती नज़र आती है।

रेनो की सब-4 मीटर एसयूवी में दिए गए फीचर्स ड्राइवर की पहुंच में हैं। डस्टर के मुकाबले इसके स्टीयरिंग व्हील पर कई सारे कंट्रोल बटंस दिए गए हैं। काइगर एसयूवी के स्टीयरिंग व्हील पर ग्लॉस ब्लैक इंसर्ट दिए गए हैं, जबकि ट्राइबर में ऐसा नहीं है। इन दोनों ही सब-4 मीटर मॉडल्स में एक जैसे डिजिटल इंस्ट्रूमेंट क्लस्टर दिए गए हैं। अनुमान है कि काइगर में इंस्ट्रूमेंट क्लस्टर पर कलर्ड डिस्प्ले दी जा सकती है, जबकि ट्राइबर में एलईडी डिस्प्ले मिलती है।

दोनों ही रेनो मॉडल्स का डैशबोर्ड लेआउट एक जैसा है, लेकिन इनके सेंट्रल कंसोल एक दूसरे से काफी अलग हैं। काइगर में सेंट्रल एसी वेंट्स को टचस्क्रीन इंफोटेनमेंट सिस्टम के नीचे की तरफ पोज़िशन किया गया है। वहीं ट्राइबर की तरह इसमें भी थ्री क्लाइमेट कंट्रोल्स के नीचे की तरफ शेल्फ दी गई है। ट्राइबर में मैनुअल एसी कंट्रोल्स मिलते हैं, जबकि काइगर में ऑटो एसी और तीनों डायल्स पर डिजिटल डिस्प्ले दिया गया है।
 

अनुमान है कि काइगर में रियर एसी वेंट्स को सेंट्रल टनल के पीछे की तरफ कन्वेंशनल रूप से पोज़िशन किया जा सकता है। वहीं, 7-सीटर ट्राइबर में पिलर माउंटेड और रूफ माउंटेड एसी वेंट्स दिए गए हैं। 

काइगर और ट्राइबर को एक ही प्लेटफार्म पर तैयार किया गया है। इस प्लेटफार्म की सबसे बड़ी खासियत इसका व्हीलबेस है जिसके चलते इसमें ज्यादा केबिन स्पेस मिलता है। काइगर एक 5-सीटर कार होगी, जबकि ट्राइबर 7-सीटर लेआउट में आती है।

अनुमान है कि कंपनी इस अपकमिंग कार में ट्राइबर वाला 1.0-लीटर नैचुरली एस्पिरेटेड पेट्रोल इंजन दे सकती है। यह इंजन 72 पीएस की पावर और 96 एनएम का टॉर्क जनरेट करने में सक्षम है। इसके अलावा इसमें रेनो-निसान वाला नया 1.0-लीटर टर्बो पेट्रोल इंजन भी दिया जाएगा। ट्राइबर में पेट्रोल इंजन के साथ 5-स्पीड मैनुअल और एएमटी का ऑप्शन रखा गया है। वहीं, काइगर में टर्बोचार्ज्ड इंजन के साथ सीवीटी ऑटोमैटिक और 5-स्पीड मैनुअल गियरबॉक्स का विकल्प दिया जाएगा।  

भारत में रेनो की सब-4 मीटर एसयूवी को फेस्टिव सीजन के दौरान पेश किया जा सकता है। कंपनी ने फिलहाल इसकी प्राइस का खुलासा नहीं किया है। उम्मीद है कि भारतीय बाजार में रेनो काइगर की कीमत 6 लाख रुपये से 8 लाख रुपये के बीच रखी जा सकती है। सेगमेंट में इसका मुकाबला मारुति सुजुकी विटारा ब्रेज़ा, हुंडई वेन्यू, टाटा नेक्सन, महिंद्रा एक्सयूवी300, फोर्ड ईकोस्पोर्ट से होगा। इसके अलावा इसका कंपेरिजन किया और निसान के अपकमिंग मॉडल्स से भी होगा।

यह भी पढ़ें : रेनो ट्राइबर Vs मारुति स्विफ्ट Vs हुंडई ग्रैंड आई10 निओस Vs इग्निस: एएमटी वेरिएंट प्राइस कंपेरिजन

    द्वारा प्रकाशित

    रेनो एचबीसी पर अपना कमेंट लिखें

    Read Full News
    • ट्रेंडिंग
    • हाल का
    ×
    आपका शहर कौन सा है?