• लॉगिन / रजिस्टर
Sell Your Car

मेड-इन-ब्राजील फोर्ड एस्पायर को लैटिन एनकैप क्रैश टेस्ट में मिली 0 रेटिंग

संशोधित: दिसंबर 09, 2020 07:15 pm | भानु | फोर्ड फिगो एस्पायर

  • 2613 व्यूज़
  • Write a कमेंट

  • लैटिन अमेरिकन रीजन में फोर्ड फिगो को केए जबकि सेडान वर्जन को केए प्लस नाम दिया गया है
  • 4-मीटर से ज्यादा लंबी है ये सेडान, भारत में बिकने वाली सब-4 मीटर सेडान एस्पायर जैसे ही हैं लुक्स
  • लैटिन एनकैप ने 2020 में अपडेट किए हैं सेफ्टी रेटिंग प्रोटोकॉल्स जहां केए प्लस को मिली है 0 रेटिंग
  • ड्यूल फ्रंट एयरबैग, आईएसओफिक्स और एबीएस एवं ईबीडी जैसे फीचर्स के साथ किया गया था केए प्लस का टेस्ट
  • फ्रंट और साइड इंपेक्ट, पेडिस्टेरियन प्रोटेक्शन के साथ-साथ व्हिपलैश प्रोटेक्शन के मोर्चे पर लिया गया था टेस्ट
  • लैटिन एनकैप ने सभी कारों में साइड एयरबैग और ईएससी को स्टैंडर्ड तौर पर दिया जाना माना है जरूरी
  • लैटिन अमेरिका में केए प्लस के सेफ्टी फीचर्स को अपडेट करेगी फोर्ड, जिसके बाद लैटिन एनकैप फिर से इसकी अपडेटेड सेफ्टी रेटिंग करेगी जारी

सब-4 मीटर सेडान कार फोर्ड एस्पायर (Ford Aspire) कई देशों में अलग-अलग नाम से बेची जाती है। साउथ अफ्रीकन मार्केट में इसे केए प्लस और केए सेडान के नाम से पहचाना जाता है जो कि सही मायनों में 4-मीटर से बड़ी है और इसका रियर डिजाइन भी अलग है। हाल ही में लैटिन एनकैप ने केए प्लस के 2020 मॉडल का क्रैश टेस्ट किया है जिसमें इसे पैसेंजर सेफ्टी के लिए 0 स्टार रेटिंग मिली है। 

जैसा कि नाम से ही पता चलता है, लैटिन एनकैप साउथ अमेरिकन कॉन्टिनेंट में बेचे जाने वाले मॉडल्स का क्रैश टेस्ट करती है। मेड-इन -ब्राजील कार फोर्ड केए प्लस में ड्यूल फ्रंट एयरबैग, एबीएस एवं ईबीडी और आईएसओफिक्स चाइल्ड सीट एंकर जैसे फीचर्स से लैस बेस मॉडल का क्रैश टेस्ट में इस्तेमाल किया गया जो इसमें स्टैंडर्ड दिए गए हैं। ग्लोबल एनकैप के मुकाबले लैटिन एनकैप का टेस्ट काफी अलग है ​जो चार तरह के मोर्चों: एडल्ट पैसेंजर प्रोटेक्शन, चाइल्ड प्रोटेक्शन, पेडिस्टेरियन प्रोटेक्शन और सेफ्टी असिस्ट के अनुसार किया जाता है। 

यह भी पढ़ें: फोर्ड का तीन दिवसीय मिडनाइट सरप्राइज कैंपेन शुरू, खरीदें कंपनी की कार और पाएं 5 लाख रुपये तक के उपहार

लैटिन एनकैप के लेटेस्ट सेफ्टी प्रोटोकॉल्स के अनुसार फोर्ड केए प्लस का प्रदर्शन काफी निराशजनक रहा। फ्रंट इंपैक्ट टेस्ट में इसमें आगे बैठने वाले पैसेंजर के सिर, गर्दन, छाती और जांघ की प्रोटेक्शन को तो सही पाया गया, मगर इसका फुटवेल एरिया अस्थिर पाया गया जबकि बॉडीशैल स्थिर बताई गई है। हालांकि साइड इंपेक्ट के मोर्चे पर ड्राइवर की छाती को सुरक्षित रख पाने में नाकामयाब साबित हुई और व्हिप्लैश टेस्ट में इस कार का प्रदर्शन खराब रहा। केए प्लस के फ्रंट और साइड इंपैक्ट टेस्ट में बच्चे की प्रोटेक्शन को अच्छा पाया गया और स्कोर शीट में इसे 9 प्रतिशत मिले। पेडिस्टेरियन प्रोटेक्शन में इसे 50 प्रतिशत स्कोर दिया गया और सेफ्टी असिस्ट के मोर्चे पर इसे बहुत खराब केवल 7 प्रतिशत स्कोर ही दिया गया। 

लैटिन एनकैप द्वारा केए सेडान को दी गई इस तरह की रेटिंग काफी हैरान कर देने वाली है क्योंकि इसी कार के 2019 मॉडल को 4-स्टार रेटिंग दी गई थी जिसमें साइड एयरबैग और इलेक्ट्रॉनिक स्टेबिलिटी कंट्रोल जैसे फीचर्स मौजूद थे। फिलहाल फोर्ड ने इस रिजल्ट को पूरी तरह से अपनाते हुए कहा है कि वो इस गाड़ी में साइड एयरबैग और ईएससी का फीचर हर वेरिएंट में देगी। इस अपडेशन के बाद लैटिन एनकैप फिर से इसका क्रैश टेस्ट करेगी और अपडेटेड रेटिंग जारी करेगी। 

फोर्ड एस्पायर के इंडियन वर्जन को 2019 में अपडेट किया गया था जिसका अभी तक ग्लोबल एनकैप द्वारा क्रैश टेस्ट नहीं किया गया है। हालांकि इससे पहले वाले मॉडल को 2017 में इसी टेस्ट में 3-स्टार रेटिंग दी गई थी। फिलहाल इस कार में ड्यूल एयरबैग और एबीएस एवं ईबीडी जैसे सेफ्टी फीचर्स स्टैंडर्ड दिए गए हैं। वहीं इसके टॉप वेरिएंट में साइड और कर्टेन एयरबैग जैसे फीचर्स भी दिए गए हैं। भारत में फोर्ड एस्पायर की प्राइस 6.09 लाख रुपये से शुरू होती है जो कि 8.64 लाख रुपये (एक्स-शोरूम, दिल्ली) तक पहुंचती है। 

यह भी पढ़ें: फोर्ड की नई एसयूवी कार की तस्वीरें हुईं लीक, महिंद्रा एक्सयूवी500 2021 पर बेस्ड हो सकती है ये गाड़ी

द्वारा प्रकाशित
was this article helpful ?

0 out ऑफ 0 found this helpful

फोर्ड फिगो एस्पायर पर अपना कमेंट लिखें

Read Full News

कंपेयर करने के लिए मिलती-जुलती कारें

एक्स-शोरूम कीमत नई दिल्ली
×
आपका शहर कौन सा है?