• लॉगिन / रजिस्टर

टाटा टिगॉर में ये फीचर मिलते तो और अच्छा रहता

संशोधित: अप्रैल 06, 2017 12:59 pm | cardekho | टाटा टिगॉर 2017-2020

  • 12 व्यूज़
  • Write a कमेंट

टाटा की नई कॉम्पैक्ट सेडान टिगॉर 29 मार्च को लॉन्च होने वाली है, इसका प्रोडक्शन वर्जन अपने कॉन्सेप्ट काइट-5 के काफी करीब है। इसे टियागो हैचबैक पर तैयार किया गया है, कद-काठी और फीचर के मामले में यह टियागो से आगे है। इसके बावजूद भी इस में कुछ कमी महसूस होती है, आइए जानते है टिगॉर की उन बातों के बारे में जहां बनी हुई है सुधार की थोड़ी सी गुंजाइश…

1. बूट कवर पर ओपनर

टाटा टिगॉर का बूट स्पेस 419 लीटर का है, इस मामले में यह कंपनी की ही ज़ेस्ट और हुंडई क्रेटा से भी आगे है। डिक्की को खोलने के लिए इसके बूट कवर या गेट पर ओपनर नहीं दिया गया है, बूट खोलने के लिए सेंटर कंसोल पर एक बटन दिया गया है, इसके अलावा रिमोट में दिए बटन को दबाकर भी बूट खोला जा सकता है। सेंटर कंसोल में दिया बटन, ड्राइव मोड बटन के ठीक बगल में है, ऐसे में भूलवश डिक्की खोलने वाला बटन दबने और चलती गाड़ी में बूट गेट खुलने की आशंका बढ़ जाती है। इस बटन को इग्निशन स्विच के पास दिया जा सकता था।       

2. एलईडी डे-टाइम रनिंग लाइट

वैसे तो यह बहुत जरूरी फीचर नहीं है, लेकिन अगर टिगॉर में एलईडी डे-टाइम रनिंग लाइटें आती तो इसकी खूबसूरती और ज्यादा निखर जाती। उम्मीद है कि टिगॉर की एक्सेसरीज लिस्ट में इस फीचर का विकल्प मिलेगा।

3. पीछे की तरफ एसी वेंट

टियागो की तुलना में टिगॉर का केबिन बहुत ज्यादा बड़ा नहीं है, लेकिन सेगमेंट के लिहाज से इसके केबिन में काफी अच्छा स्पेस मिलेगा। जो लोग खुद कार चलाने के बजाए ड्राइवर रखना पसंद करते हैं उनके लिए पीछे की तरफ एसी वेंटस कंफर्ट लेवल बढ़ाने वाला फीचर होता।

4. एपल कारप्ले और एंड्रॉयड ऑटो

आज के समय में एपल कारप्ले और एंड्रॉयड ऑटो कनेक्टिविटी की काफी मांग है और कम बजट वाली कारों में भी यह फीचर मिलने लगा है। टिगॉर में एपल कारप्ले और एंड्रॉयड ऑटो सपोर्ट करने वाला इंफोटेंमेंट सिस्टम मिलता तो फोन के ज्यादातर फंक्शन को सिस्टम पर इस्तेमाल किया जा सकता था।

5. केबिन में सेंट्रल लॉकिंग स्विच

टियागो की तरह टिगॉर में भी पुल-टायप डोर लॉक दिए गए हैं, ये कार के प्रीमियम केबिन और आज के हिसाब से काफी पुराने लगते हैं। टाटा का कहना है कि डोर हैंडल के डिजायन के चलते लॉकिंग स्विच को उन में दे पाना संभाव नहीं था, ऐसे में अगर स्विच को विंडो कंट्रोल्स या कहीं और भी दिया जाता तो इस के केबिन का मॉर्डन अहसास बना रहता।

तो ये हैं वे मामले जहां हमें कुछ सुधार या बदलाव की गुंजाइश महसूस हुई... वैसे टिगॉर के डिजायन, संभावित कीमत और फीचर्स को देखते हुए इन बातों का बहुत ज्यादा असर नहीं पड़ने वाला है और इन्हें नज़रअंदाज़ भी किया जा सकता है। कुल मिलाकर यह कार एक अच्छा पैकेज़ है।

यह भी पढें :

द्वारा प्रकाशित

टाटा टिगॉर 2017-2020 पर अपना कमेंट लिखें

Read Full News
  • ट्रेंडिंग
  • हाल का
×
आपका शहर कौन सा है?