• लॉगिन / रजिस्टर
Sell Your Car

अब पड़ोसी देश नहीं कर पाएंगे भारतीय कंपनियों का अधिग्रहण, सरकार ने एफडीआई पॉलिसी में किए बदलाव

संशोधित पर apr 21, 2020 10:43 am द्वारा sonu

  • 1570 व्यूज़
  • Write a कमेंट

महामारी बन चुके कोरोनावायरस के कारण इस समय पूरे देश में लॉकडाउन लगा हुआ है, जिसके चलते अधिकांश कंपनियों के शेयर की प्राइस काफी कम हो गई है। ऐसे में पड़ोसी देश भारतीय कंपनियों का कम कीमत में अधिग्रहण करने की फिराक में है। भारतीय कंपनियों को विदेशी हाथों में जाने से रोकने के लिए भारत सरकार ने प्रत्यक्ष विदेशी निवेश (एफडीआई) की पॉलिसी में बदलाव किया है, जिससे अब पड़ोसी देशों को भारतीय कंपनियों में निवेश के लिए भारत सरकार से अनुमति लेनी होगी। 

इस समय भारत की बड़ी कंपनियों को सबसे ज्यादा चीन से खतरा बताया जा रहा है। कहा जा रहा है कि चीन भारत की बड़ी कंपनियों का अधिग्रहण कर सकता है। 

यह भी पढ़ें : संकट की इस घड़ी में कुछ राहत देगी ये खबर

एफडीआई पॉलिसी के तहत पहले नॉन-रेजिडेंट संस्थाएं कुछ प्रतिबंधित सेक्टर जैसे लॉटरी, जुआ और परमाणु ऊर्जा आदि को छोड़कर भारत में निवेश कर सकती थी। लेकिन अब पॉलिसी में अपडेट के बाद पड़ोसी देशों की संस्थाओं को भारत में निवेश के लिए सरकार से अनुमति लेनी होगी। भारत की सीमा पड़ोसी देश पाकिस्तान, बांगलादेश, नेपाल, चीन, अफगानिस्तान, भूटान और म्यांमार के साथ लगती है। 

इसके अलावा सरकार ने एफडीआई पॉलिसी एक अन्य खंड में भी बदलाव किया गया है, जिसके तहत पुराने निवेश के बाद अब ऑनरशिप ट्रांसफर किया जाना है तो उसके लिए भी सरकार से अनुमति लेनी होगी।

यह भी पढ़ें : कोरोनावायरस अपडेट : मारुति सुजुकी कुछ इस तरह कर रही है जरूरतमंद लोगों की मदद

द्वारा प्रकाशित

Write your कमेंट

Read Full News
  • ट्रेंडिंग
  • हाल का
×
आपका शहर कौन सा है?