भारत एनकैप क्रैश टेस्ट अप्रैल 2023 से होगा शुरू

प्रकाशित: जून 27, 2022 07:00 pm । सोनू

  • 3168 व्यूज़
  • Write a कमेंट

bharat ncap

सड़क परिवहन एवं राजमार्ग मंत्रालय ने एक ड्राफ्ट नोटिफिकेशन तैयार किया गया है जिसमें भारत एनकैप क्रैश टेस्ट को अप्रैल 2023 से शुरू करने की बात कही है। मंत्रालय ने इस पर अगले 13 में सुझाव मांगे है जिसके बाद इसे अप्रूव किया जाएगा।

भारत न्यू कार असिसमेंट प्रोग्राम (भारत एनकैप) एम1 कैटेगरी वाले मोटर व्हीकल पर लागू होगा जिनमें ड्राइवर समेत आठ पैसेंजर सिटिंग कैपेसिटी होगी। टेस्टिंग प्रोटोकॉल के तहत इसमें भारत के मौजूदा नियमों को ध्यान में रखते हुए ग्लोबल क्रैश टेस्ट प्रक्रिया को शामिल किया जाएगा।

भारत एनकैप बच्चों और व्यस्क पैसेंजर की सुरक्षा और सेफ्टी असिस्ट टेक्नोलॉजी के बारे में जानकारी देगा। मौजूदा क्रैश टेस्ट की तरह इसमें भी जीरो से लेकर 5-स्टार सेफ्टी रेटिंग दी जाएगी।

It’ll Be Harder To Get A 5-Star GNCAP Crash Test Rating From July 2022

बेहतर सेफ्टी रेटिंग के लिए कार में छह एयरबैग, ईएससी, सभी पैसेंजर के लिए थ्री-पॉइंट सीट बेल्ट और पेडेस्ट्रेन प्रोटेक्शन की जरूरत रहेगी। वर्तमान में ये क्रैश टेस्ट जर्मनी में एडीएसी टेक्निकल सेंटर में होते हैं जिससे कंपनियों के लिए कार का क्रैश टेस्ट कराना काफी महंगा पड़ता है।

यह भी पढ़ें : किआ कारेंस की सेफ्टी रेटिंग से मिला प्रमाण, ज्यादा एयरबैग्स से पुख्ता नहीं हो सकती पैसेंजर्स की सुरक्षा

ग्लोबल एनकैप के भारत में सेफरकार्सफोरइंडिया कैंपेन के तहत होने वाले क्रैश टेस्ट के प्रोटोकॉल जुलाई 2022 से थोड़े कड़े होने जा रहे है। इससे कारों को 5-स्टार सेफ्टी रेटिंग मिलना और मुश्किल हो जाएगा। भारत एनकैप के क्रैश टेस्ट में भी नए प्रोटोकॉल को फॉलो किया जा सकता है।

द्वारा प्रकाशित
was this article helpful ?

0 out ऑफ 0 found this helpful

Write your कमेंट

Read Full News
  • ट्रेंडिंग
  • हाल का

ट्रेंडिंगकारें

  • लेटेस्ट
  • अपकमिंग
  • पॉपुलर
×
We need your सिटी to customize your experience