• लॉगिन / रजिस्टर

गुड न्यूज राउंडअप: कोरोना से घबराएं नहीं और लें इन अच्छी खबरों का डोज़

प्रकाशित: मई 11, 2020 12:43 pm । भानु

  • 678 व्यूज़
  • Write a कमेंट

भारत में पिछले 6 सप्ताह से लॉकडाउन चल रहा है और संकट की इस घड़ी में हमारी ओर से आपके लिए कुछ अच्छी खबरों का वीकली डोज़ पेश किया जा रहा है। इस महामारी को हराने के लिए दुनियाभर के वैज्ञानिक, डॉक्टर्स और राष्ट्र लगातार प्रयासरत हैं और उनके इन प्रयासों की बदौलत पिछले सप्ताह कुछ अच्छी खबरें सामने आई जिनके बारे में आप जानेंगे आगे:

अब तक 13 लाख से ज्यादा मरीज हुए ठीक

कोरोना वायरस से ठीक होने वाले मरीज़ों की संख्या में धीरे-धीरे इजाफा होने लगा है और करीब 13 लाख मरीज़ इस बीमारी से लड़कर पूरी तरह ठीक हो चुके हैं। टेस्टिंग बढ़ाने और वैक्सीन विकसित करने की वजह से लोगों की उम्मीदें भी बढ़ रही हैं। 

न्यूज सोर्स

विदेशों में रह रहे भारतीयों की शुरू हुई घर वापसी

कई देशों ने यात्राओं पर प्रतिबंध लगाते हुए अपनी अंतरराष्ट्रीय सीमाओं को बंद कर दिया है जिससे दूसरे देशों के लोग विदेश में फंस गए हैं। पूरी दुनिया में सरकारें नागरिकों को घर लाने के लिए छोटे पैमाने पर अभियान चला रही है, मगर भारत एक बड़े पैमाने पर विदेशों में फंसे भारतीयों को घर वापस लाने का अभियान चला रहा है जो कि आधुनिक इतिहास का सबसे बड़ा पीसटाइम रिपैट्रिएशन कहा जा रहा है। इसका पहला चरण शुरू भी हो चुका है और सरकार ने इसके लिए कमर्शियल जेट विमान, मिलिट्री ट्रांसपोर्ट जेट और नौसेना के युद्धपोतों को तैनात किया गया है। 

स्वदेश वापस लौटने की इच्छा रखने वाले भारतीयों को इसके लिए भुगतान भी करना होगा जो उनकी लोकेशन पर निर्भर करेगा। इसमें शामिल सभी लोगों की सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए कड़ी सावधानी बरती जाएगी। इसमें सभी यात्रियों की स्क्रीनिंग शामिल है और केवल उन लोगों को बोर्ड करने की अनुमति होगी जिनमें कोरोना के कोई लक्षण नहीं होंगे। यहां तक ​​कि इन यात्रियों का परीक्षण करने से पहले उन्हें 14 दिनों के लिए क्वारैंटाइन किया जाएगा।

यह भी पढ़ें: पिछले सप्ताह क्या कुछ रहा ऑटो सेक्टर में खास, पढ़ें टॉप-5 कार न्यूज

न्यूज सोर्स

इटैलियन वैक्सीन ने जगाई उम्मीदें

इटली 2 लाख से अधिक कंफर्म केसों और लगभग 30,000 मौतों के साथ सबसे अधिक प्रभावित देशों में से एक रहा है। इस देश ने कुछ हफ्तों से संक्रमण दर और कोरोनोवायरस से मौतों में गिरावट देखी है और वहां की सरकार ने अब घोषणा की है कि उसने सफलतापूर्वक एक वैक्सीन तैयार कर ली है। रोम में स्पल्नजानी अस्पताल द्वारा चूहों पर किए गए परीक्षणों के दौरान एंटीबॉडी डेवलप होती देखी गई है। इस वैक्सीन का जल्द ही इंसानों पर भी परीक्षण किया जाएगा। इस नए टीके को टकिस नामक एक फर्म ने विकसित किया है। टकिस के डॉ. इमानुएल मार्रा ने कहा है कि यह वैक्सीन कोरोनावायरस से पीड़ित के किसी भी संभावित उत्परिवर्तन के अनुकूल हो सकता है। 

यह भी पढ़ें: लॉकडाउन हटने के तुरंत बाद 38 प्रतिशत भारतीय खरीदेंगे कार: सर्वे

न्यूज सोर्स

इजरायल की बायो रिसर्च लैब ने कोविड-19 को न्यूट्रलाइज करने के लिए एंटीबॉडीज तैयार करने का दावा किया

इजरायल इंस्टीट्यूट फॉर बायोलॉजिकल रिसर्च ने कोरोनोवायरस महामारी से लड़ने के लिए अपने रिसर्च प्रोग्राम केे सफल होने की सूचना दी है। इस लैब ने एंटीबॉडी निकालने का दावा किया है जो वायरस को बेअसर कर सकता है। इजरायल के रक्षा मंत्री नैफ्टली बेनेट द्वारा दिए गए बयानों के अनुसार उनके देश में वैक्सीन के डेवलपमेंट की प्रक्रिया पूरी हो गई है और वैक्सीन को पेटेंट कराने और इसके बड़े पैमाने पर उत्पादन के लिए अगले चरण में जाने के लिए तैयारी है। हालांकि बेनेट ने इस वैक्सीन के इंसानों पर टेस्ट किए जाने को लेकर कोई जानकारी नहीं दी है। 

न्यूज सोर्स

घर पर इन चीजों के इस्तेमाल से बनाएं होम मेड फेसमास्क, सुरक्षा की पूरी गारंटी

लॉकडाउन शुरू होने के बाद से ही पर्सनल प्रोटेक्शन किट की कमी होने लगी थी जिसमें एन95 मास्क की काफी शॉटेज हो गई थी। अब पीपीई किट केवल हैल्थकेयर से जुड़े कर्मचारियों और फ्रंटलाइन वर्कर्स को ही उपलब्ध कराए जा रहे हैं। ऐसे में आम जनता अपने स्तर पर ही फेस मास्क तैयार कर रही है। अमेरिकन केमिकल सोसायटी द्वारा तैयार ​की गई रिपोर्ट के अनुसार कॉटन के साथ नैचुरल सिल्क और शिफॉन से बना मास्क हवा में मौजूद किटाणुओं की रोकथाम कर सकता है। रिपोर्ट में पाया गया है कि इन चीजों के संयोजन से बना फेसमास्क एक औसत होममेड मास्क की तुलना में बेहतर सुरक्षा प्रदान कर सकता है।

न्यूज सोर्स

यह भी पढ़ें: गुड न्यूज़ राउंडअप: कोरोना से जंग जारी, ऐसे हो रही है जीत की तैयारी

द्वारा प्रकाशित

Write your कमेंट

Read Full News
  • ट्रेंडिंग
  • हाल का
×
आपका शहर कौन सा है?