• लॉगिन / रजिस्टर

लॉकडाउन में अपनी कार को ऐसे रखें सुरक्षित, लंबे समय तक नहीं होगी कोई परेशानी

संशोधित: मार्च 30, 2020 01:11 pm | स्तुति

  • 2036 व्यूज़
  • Write a कमेंट

कोरोना वायरस का प्रकोप दिनों दिन बढ़ता ही जा रहा है, जिसके चलते भारत सरकार ने पूरे देश में 21 दिन का लॉकडाउन कर दिया है। ऐसे में अब लोग घरों में बैठ कर ही अपना समय व्यतीत कर रहे हैं। इसी के फलस्वरूप, हमारी गाड़ियां भी कुछ दिनों के लिए घर तक ही सीमित हो गई हैं।

लंबे समय तक एक ही जगह पर पार्क की गई कारों की देखभाल करना बेहद जरूरी है। जिस तरह से शरीर की मांसपेशियां कार्य नहीं करने से निष्क्रिय हो जाती है, ठीक उसी तरह कारों के लंबे समय तक नहीं चलने से उनकी मशीनरी भी ठप पड़ जाती है। ऐसे में हमने यहां कुछ जरूरी टिप्स साझा किए हैं जो लॉकडाउन की स्थिति में आपकी कार को लंबे समय तक अच्छी कंडीशन में रखने में मदद करेंगे:-

 

इंडोर में करें पार्क या कवर का करें इस्तेमाल 

मौसम और पर्यावरणीय तत्वों से बचाने के लिए कार को सुरक्षित रखना बेहद महत्वपूर्ण होता है। जितना हो सके अपनी कार से गंदगी और नमी को दूर रखें। गाड़ी को खुले में छोड़ने की बजाए इसे गैरेज या अंडरग्राउंड स्पेस में पार्क करें। यदि आपके पास कवर्ड पार्किंग की सुविधा नहीं है, तो आप कार को ढकने के लिए कवर का इस्तेमाल कर सकते हैं। याद रखें कि आप कवर को अच्छे से बांध दें जिससे तेज हवा चलने पर भी वो उड़े ना।

Coronavirus: Steps To Sanitize Your Car Against COVID-19

एक्सटीरियर को रखें साफ 

यदि आप अपनी कार को लंबे समय तक के लिए खुद से दूर रखते हैं तो सुनिश्चित करें कि आप इसे साफ जरूर करें। चूंकि गंदगी पेंट से चिपक सकती है और कार में दाग छोड़ सकती है, ऐसे में इसे साफ करना बेहद जरूरी है। अगर आप कार को पानी से धो रहे हैं, तो उसे धोने के बाद कुछ समय सूखने के लिए छोड़ दें। उसके बाद ही कार को कवर करें। 

यह भी पढ़ें : कोरोना वायरस को लेकर महिंद्रा ग्रुप ने बनाई ये खास योजना

 Coronavirus: Steps To Sanitize Your Car Against COVID-19

केबिन को रखें साफ-सुथरा 

जो लोग अपनी कार को रोज़ाना उपयोग में लेते हैं, वे अक्सर कार की स्टोरेज स्पेस में कुछ अतिरिक्त चीज़ों को स्टोर करके रखते हैं। ऐसे में जरुरी है कि सभी स्टोर की गई चीज़ों को कैबिन से हटा दिया जाए जिससे वे कार में एक से ज्यादा सप्ताह तक पड़ी-पड़ी सड़े ना। कार को सैनिटाइज कैसे करें, इसके बारे में यहां जानें 

बैटरी बचाएं

कारों के साथ सबसे आम समस्या बैटरी की आती है। अक्सर लंबे समय तक कार को नहीं चलाने से बैटरी डाउन हो जाती है, जिसके चलते कार स्टार्ट भी नहीं होती। इस समस्या से निपटने का सबसे आसान तरीका यह है कि आप इंजन को कुछ दिनों तक के लिए हर दिन तक स्टार्ट करते रहें, भले ही आप अपनी कार को ड्राइव के लिए नहीं निकाल रहे हों। कार को स्टार्ट करें और न्यूट्रल मोड पर बिना रेस दिए 15-20 मिनट तक ऐसे ही छोड़ दें। ऐसा करने से इंजन गर्म हो जाएगा और ख़राब होने की भी संभावनाएं कम रहेंगी। ध्यान रखें कि आप ब्रेक पर पैर रखना बिलकुल ना भूलें। यदि आपने अपनी कार को गैरेज में पार्क किया है, तो इंजन को स्टार्ट करते समय दरवाजों को खोलना जरूर याद रखें। इंजन को स्टार्ट करते समय आप गाड़ी की लाइट, एसी और वाइपर को भी जरूर चेक करें।

यह भी पढ़ें : कोरोना रिलीफ फंड में एमजी मोटर्स देगी 2 करोड़ रुपये

पार्किंग ब्रेक रिलीज़ करें 

कार पार्क करते समय हैंडब्रेक या पार्किंग ब्रेक लगाना ड्राइवर की आदत हो सकती है। यदि आप अपनी कार को लंबे समय के लिए एक जगह पर खड़ी रखते हैं और अगर वह ढलान पर नहीं है, तो ऐसी स्थिति में हैंडब्रेक को 'ऑन' न रखें। ऐसा करने से ब्रेक पैड या ब्रेक शू लॉक हो सकते हैं। ऑटोमैटिक ट्रांसमिशन वाली कारों की बात करें तो इन्हें सिर्फ 'पार्क' मोड में छोड़ना ही काफी है। वहीं, अगर आपकी कार मैनुअल ट्रांसमिशन से लैस है तो इसे फर्स्ट या सेकंड गियर डाल कर छोड़ दें। यदि आपकी कार ढलान पर खड़ी है तो ऐसी स्थिति में पहियों के नीचे चॉक ब्लॉक लगा दें और हैंडब्रेक को रिलीज़ कर दें। ये आपकी कार को रोक के रखने में मदद करेगा जिससे आपकी गाड़ी आगे नहीं खिसक सकेगी।

टायर्स पर फ्लैट स्पॉट होने से बचाएं 

यदि कार को लंबे समय तक एक ही जगह पर छोड़ दिया जाए तो कॉन्टैक्ट पैचेज़ से टायर पर फ्लैट स्पॉट होने की संभावनाएं बढ़ जाती हैं। जिसके चलते टायर की ग्रिप और कार की राइड क्वालिटी भी काफी प्रभावित होती है। फ्लैट स्पॉट से बचने के लिए अपनी कार को रोज़ाना करीब 15-20 मिनट के लिए आगे व पीछे की तरफ ड्राइव करते रहें जिससे टायर रोटेट हो सकें। 

यह भी पढ़ें : कोरोना के चलते कुछ समय के लिए टोल प्लाजा हुए फ्री

फ्यूल टैंक को फुल रखें 

पेट्रोल और डीजल जैसे ईंधन में वाष्पशील यौगिक (उड़नेवाले) तत्व पाए जाते हैं, ऐसे में यह फ्यूल टैंक के अंदर होने के बावजूद भी उड़ सकते हैं। जिसके चलते यह टैंक के अंदर अवांछित ऑक्सीकरण या संक्षेपण (कंडेनसेशन) पैदा कर सकते हैं जिससे ईंधन के दूषित होने की संभावनाएं बढ़ सकती हैं। रोज़ाना गाड़ी नहीं चलने के कारण पावरट्रेन तक ईंधन सप्लाई भी कम हो सकती है, जिसके कारण कई छोटे कॉम्पोनेन्ट की खराब होने की आशंका भी बढ़ जाती है। आपको बता दें कि पेट्रोल की तुलना में डजल इंजन की शेल्फ लाइफ बेहतर होती है। लेकिन, इसका मतलब ये नहीं कि 21 दिनों के लॉकडाउन में पेट्रोल पूरी तरह से उड़ जाएगा। हमारे अनुसार पेट्रोल इंजन को आधा-खाली नहीं छोड़ें। चूंकि कोरोना वायरस के कारण इस लॉकडाउन को आगे भी बढ़ाया जा सकता है, ऐसे में फ्यूल टैंक को पहले से ही फिल करके रखना बेहतर ऑप्शन है। 

यह भी पढ़ें : सुप्रीम कोर्ट ने बीएस4 व्हीकल रजिस्ट्रेशन की समय सीमा को बढ़ाया आगे

एग्जॉस्ट पाइप को कवर करें 

यदि आप ऐसे इलाके में रहते हैं जहां पर छोटे वन्यजीव के आने की संभावनाएं ज्यादा हों तो ऐसे में अपनी कार के एग्जॉस्ट पाइप को स्टील वूल के जरिये कवर करके रखें। ऐसा करने से जीव-जंतु कार के एग्जॉस्ट पाइप में नहीं घुस सकेंगे और न ही अपना घर बना सकेंगे। ध्यान रखें कि आप अगली बार कार को शुरू करने से पहले इसे हटाना ना भूलें।

यह भी पढ़ें : महिंद्रा के मेड-इन-इंडिया वेंटिलेटर की कीमत रह सकती है 7,500 रुपये से भी कम 

द्वारा प्रकाशित

Write your कमेंट

Read Full News
  • ट्रेंडिंग
  • हाल का
×
आपका शहर कौन सा है?