• लॉगिन / रजिस्टर

आईफोन, आईपैड के बाद अब सेल्फ ड्राइविंग इलेक्ट्रिक कार लाएगी एपल, 2024 में हो सकती है लॉन्च

संशोधित: दिसंबर 24, 2020 09:57 am | भानु

  • 4135 व्यूज़
  • Write a कमेंट

  • रोबो टैक्सी सर्विस के बजाए सेल्फ ड्राइविंग इलेक्ट्रिक कार बनाएगी कंपनी
  • 'मोनोसेल' बैट्री डिजाइन होगा एपल कार में जिससे दूसरी चीजों के लिए स्पेस मिलेगा और कार को रेंज भी ज्यादा मिलेगी
  • अपने फ्यूचर प्रोडक्टस को लेकर एपल की तरफ से अभी नहीं की गई है कोई आधिकारिक पुष्टि, मगर इस प्रोजेक्ट से जुड़े एक खास सूत्र के जरिए बाहर आई है ये खबर
  • ऐसी कार तैयार करने के लिए कुछ मैन्यूफैक्चरर्स से हाथ मिला सकती है कंपनी और ऑटोनॉमस ड्राइविंग एवं यूज़र एक्सपीरियंस को बढ़ावा देने पर फोकस करेगी कंपनी

2015 में ये बात सामने आई थी कि प्रोजेक्ट टाइटन के तहत एपल एक कार तैयार कर रही है। उसके बाद फिर इसको लेकर कोई चर्चा नहीं हुई, मगर 2019 में पता लगा था कि इस प्रोजेक्ट को फिलहाल किसी कारण से टाल दिया गया है। एपल से जुड़े सूत्रों के अनुसार अब कंपनी 2024 तक एक पैसेंजर व्हीकल उतारने के बारे में सोच रही है। 

एक रिपोर्ट के अनुसार एपल कार में कंपनी की ही बैट्री टेक्नोलॉजी का इस्तेमाल किया जाएगा। इसमें दी जाने वाली नई बैट्री का डिजाइन इसकी कॉस्ट को तो कम करेगा ही, साथ में व्हीकल की रेंज को भी बढ़ाएगा।

यह भी पढ़ें: टॉप 10 डिस्काउंट ऑफर: दिसंबर में इन कारों पर मिल रही है सबसे ज्यादा छूट

काफी कारमेकर्स ने बैट्री और सेल्स बनाने में दशकों का अनुभव रखने वाली इलेक्ट्रॉनिक कंपनियों से हाथ मिलाया है। इन कार मैन्यूफैक्चरर्स द्वारा अपनी इलेक्ट्रिक कारों में ऐसे बैट्री पैक्स दिए गए हैं जिनमें हजारों सेल्स का इस्तेमाल होता है। ये सेल्स दिखने में हमारे टीवी के रिमोट में डाले जाने वाले सेल्स जैसे ही होते हैं मगर इन्हें दूसरे कामों के लिए इस्तेमाल किया जाता है। हालांकि एपल अपनी कार में 'मोनोसेल' डिजाइन का इस्तेमाल करने पर विचार कर रही है जो अलग अलग सेल्स को एक ही जगह इक्ट्ठा रख सकेगा और पैक के अंदर ज्यादा जगह बन जाएगी। बची हुई जगह में दूसरे सामान रखे जाएंगे और ये बैट्री पैक गाड़ी को लंबी रेंज भी प्रदान करेगा। 

एपल का ऑटोमेटिव प्लान सबसे बड़ी टेक कंपनी गूगल को चुनौती देगा। गूगल की सहयोगी कंपनी अल्फाबेट इनकॉर्पोरेशन भी एक सेल्फ ड्राइविंग इलेक्ट्रिक कार तैयार करने में जुटी है जो एक रोबो टैक्सी होगी जो ड्राइवर के बिना ही पैसेंजर्स को ड्राप करने के काम में आएगी। यूं समझ लीजिए की आप ओला/उबर में बिना ड्राइवर के सफर कर सकेंगे। एपल द्वारा संभावित रूप से तैयार की जाने वाली 'आईकार' को लोग खरीदने के साथ साथ लीज पर ले सकेंगे या फिर सब्सक्राइब भी कर सकेंगे। 

यह भी पढ़ें: साउथ कोरिया की कोर्ट के हाथ में है अब महिंद्रा की सहयोगी कंपनी सैंग्यॉन्ग मोटर्स का भविष्य

हालांकि कंपनी ने अभी आधिकारिक तौर पर इस बारे में कुछ भी नहीं कहा है, ऐसे में एपल कार का सपना अभी सच होने में काफी समय लगा सकता है। माना ये भी जा रहा है कि टेक्नोलॉजी में अग्रणी ये कंपनी ऑटोनॉमस ड्राइविंग टेक्नोलॉजी पर काम करेगी और कार तैयार करने के लिए वो किसी कार मैन्यूफैक्चरर से हाथ मिला सकती है।

इस खबर के बीच ही टेस्ला के संस्थापक इलोन मस्क ने ट्वीट करते हुए बताया कि वो एपल के सीईओ टिम कुक से टेस्ला के अधिग्रहण को लेकर चर्चा करने गए थे और कंपनी मॉडल 3 को प्रोडक्शन फॉर्म में तैयार करने के लिए जूझ रही है मगर,कुक ने चर्चा करने से मना कर दियां। मस्क के अनुसार वर्तमान में टेस्ला की वैल्यू पहले से 10 गुना ज्यादा हो गई है। यहां ऐसा माना जा रहा है कि यदि एपल अपनी आॅटोनॉॅमस ईवी प्रोजेक्ट को लेकर टेस्ला के पास जाती है तो अब उसका पूरे दिल से स्वागत नहीं किया जाएगा। 

यह भी पढ़ें: बीएमडब्ल्यू 3 सीरीज ग्रां लिमोजीन भारत में 21 जनवरी 2021 को होगी लॉन्च

द्वारा प्रकाशित
was this article helpful ?

0 out ऑफ 0 found this helpful

Write your कमेंट

Read Full News
×
आपका शहर कौन सा है?