हाइब्रिड कारों को ज्यादा टैक्स से मिल सकती है राहत

प्रकाशित: मई 29, 2017 01:50 pm । tushar

  • 10 व्यूज़
  • Write a कमेंट

प्रस्तावित वस्तु एवं सेवा कर (जीएसटी) की वजह से जहां एक ओर बड़ी और लग्ज़री कारों के दाम घटेंगे वहीं हाइब्रिड कारों की कीमत आसमान पर पहुंच जाएगी, इसकी वजह है जीएसटी के तहत लगने वाला 43 फीसदी का टैक्स, जिस पर कार कंपनियों समेत विशेषज्ञों ने भी नकारत्मक प्रतिक्रिया दी है।

दरअसल हाइब्रिड और इलेक्ट्रिक कारों को एक तरफ तो सरकार तेज़ी से बढ़ावा देना चाहती है लेकिन हाइब्रिड कारों के ज्यादा टैक्स सर्किल में आने की वजह से यह लक्ष्य दूर की कौड़ी साबित हो जाएगा, ऐसे में अब जीएसटी काउंसिल दोबारा इस बारे में विचार करने की योजना बना रही है, उम्मीद है कि हाइब्रिड कारों पर लगने वाले टैक्स की दर को कम किया जा सकता है।

मौजूदा समय में हाइब्रिड कारों पर कुल 30.30 फीसदी टैक्स लगता है, इस में 12.5 फीसदी एक्साइज ड्यूटी, केंद्रीय टैक्स और राज्य टैक्स समेत दूसरे टैक्स शामिल हैं। जीएसटी बिल में हाइब्रिड कारों पर 43 फीसदी टैक्स लगाना प्रस्तावित है, इस में 28 फीसदी बेस टैक्स और 15 फीसदी सेस (उपकर) शामिल है। हाइब्रिड कारों की रेंज में फिलहाल यहां टोयोटा कैमरी, होंडा अकॉर्ड और लेक्सस ईएस 300एच समेत दूसरी कई कारें मौजूद हैं, संभावना है कि इनकी बिक्री को बढ़ावा देने के लिए सरकार जीएसटी टैक्स पर फिर से विचार करेगी।

बात करें फुली इलेक्ट्रिक कारों की तो इन पर टैक्स नहीं बढ़ाया गया है, इन पर 12 फीसदी ही टैक्स प्रस्तावित है, जिससे इनकी कीमत कम रहे। फुली इलेक्ट्रिक कारों की रेंज में यहां महिन्द्रा की ई2ओ प्लस और ई-वेरिटो मौजूद हैं, इस फैसले के बाद उम्मीद है कि महिन्द्रा समेत दूसरी कंपनियां भी यहां नई जनरेशन की इलेक्ट्रिक कारें उतारने पर जोर देंगी।

द्वारा प्रकाशित
was this article helpful ?

0 out ऑफ 0 found this helpful

Write your कमेंट

Read Full News
  • ट्रेंडिंग
  • हाल का

ट्रेंडिंगकारें

  • लेटेस्ट
  • अपकमिंग
  • पॉपुलर
×
We need your सिटी to customize your experience