स्कोडा रैपिड vs फोक्सवैगन वेंटो vs टोयोटा यारिस vs हुंडई वरना vs होंडा सिटी - हेडलैंप परफॉर्मेंस कंपेरिजन

संशोधित: जून 24, 2021 01:32 pm | भानु | होंडा सिटी

  • 735 व्यूज़
  • Write a कमेंट

अपनी कार के लिए सही हेडलाइट सेटअप चुनना काफी मुश्किल टास्क हो सकता है। इन लाइट्स में हेलोजन रिफ्लेक्टर्स प्रोजेक्टर्स,एलईडी रिफ्लेक्टर्स प्रोजेक्टर्स,बाय जेनन प्रोजेक्टर्स शामिल हैं वहीं आपके पास अच्छा बजट है तो फिर आप लेजर लाइट्स भी चुन सकते हैं।

अब सवाल ये उठता है कि कौनसी लाइट एकदूसरे से ज्यादा बेहतर है? क्या ज्यादा पैसे खर्च करने से मिलने वाली हेडलाइट अच्छी परफॉर्मेंस देती भी है या फिर वो केवल आपकी कार के लुक्स को और ज्यादा आकर्षक बना देती है। इन तमाम सवालों के जवाब जानने के लिए हमने 6 पॉपुलर कॉम्पैक्ट सेडान कारों की हेडलाइट परफॉर्मेंस का टेस्ट किया है। इस टेस्ट के जरिए हमनें इन कारों के हेडलैंप्स के बारे में ये जानने की कोशिश है कि आखिर ये किस मोर्चे पर देती है अपनी बेस्ट परफॉर्मेंस

इन कारों के हेडलैंप्स परफॉर्मेंस का किया गया है कंपेरिजन

  • स्कोडा रैपिड
  • फोक्सवैगन वेंटो
  • टोयोटा यारिस
  • हुंडई वरना
  • होंडा सिटी

कंपेरिजन का आधार 

ये कंपेरिजन के लिए हमनें एलयूएक्स मीटर का इस्तेमाल किया है। आसान भाषा में कहें तो हमने अलग अलग पॉइन्ट्स के जरिए इन लाइट्स की इंटेसिटी को चैक किया है। इन पॉइन्ट्स को मार्क करने के लिए हमनें कुछ प्रॉपर्टी का इस्तेमाल किया। ऐसे में एलयूएक्स की रीडिंग के मुताबिक जितने ज्यादा एलयूएक्स नंबर्स होंगे उसका मतलब ये होगा कि आपकी लाइट किसी ऑब्जेक्ट पर काफी अच्छे से पड़ती है और विजिबिलिटी क्लीयर मिलती है। मगर किसी परफैक्ट हेडलैंप की इंटेसिटी नंबर्स कितने होने चाहिए? यहां दिए गए उदाहरण देखें?

कंडीशन

इल्युमिनेशन (एलयूएक्स)

सनलाइट

107527

फुल डेलाइट

10752

फुल मून

0.108

किन कंडीशन में हमनें किया इन हेडलैंप्स का टेस्ट?

  • हमनें हेडलैंप्स का टेस्ट डार्क रूम में आयोजित किया जिसमें टेस्ट एरिया की लंबाई 18 मीटर थी।  
  • रीडिंग को लक्स मीटर पर लिया गया था। लक्स मीटर को 21 इंच की ऊंचाई पर ट्राईपॉड पर माउंट किया गया था।
  • एक सड़क को रीक्रिएट किया गया जिसमें हर 5 मीटर के अंतराल पर अलग-अलग ऑब्जेक्टस को रखा गया था।
  • कार को उसकी लेन के ठीक सेंटर में रखा गया था।
  • दूर की दीवार के हर फुट के वर्टिकल एक्सिस पर मार्किंग की गई।
  • हेडलाइट लेवलर्स को 0 पर सेट किया गया।

ये डायग्राम व्हीकल, कैमरा और प्रॉप्स की पोज़िशनिंग को समझने में आपकी मदद करेगा :-

स्नैपशॉट: कारों के फ्रंट प्रोफाइल

चलिए अब इन कारों के हेडलैंप्स पर डालते हैं एक नजर:

  • स्कोडा रैपिड

लो बीम:हेलोजन प्रोजेक्टर

हाई बीम:हेलोजन रिफ्लेक्टर

फॉगलैंप्स:येलो हेलोजन

लो बीम: एलईडी रिफ्लेक्टर

हाई बीम: एलईडी रिफ्लेक्टर

फॉगलैंप्स:येलो हेलोजन

 लो बीम:हेलोजन प्रोजेक्टर

हाई बीम:हेलोजन रिफ्लेक्टर

फॉगलैंप्स:येलो हेलोजन

  • हुंडई वरना

लो बीम: एलईडी रिफ्लेक्टर

हाई बीम: एलईडी रिफ्लेक्टर

फॉग लैंप्स: हेलोजन प्रोजेक्टर

  • होंडा सिटी

लो बीम: एलईडी रिफ्लेक्टर

हाई बीम: एलईडी रिफ्लेक्टर

फॉग लैंप्स:व्हाइट एलईडी

किस कार की है सबसे चौड़ी लो बीम?

इस बात से कोई फर्क नहीं पड़ता कि आप गाड़ी हाईवे पर चला रहे हैं या फिर सिटी की कम चौड़ी सड़कों पर आपको कहीं ना कहीं खराब रोशनी की समस्या का सामना करना ही पड़ सकता है जिसके बाद आपकी गाड़ी के हेडलैंप्स ही आपके ज्यादा काम आते हैं। जितना ज्यादा आपके हेडलैंप्स की लाइट्स सड़क या सामने किसी ऑब्जेक्ट तक जाएंगी उतना ही आपको सामने का व्यू अच्छे से मिलेगा और आप किसी तरह से भी अपना संतुलन नहीं खो पाएंगे।

निष्कर्ष

  • होंडा सिटी की लो बीम सबसे ज्यादा फैलती है और इसकी ब्राइटनैस भी काफी अच्छी है। इसकी दुधिया रोशनी से आप अपने आसपास किसी भी ऑब्जेक्ट को स्पॉट कर सकते हैं। आपको बिना रोशनी वाली सड़कों पर ये कार हाई बीम पर चलाने की कोई जरूरत ही नहीं है।
  • भले ही टोयोटा यारिस की लो बीम ब्राइट व्हाइट ना हो मगर ये है काफी पावरफुल। कम रोशनी वाली जगहों पर किसी ऑब्जेक्ट को देखने के लिए आपको इसे हाई बीम पर रखने की जरूरत महसूस हो सकती है।
  • वेंटो की लो बीम काफी अच्छे से फैलती है मगर इससे रोड की विजिबिलिटी ही अच्छी मिलती है। हालांकि आपको इस दौरान किसी एडिशनल लाइट की जरूरत तो महसूस नहीं होगी,यदि इसकी बीम कुछ आगे की तरफ भी फोकस रख पाती तो इससे कोई शिकायत नहीं रहती। इस एक फायदा ये भी है गाड़ी को आप घने अंधेरे में काफी अच्छे से पार्क कर सकते हैं।
  • स्कोडा रैपिड की लोअर बीम काफी डल महसूस होती है। ऐसे में हमारी राय में आप बिना लाइट वाले रास्तों पर हाई बीम पर ही चलाएं।
  • हुंडई वरना में आपको नजदीकी ऑब्जेक्ट दिख तो जाएंगे मगर उनपर प्रकाश ठीक से पड़ता हुआ नजर नहीं आएगा। आप ये तो कह सकते हैं कि हां आपको कुछ दिखाई दे रहा है मगर वो चीज क्या है इसकी अंदाजा लगाने में आपको कुछ परेशानी महससू हो सकती है। 

लो बीम (फैलाव) 

 

एल1

आर1

एल2

आर2

रैपिड

18.5

1

14.3

1.5

वेंटो

13

4.1

17.5

2.9

यारिस

27.2

21.5

16

1.8

वरना

0.9

1.3

30.6

13.1

सिटी

14.2

43.9

29

6.9

इनसाइट

होंडा सिटी: 43.9 एलयूएक्स की रीडिंग पर 5 मीटर तक होंडा सिटी की लो बीम इंटेसिटी सबसे ज्यादा पाई गई। जैसे जैसे डिस्टेंस बढ़ा राइट हैंड साइड के कंपेरिजन में लेफ्ट हैंड साइड का इल्युमिनेशन बेहतर होता गया।

टोयोटा यारिस: शुरू शुरू में यारिस की लो बीम इंटेसिटी काफी अच्छी रही। 5 मीटर आगे राइट हैंड साइड पर एक डॉग और लेफ्ट हैंड साइड पर चल रहे एक शख्स पर लाइट काफी अच्छे से पड़ी। इसके बाद जब 10 मीटर तक लेफ्ट हैंड साइड देखने पर लाइट का उतना प्रभाव नहीं दिखा। वहीं राइट हैंड साइड पर लाइट का इफैक्ट काफी तेजी से कम हुआ।

फोक्सवैगन वेंटो: इसमें आपको 5 मीटर दूर स्थित ऑब्जेक्ट और आपके व्हीकल के बीच पड़ने वाले रास्ते का नजारा तो आराम से दिखेगा। इसमें आपको और कुछ दूरी पर स्थित ऑब्जेक्टस भी आसानी से नजर आ जाएंगे।

स्कोडा रैपिड: इसके आउटपुट को वेंटो के बराबर या उससे थोड़ा ही कम रखा जा सकता है। इसमें लेफ्ट हैंड साइड का व्यू ज्यादा बेहतर मिलता है। वहीं राइड साइड पर मौजूद ऑब्जेक्ट ज्यादा अच्छे से दिखाई नहीं देते हैं।

हुंडई वरना: वरना की एलईडी लाइट्स दिखने में काफी आकर्षक है और 10 मीटर तक की दूरी तक इसकी लाइट्स काफी अच्छे से पहुंचती है। मगर जब बात 5 मीटर की दूरी की आती है तो एलयूएक्स मीटर पर आंकड़े कुछ और ही कहानी बयां करते हैं।

सड़क पर आगे की तरफ सीधी लाइट सबसे सटीक किस कार की पड़ती है?

निष्कर्ष

  • 5 मीटर तक की साइटिंग के लिए होंडा सिटी की लो बीम सबसे ज्यादा स्ट्रॉन्ग है। हालांकि बीम का फोकस एकदम सीधा रहता है और इसकी रोशनी सड़क पर काफी कम पड़ती है। ऐसे में जिन सड़कों पर लाइट कम होती है वहां फॉगलैंप्स का इस्तेमाल किया जा सकता है।
  • वरना के हेडलैंप्स का फोकस सेंटर पर एकदम शार्प है जिससे सड़क और आगे चल रहे ट्रैफिक दोनों की विजिबिलिटी काफी अच्छी मिलती है।
  • वेंटो की लाइटें सिटी की सड़कों पर काफी अच्छे से फैलती है मगर हाईवे पर आपको इसे हाईबीम पर रखने की जरूरत महसूस हो सकती है।
  • यारिस की लाइट से आपको कोई शिकायत तो नहीं रहेगी मगर इसकी इंटेसिटी थोड़ी और ज्यादा होती तो और भी बेहतर रहता।
  • दूसरी कारों के मुकाबले रैपिड के हेडलैंप्स की लाइट ना सीधी पड़ती है और ना ही इसकी इंटेसिटी पावरफुल है।  जिन रास्तों का आपको पहले से ही आइडिया रहता है वहां आपको इसके हेडलैंप्स से कोई परेशानी नहीं होगी बावजूद इसके कि इसमें प्रोजेक्टर हेडलैंप्स दिए गए हैं।

लो बीम (इंटेसिटी)

 

रैपिड

वेंटो

यारिस

वरना

सिटी

5-मीटर

197.3

420.4

345.4

844.5

1048

10-मीटर

12.3

42.3

55.8

404.3

247.6

इनसाइट्स

होंडा सिटी: 5 मीटर तक एलयूएक्स रीडिंग के बाद इस मामले में होंडा सिटी को टॉप पर रखा जाता है। यहां तक कि होंडा सिटी की लो बीम इसके मुकाबले में मौजूद दूसरी कारों की हाई बीम से ज्यादा पावरफुल है।

हुंडई वरना: इस सेडान की परफॉर्मेंस यहां बैलेंस्ड लगती है। ना सिर्फ ये 5 मीटर टार्गेट परफॉर्मेंस के मामले में नंबर 2 पर आती है बल्कि ये लाइट लॉस होने पर उसे कंट्रोल भी काफी अच्छी तरह से करती है और 10 मीटर तक की रेंज पर भी काफी सॉलिड परफॉर्मेंस देती है।

फोक्सवैगन वेंटो: हर 5 मीटर के बाद वेंटो की लाइटिंग परफॉर्मेंस हर 5 मीटर के बाद गिरने लगती है। 5 मीटर पर 420.2 रीडिंग से ये इसकी एक दहाई रहकर 42.3 पर पहुंच जाती है।

टोयोटा यारिस: जहां वेंटो और यारिस 10 मीटर मार्क पर एक दूसरे को कड़ी टक्कर देती है। तो वहीं यारिस 5 मीटर मार्क पर उतना अच्छा परफॉर्म करती नहीं नजर आती है।

स्कोडा रैपिड: इस मोर्चे पर रैपिड की परफॉर्मेंस काफी कमजोर रही है जिसकी इंटेसिटी काफी कम पाई गई है। 5 मीटर से 10 मीटर आगे जाते ही इसकी इंटेसिटी 90 प्रतिशत तक गिरती हुई पाई गई। 

किस सेडान की हाई बीम ज्यादा फैलती है?

हाईवे पर हाई बीम काफी मुख्य रोल प्ले करती है। भारत में आज भी ऐसे कई हाईवे हैं जहां काफी ट्रैफिक रहता है मगर वहां एक्सटरनल लाइटिंग की कोई व्यवस्था नहीं है। ऐसे में सेफ्टी के लिए अच्छी हाई बीम की काफी जरूरत रहती है।

(नोट:बिना लाइट वाली सड़कों पर ट्रैफिक को फॉलो करते हुए समय समय पर डिपर का प्रयोग करें। किसी दूसरे व्हीकल को फॉलो करते समय कभी भी अपनी हाई बीम का उपयोग न करें क्योंकि फिर ये उनके मिरर में विजिबिलिटी में रूकावट पैदा करेगा और इससे आप भी सुरक्षित नहीं रहेंगे)

निष्कर्ष

  • यहां भी होंडा सिटी की परफॉर्मेंस ने काफी इंप्रेस किया है जहां कार से काफी दूरी पर स्थित ऑब्जेक्ट्स भी आराम से विजिबल थे।
  • वेंटो की हाई बीम उतनी स्ट्रॉन्ग नहीं है ​और इसका फोकस सीधा ज्यादा रहता है। यदि आप हाई बीम/फ्लैशर तो वो आपके सामने से आ रहे व्हीकल के ड्राइवर की आंखो में चुभ सकता है। ऐसे में इसका इस्तेमाल ध्यान से करें।
  • वरना की हाई बीम का फोकस ऑब्जेक्ट्स पर अच्छा पड़ता है। यदि ये रीच से बाहर ऑब्लेक्ट्स पर भी थोड़ा अच्छे से पड़ती तो सड़क पर इसका इस्तेमाल और भी बढ़िया रहता।
  • यारिस की लाइट काफी अच्छे से फैलती है जहां लो बीम पर पहले से ही ऑब्जेक्ट्स अच्छे से दिखाई पड़ते हैं।
  • रैपिड की हाई बीम का भी परफॉर्मेंस उतना खास नहीं है। इसकी हेडलाइट एक बार फिर इंप्रेस करने में असफल हुई है।

हाई बीम (फैलाव)

 

एल2

आर2

एल3

आर3

रैपिड

17.4

7.5

17.8

9.2

वेंटो

27.8

11.8

46.9

16.7

यारिस

27

10.8

31.5

10.8

वरना

33.5

17.1

40.8

22.7

सिटी

54

14.4

63.7

11.7

इनसाइट्स

होंडा सिटी: एक बार फिर से सिटी सेडान ने इंप्रेस किया। इसकी बीम काफी स्ट्रॉन्ग है।

हुंडई वरना: जैसे जैसे डिस्टेंस बढ़ा वैसे वैसे ही सिटी सेडान की तरह वरना सेडान की एलयूएक्स मीटर रीडिंग के नंबर भी ब़ढ़े। इसी दौरान 10 मीटर की दूरी पर रोड क्रॉस कर रहा एक शख्स आराम से स्पॉट हो गया वहीं 15 मीटर दूर राइट हैंड साइड पर टहल रहा शख्स भी स्पॉट हो गया।

फोक्सवैगन वेंटो और टोयोटा यारिस: इस मोर्चे पर वेंटो और यारिस की रीडिंग लगभग एक समान ही रही मगर वेंटो थोड़ा आगे निकल गई जिसकी लाइट का फोकस एक गाय और एक आदमी पर अच्छे से पड़ा।

स्कोडा रैपिड: प्रोजेक्टर हेडलाइट सेटअप होने के बावजूद रैपिड का परफॉर्मेंस अच्छा नहीं रहा जिसकी सभी टार्गेट पर रेटिंग काफी कम रही। 

किसी सेडान की बीम रीच सबसे ज्यादा है?

पिछले टेस्ट के मुकाबले इस टेस्ट में सबसे स्ट्रॉन्ग और उंचाई तक पहुंचने वाली हाई बीम का टेस्ट किया गया जो ओवरहैड साइनबोर्ड और बिना टेललाइट वाले ट्रेलर्स को स्पॉट करने के बड़े काम आती है। 

निष्कर्ष: जैसा कि हमनें 7 सीटर एसयूवी टेस्ट के दौरान किया था यहां भी हमने इसे मापने का पैमाना 4 फीट या उससे कम रखा है। 

इनसाइट्स 

होंडा सिटी: ​दो और तीन फीट पर सिटी की परफॉर्मेंस सबसे स्ट्रॉन्ग रहती है। वहीं ये 4 फीट पर वरना से भी अच्छा परफॉर्म करती है बाकि दूसरे पैमानों पर ये वरना से पीछे रहती है। 

हुंडई वरना: 2 फीट की उंचाई पर वरना की परफॉर्मेंस सबसे शानदर दिखाई पड़ती है मगर इसके बाद जैसे इसे और दूर ले जाने की कोशिश की जाती है वैसे वैसे इसकी परफॉर्मेंस गिरने लगती है। 

फोक्सवैगन वेंटो और स्कोडा रैपिड: जहां रैपिड की परफॉर्मेस 3 फीट तक की उंचाई पर अच्छी रहती है वहीं इसके बाद वाले उंचाई के पैमानों पर वेंटो की परफॉर्मेंस इससे अच्छी हो जाती है। 

टोयोटा यारिस: इस मामले में यारिस की परफॉर्मेंस रैपिड और वेंटो के बराबर ही है। कम उंचाई पर इसकी परफॉर्मेंस दोनों कारों से अच्छी है वहीं थोड़ी और हाइट पर इसकी परफॉर्मेंस इन दोनों कारों से थोड़ी कम रह जाती है। 

हाई बीम (थ्रो)

 

रैपिड

वेंटो

यारिस

वरना

सिटी

2 फीट

55.3

241.2

242.4

174

136

3 फीट

194.1

174.8

162.5

65.7

148.6

4 फीट

98.4

120.1

92.3

30

85.6

5 फीट

53.8

73.9

43.4

19

27.7

6 फीट

27.8

54.8

23.7

15

14

7 फीट

13.6

33.8

10.7

9.3

7.8

क्या फॉगलैंप आक्या फॉगलैंप आते हैं काम?

फॉगलैंप्स ना सिर्फ बारिश या कोहरे पड़ने पर ही काम नहीं आते हैं बल्कि ये रात में कीचड़ भरे रास्तों और खराब सड़कों पर भी ड्राइव करने के दौरान काफी  काम के साबित होते हैं।

निष्कर्ष

सभी मामलों में फॉगलैंप्स से लाइट की इंटेसिटी और भी बढ़ जाती है। ऐसे में लो बीम के साथ फॉगलैंप्स जला लेना भी कभी कभी काफी काम का साबित हो सकता है।

 

लो बीम+फॉग

 

रैपिड

वेंटो

सिटी

वरना

यारिस

 

बिना फॉग के

फॉग के साथ

बिना फॉग के

फॉग के साथ

बिना फॉग के

फॉग के साथ

बिना फॉग के

फॉग के साथ

बिना फॉग के

बिना फॉग के

लेफ्ट

18.5

24.1

13

15.7

14.2

17.5

0.9

3.3

27.2

29.2

राइट

1

7.7

4.1

7.4

43.9

49.5

1.3

3.7

21.5

24.1

सेंटर

197.3

213.4

420.4

427.7

1048

1054

844.5

859.5

345.4

352.3

लीडरबोर्ड

पहला स्थान: होंडा सिटी

होंडा सिटी की ब्राइट,चौड़ी और ज्यादा इंटेसिटी वाली लो बीम इसे सबसे उपर का स्थान दिलाती है। इसकी हाई बीम भी काफी अच्छे से फैलती है और अगर ये इसके बोनट के आसपास थोड़ी और ब्राइटनैस ​देती तो और भी अच्छा होता।

दूसरा स्थान:फोक्सवैगन वेंटो

फोक्सवैगन वेंटो की लो बीम काफी पावरफुल है जो काफी अच्छे से बिखरती है। वहीं इसकी हाई बीम की रीच सबसे बेस्ट है।

तीसरा स्थान: हुंडई वरना

वरना की लाइटों का फोकस काफी सीधा रहता है। यदि इसके हेडलैंप्स की लाइट सामने ज्यादा अच्छे से फैलती तो शायद ये वेंटो की जगह दूसरे स्थान पर होती।

चौथा स्थान: टोयोटा यारिस

यारिस का लाइटनिंग सेटअप ज्यादा न्यूट्रल लगता है जो अच्छी कवरेज और अच्छी ब्राइटनैस देता है। टॉप 3 सेडान के कंपेरिजन में इसके हेडलैंप्स की इंटेसिटी थोड़ी कम नजर आती है। अगर इसमें अच्छे बल्ब लगा दिए जाएं तो फिर परेशानी की कोई बात नहीं।

पांचवा स्थान: स्कोडा रैपिड

डल येलो लाइटिंग के साथ रैपिड सबसे आखिरी स्थान पर आती है। लो बीम और हाई बीम दोनों पर ही इसकी डलनैस बरकरार रहती है। ऐसे में हमारी राय यही रहेगी कि आप इसके लैंप्स को अपग्रेड करा लें।

द्वारा प्रकाशित
was this article helpful ?

0 out ऑफ 0 found this helpful

होंडा सिटी पर अपना कमेंट लिखें

Read Full News
  • स्कोडा रैपिड
  • होंडा सिटी
  • हुंडई वरना
  • फॉक्सवेगन वेंटो
बड़ी बचत !!
40% की बचत करें! पुरानी होंडा कारें पर सरवोततम सौदो का पता लगाए
नई दिल्ली में उपलब्ध होंडा सिटी के यूज़्ड मॉडल्स देखे

कंपेयर करने के लिए मिलती-जुलती कारें

एक्स-शोरूम कीमत नई दिल्ली
×
We need your सिटी to customize your experience