• लॉगिन / रजिस्टर

टाटा नेक्सन पेट्रोल : फर्स्ट ड्राइव रिव्यू

Published On अक्टूबर 23, 2020 By भानु for टाटा नेक्सन

5-स्टार सेफ्टी रेटिंग मिलने के बाद टाटा नेक्सन मार्केट में और भी ज्यादा पॉपुलर एसयूवी बन गई है। अच्छी बात ये है कि इसका स्पेशियस केबिन और कंफर्टेबल रियर सीट्स इसे एक परफैक्ट फैमिली कार भी बनाती है। 2020 में टाटा ने इसे एक फेसलिफ्ट अपडेट भी दे दिया। अब इसके लुक्स पहले से काफी बेहतर हो गए हैं, इसमें अच्छे फीचर्स भी दे दिए गए हैं और इसका पेट्रोल इंजन भी ज्यादा पावरफुल हो गया है। हालांकि कंपनी ने इसकी प्राइस भी बढ़ा दी है लेकिन इसके बावजूद ये एक शानदार पैकेज के तौर पर देखी जा सकती है। तो क्या इन सब खूबियों के बावजूद भी ये अपने सेगमेंट में मौजूद दूसरी कारों को कड़ी टक्कर दे पाने में सक्षम है, जानेंगे इस फर्स्ट ड्राइव रिव्यू में:

लुक्स

टाटा नेक्सन को डिजाइन करने वालों ने इसमें हर जगह नए ट्राय एरो शेप के एलिमेंट्स का इस्तेमाल किया है। इसमें मोटी ग्रिल और बेहतर डिजाइन वाले एयर डैम दिए गए हैं जिससे इसका फ्रंट काफी आलीशान नजर आता है। कंपनी ने इसमें नए डिजाइन के हेडलैंप्स भी दिए हैं जिनमें प्रोजेक्टर बीम्स का फीचर मौजूद है। इसके डेटाइम रनिंग लैंप को भी ट्राय एरो शेप दी गई है। कुल मिलाकर नेक्सन बीएस6 का लुक पहले से काफी शानदार हो गया है।

साइड प्रोफाइल की बात करें तो यहां आपको ज्यादा बदलाव नजर नहीं आएंगे। इसमें अब अलग लुक वाले अलॉय व्हील दे दिए गए हैं और साइड क्लैडिंग में भी ट्राय एरो डिजाइन दी गई है। इसमें सी पिलर की क्लैडिंग में भी बदलाव किए गए हैं। ​रियर प्रोफाइल की बात करें तो यहां भी आपको काफी कम बदलाव देखने को मिलेंगे। इसमें अब ट्राय एरो शेप के टेललैंप्स दे दिए गए हैं। इसके बूट पर अब नेक्सन नाम के लैटर्स भी दे दिए गए हैं और बंपर को भी अपडेट किया गया है। कुल मिलाकर नेक्सन पहले से ज्यादा शार्प हो गई है।

इंटीरियर

नेक्सन के दरवाजे काफी चौड़े खुलते हैं और इसकी हाइट एडजस्टेबल सीट्स भी काफी बड़ी और कंफर्टेबल है। इसका इंटीरियर ​भी कंपनी ने काफी अच्छे से डिजाइन किया है जिससे इसमें बैठने वालों को भी अच्छा महसूस होता है। इसमें ग्लॉसी व्हाइट फिनिशिंग वाला नया डैशबोर्ड दिया गया है जो काफी प्रीमियम नजर आता है। इसमें भी कंपनी ने ट्राय एरो एलिमेंट दिया है। कार के केबिन में खुलेपन का भी अहसास होता है। नेक्सन के पुराने मॉडल के मुकाबले नए मॉडल की फिट और फिनिशिंग भी काफी अच्छी है।

टाटा नेक्सन के टॉप वेरिएंट में लैदर कवर वाला फ्लैट बॉटम स्टीयरिंग व्हील दिया गया है। हालांकि, म्यूजिक, कॉल्स, क्रूज़ कंट्रोल्स के बटन इतने टाइट दबते हैं कि आप गलती से कभी हॉर्न दबा बैठते हैं। ऐसा अक्सर यू टर्न लेते वक्त भी होता है।

नई नेक्सन में नया इंस्ट्रूमेंट क्लस्टर दिया गया है। इसमें काफी सारी इंफोर्मेशन डिस्प्ले होती है और दिखने में भी ये काफी अच्छा लगता है। हालांकि इसकी डिस्प्ले काफी छोटी है जिसमें टायर प्रेशर मॉनिटरिंग सिस्टम, ट्रिप, एवरेज एफिशिएंसी जैसी जानकारियां मिलती है। ऐसे में आपको ड्राइव करते वक्त कोई भी जानकारी देखनी हो तो स्क्रीन को काफी गौर से देखना पड़ता है।

इन सब के अलावा नई नेक्सन कार में सनरूफ, ऑटोमैटिक क्लाइमेट कंट्रोल, पुश बटन स्टार्ट स्टॉप, ऑटोमैटिक हेडलैंप्स, रेन सेंसिंग वायपर्स, क्रूज़ कंट्रोल, इलेक्ट्रिक फोल्डिंग और एडजस्टेबल आउटसाइड रियरव्यू मिरर जैसे फीचर्स दिए गए हैं। 

इंफोटेनमेंट

इंफोटेनमेंट यूनिट के तौर पर नेक्सन में कलर और थीम बदलने वाली 7 इंच की टचस्क्रीन डिस्प्ले दी गई है। ये काफी स्मूदली काम करती है और इसमें फीचर्स भी ज्यादा दिए गए हैं। इसके अलावा इसके इंफोटेनमेंट में आईआरए कनेक्टेड कार टेक्नोलॉजी का फीचर भी दिया गया है जिससे फ्लैश हेडलाइट्स, लॉक एंड हॉर्न, लाइव व्हीकल डायग्नोस्टिक्स, व्हीकल लोकेशन ट्रैक, जिओ फैंस और ट्रिप एनालिटिक्स जैसे रिमोट व्हीकल कंट्रोल मिलते हैं। हालांकि इससे आप एसी ऑन या ऑफ नहीं कर सकते हैं जबकि नेक्सन ईवी में इसके लिए जेड कनेक्ट एप्लिकेशन का फीचर दिया गया है। भारत में जिस कदर गर्मी पड़ती है उसे देखते हुए ये फीचर आपके कार में बैठने से पहले ही उसे ठंडा करने के काम में आता है। 

इसके नेविगेशन में ‘What Three Words’ नाम का फीचर भी मौजूद है जिसमें आप अपनी मंजिल पर पहुंचने के लिए डेस्टिनेशन से संबंधित तीन की वर्ड्स का वॉइस कमांड देंगे और इंफोटेनमेंट सिस्टम आपके लिए आपकी डेस्टिनेशन ढूंढ लेगा। वॉइस कमांड की बात करें तो नेक्सन में आप फोन, मीडिया और क्लाइमेट कंट्रोल का इसके जरिए इस्तेमाल कर सकते हैं। सबसे अच्छी बात ये है कि यह हिंदी में भी काम करता है। हालांकि,आप इससे विंडोज़ या सनरूफ जैसे फीचर्स को ऑपरेट नहीं कर सकते हैं। यदि इन टेक्नोलॉजी में आपकी कोई खास रुचि नहीं है तो आपके एंटरटेनमेंट के लिए नेक्सन में 8 स्पीकर वाला हर्मन कार्डन साउंड सिस्टम दिया गया है जो इस सेगमेंट में सबसे बेस्ट है।

जहां टाटा ने नेक्सन के केबिन को प्रीमियम बनाने में मॉडर्न फीचर्स देने में कोई कसर नहीं छोड़ी है तो वहीं कंपनी ने कुछ प्रेक्टिकैलिटी की तरफ ध्यान नहीं दिया है। इसके कप होल्डर्स काफी गहरे और संकरे हैं जिनमें कप रखना मुश्किल हो जाता है, वहीं फ्रंट यूएसबी पोर्ट तक हाथ भी काफी मुश्किल से पहुंचता है। हालांकि इन छोटी मोटी खामियों को दूर कर दिया जाता तो प्रैक्टिकैलिटी के मोर्चे पर भी ये कार काफी अच्छी मानी जा सकती थी। लेकिन ऐसा नहीं है कि इसमें प्रैक्टिकैलिटी पूरी तरह से अव्यवस्थित है क्योंकि इसमें बड़े डोर पॉकेट्स के साथ अंब्रेला होल्डर और बड़ा 15 लीटर का कूल्ड ग्लवबॉक्स भी दिया गया है। 

सेफ्टी 

सेफ्टी के मोर्चे पर माइक्रो एसयूवी सेगमेंट में टाटा नेक्सन दूसरी सबसे सेफ कार मानी गई है जिसे एनकैप द्वारा 5 स्टार रेटिंग मिली है। इसमें ड्यूल एयरबैग, एबीएस के साथ ईबीडी, आईएसओफिक्स चाइल्ड सीट एंकर्स, ईएसपी और रिवर्स पार्किंग सेंसर एवं कैमरा दिया गया है। 

रियर सीट 

रियर सीटिंग के मोर्चे पर टाटा नेक्सन अपने सेगमेंट की सबसे बेस्ट कार है। इसकी बड़ी बेंच टाइप सीट अच्छा कंफर्ट देती है। चाहे बात लेगरूम, हेडरूम, अंडर थाई सपोर्ट या रिक्लाइन एंगल की हो, इसकी सीटें वाकई शानदार है। इसका केबिन इतना चौड़ा है कि पीछे की सीटों पर तीन पैसेंजर आराम से बैठ सकते हैं। अधिक सुविधा के लिए इसमें रियर एसी वेंट्स और 12 वोल्ट सॉकेट भी दिए गए हैं। इसके आर्मरेस्ट में दो कप होल्डर और डोर पॉकेट्स दिए गए हैं जहां आराम से एक लीटर तक की बॉटल रखी जा सकती है। यदि आप अपनी फैमिली के कंफर्ट के लिए कोई सब-4 मीटर एसयूवी लेने का मन बना रहे हैं तो नेक्सन आपको बिल्कुल भी निराश नहीं करेगी। 

बूट स्पेस 

नेक्सन में 350 लीटर का बूट स्पेस दिया गया है जिसमें आप आराम से एक बड़ा, एक मीडियम और एक उससे छोटा सूटकेस रख सकते हैं। इसके अलावा भी छोटा बैग रखा जा सकता है। य​दि आपको और भी अधिक बूट स्पेस चाहिए तो इसकी रियर बेंच को फोल्ड कर सकते हैं। 

इंजन और परफॉर्मेंस

टाटा नेक्सन 1.2 लीटर टर्बो पेट्रोल और 1.5 लीटर डीजल इंजन में उपलब्ध है। हमने इसके टर्बो पेट्रोल वेरिएंट को चलाकर देखा है। इसका 1.2 लीटर टर्बोचार्ज्ड इंजन 120 पीएस की पावर और 170 एनएम का टॉर्क जनरेट करने में सक्षम है जिसके साथ 6-स्पीड मैनुअल गियरबॉक्स दिया गया है। ये ड्राइव करने के लिहाज से काफी अच्छा है। वहीं इसका रिफाइनमेंट लेवल भी अब पहले से थोड़ा बेहतर हुआ है। 

हालांकि, इस इंजन को ऑन करते ही केबिन में वाइब्रेशन को महसूस किया जा सकता है और ये खुद भी थोड़ा शोर करता है। हालांकि ये चीज़े सिर्फ गाड़ी के न्यूट्रल खड़े रहने तक ही महसूस की जा सकती है। इसके बाद पहला गियर डालते ही ये कार तुरंत रफ्तार पकड़ लेती है। सिटी में ये अच्छी खासी पावर दे देता है। वहीं इसका हल्का क्लच भी ड्राइविंग को आसान बना देता है। 

लोअर आरपीएम पर कार में थोड़ी कम पावर रहती है ऐसे में भारी ट्रैफिक के दौरान आपको कुछ परेशानी हो जाती है। ऐसे में आपको बार बार गियर भी डाउन करना पड़ता है। मगर जैसे ही इंजन में टर्बो आने लगता है तो कार में नई सी जान आ जाती है और ओवरटेकिंग के लिए पर्याप्त मात्रा में टॉर्क मिलने लगता है। इस दौरान इंजन की एफिशिएंसी भी अच्छी हो जाती है। नेक्सन के बीएस4 मॉडल के मुकाबले बीएस6 मॉडल का इन गियर एक्सलरेशन ज्यादा अच्छा हो गया है। वहीं हाईवे पर ये 2000 आरपीएम तक आराम से 100 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से चल लेती है। 

यदि आपका स्पोर्टी ड्राइविंग करने का मन होता है तो स्पोर्ट ड्राइव मोड पर चलाने के बावजूद इससे वैसी टॉप एंड परफॉर्मेंस नहीं मिलती है। ऐसे में 10 पीएस की पावर मिलने के बावजूद नेक्सन उतनी तेज और फुर्तिली नहीं लगती है। यहां तक कि बीएस4 नेक्सन पेट्रोल के मुकाबले 0 से 100 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार हासिल करने में 2 सेकंड का ज्यादा समय लेती है। इसके दो कारण भी है, पहला तो ये कि बीएस6 अपडेट के कारण गाड़ियों की पावर कम कर दी गई है और नेक्सन को अतिरिक्त पावर इसे ज्यादा तेज बनाने के लिए नहीं इसकी परफॉर्मेंस बेहतर करने के लिए दी गई है। दूसरा कारण गियर शिफ्ट्स का है। सिटी में इसके गियर शिफ्टस उतने स्मूद नहीं लगते हैं। हाई रेव्स पर दूसरा गियर लगाते हुए आपको काफी ज्यादा ताकत लगानी पड़ेगी और 100 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार में थर्ड गियर लगाने पर मिस शिफ्ट भी हो सकता है। वहीं इसी स्पीड पर गियर शिफ्ट करने से इंजन थोड़ा ढीला पड़ जाता है जिससे उसे फिर से वो मोमेंटम हासिल करने में काफी समय लगता है। 

पहले की तरह नेक्सन में ड्राइव मोड्स के हिसाब से ही पावर की डिलेवरी निर्भर करती है। सिटी मोड में गाड़ी को आराम से चलाने लायक पावर मिलती है, वहीं स्पोर्ट मोड में आप कार तेज चला सकते हैं जबकि ईको मोड में इंजन थोड़ा ढीला पड़ जाता है। 

राइड और हैंडलिंग 

सिटी में नेक्सन की राइड उतनी कंफर्टेबल नहीं लगती है। हालांकि गड्ढों या स्पीड ब्रेक​र आने के दौरान गाड़ी के सस्पेंशन फिर से सैटल हो जाते हैं। 

कोई बहुत बड़ा गड्ढा या रुकावट आ जाने पर नेक्सन में बैठे पैसेंजर्स को बिल्कुल घबराने की जरूरत नहीं रहती है। इसके सस्पेंशन काफी शांत रहते हैं और पैसेंजर्स तक झटकों को पहुंचने ही नहीं देते है। हालांकि आप लगातार किसी खराब सड़क या उबड़ खाबड़ रास्ते पर चल रहे हों तो साइड टू साइड मूवमेंट थोड़ा परेशान जरूर करता है। 

कीमत 

नेक्सन को जब पहली बार लॉन्च किया गया था तो इसकी कीमत काफी आकर्षक रखी गई थी। इसके बाद से कंपनी लगातार इसकी प्राइस में इजाफा करती चली गई। अब तो नेक्सन के टॉप वेरिएंट की प्राइस हुंडई वेन्यू से भी ज्यादा है। टाटा ने काफी सूझबूझ दिखाते हुए इसके एक्सएमएस वेरिएंट को लाइनअप के बीच में पोजिशन किया है जिसमें काफी अच्छे फीचर्स दिए गए हैं। 

निष्कर्ष

टाटा ने नेक्सन के फेसलिफ्ट मॉडल में काफी सुधार किए हैं। पहले से ये दिखने में काफी अच्छी हो गई है और इसमें बैठकर ज्यादा प्रीमियम अहसास भी होता है और केबिन स्पेस की भी कोई कमी नहीं है। नेक्सन को खरीदने का सबसे बड़े कारण इसकी 5 स्टार सेफ्टी रेटिंग, राइड कंफर्ट, साउंड सिस्टम, रियर सीट स्पेस और मिड वेरिएंट्स का वैल्यू फॉर मनी होना है। 

हालांकि नेक्सन में पावरट्रेन ऑप्शंस और प्रेक्टिकैलिटी लोगों को उतना आकर्षित नहीं कर पाती है। इसके पेट्रोल इंजन में रिफाइनमेंट लेवल की कमी लगती है और ये उतना पावरफुल महसूस नहीं होता है। नेक्सन में एएमटी गियरबॉक्स दिया गया है जबकि इसी प्राइस पॉइन्ट पर सेगमेंट की दूसरी कारों में टॉर्क कन्वर्टर या डीसीटी यूनिट मिल जाती है। केबिन में स्टोरेज स्पेस की काफी कमी है। वहीं नया इंस्ट्रूमेंट क्लस्टर और स्टीयरिंग ड्राइवर के एक्सपीरियंस में बदलाव लाने का काम भी नहीं करते हैं। कुल मिलाकर फेसलिफ्ट नेक्सन कार है तो बहुत अच्छी, मगर दूसरे विकल्पों पर गौर करने में कोई बुराई नहीं है। 

हालांकि, इन छोटी मोटी खामियों के बावजूद फैमिली के हिसाब से ये छोटी एसयूवी काफी अच्छी है। यदि आप पांच पैसेंजर्स को लगेज समेत कंफर्टनैस के साथ कहीं ले जाना चाहते हैं तो नेक्सन काफी सही चॉइस साबित होगी।

टाटा नेक्सन

वेरिएंट*एक्स-शोरूम कीमत नई दिल्ली
एक्सई डीजल (डीजल)Rs. 8.45 लाख*
एक्सएम डीजल (डीजल)Rs. 9.20 लाख*
एक्सएम डीजल एस (डीजल)Rs. 9.70 लाख*
एक्सएमए एएमटी डीजल (डीजल)Rs. 9.80 लाख*
एक्सएमए एएमटी डीजल एस (डीजल)Rs. 10.30 लाख*
एक्सजेड डीजल (डीजल)Rs. 10.20 लाख*
एक्सजेड प्लस डीजल (डीजल)Rs. 11.00 लाख*
एक्सजेड प्लस dualtone roof डीजल (डीजल) Rs. 11.20 लाख*
एक्सजेड प्लस डीजल एस (डीजल)Rs. 11.60 लाख*
एक्सजेडए प्लस एएमटी डीजल (डीजल)Rs. 11.60 लाख*
एक्सजेड प्लस dualtone roof डीजल एस (डीजल) Rs. 11.80 लाख*
एक्सजेडए प्लस dt roof एएमटी डीजल (डीजल)Rs. 11.80 लाख*
एक्सजेड प्लस (o) डीजल (डीजल)Rs. 11.90 लाख*
एक्सजेड प्लस dualtone roof (o) डीजल (डीजल) Rs. 12.10 लाख*
एक्सजेडए प्लस एएमटी डीजल एस (डीजल)Rs. 12.20 लाख*
एक्सजेडए प्लस dt roof एएमटी डीजल एस (डीजल)Rs. 12.40 लाख*
एक्सजेडए प्लस (o) एएमटी डीजल (डीजल)Rs. 12.50 लाख*
एक्सजेडए प्लस dt roof (o) डीजल एएमटी (डीजल)Rs. 12.70 लाख*
एक्सई (पेट्रोल)Rs. 6.99 लाख*
एक्सएम (पेट्रोल)Rs. 7.84 लाख*
एक्सएम एस (पेट्रोल)Rs. 8.36 लाख*
एक्सएमए एएमटी (पेट्रोल)Rs. 8.44 लाख*
एक्सएमए एएमटी एस (पेट्रोल)Rs. 8.96 लाख*
एक्सजेड (पेट्रोल)Rs. 8.84 लाख*
एक्सजेड प्लस (पेट्रोल)Rs. 9.64 लाख*
एक्सजेड प्लस dualtone roof (पेट्रोल) Rs. 9.84 लाख*
एक्सजेड प्लस एस (पेट्रोल)Rs. 10.24 लाख*
एक्सजेडए प्लस एएमटी (पेट्रोल)Rs. 10.24 लाख*
एक्सजेड प्लस dualtone roof एस (पेट्रोल) Rs. 10.44 लाख*
एक्सजेड प्लस (o) (पेट्रोल)Rs. 10.54 लाख*
एक्सजेड प्लस dualtone roof (o) (पेट्रोल) Rs. 10.74 लाख*
एक्सजेडए प्लस एएमटी एस (पेट्रोल)Rs. 10.84 लाख*
एक्सजेडए प्लस dualtone roof एएमटी एस (पेट्रोल) Rs. 11.04 लाख*
एक्सजेडए प्लस (o) एएमटी (पेट्रोल)Rs. 11.14 लाख*
एक्सजेडए प्लस dt roof (o) एएमटी (पेट्रोल)Rs. 11.34 लाख*
एक्सजेडए प्लस dualtone roof एएमटी (पेट्रोल) Rs. 10.44 लाख*

नई एसयूवी कारें

अपकमिंग कारें

पॉपुलर एसयूवी कारें

*Estimated Price New Delhi
×
आपका शहर कौन सा है?