• लॉगिन / रजिस्टर

महिंद्रा थार Vs महिंद्रा एक्सयूवी300 : कंपेरिजन रिव्यू

Published On मार्च 17, 2021 By भानु for महिंद्रा थार

आप इस रिव्यू का ​शीर्षक देखकर ही सोच रहे होंगे कि ऐसा कंपेरिजन किस मोर्चे पर हो सकता है क्योंकि दोनों ही कारें काफी अलग हैं। हालांकि हमने ये कंपेरिजन महज इसलिए किया है कि कहीं आप महिंद्रा थार में एक फैमिली कार तो नहीं ढूंढ रहे? यदि आप थार एसयूवी को महज ऑफ रोडिंग के इस्तेमाल के लिए खरीदने जा रहे हैं तो हमारी तरफ से आपको हरी झंडी दी जाती है। मगर आप अपनी फैमिली को ध्यान में रखते हुए भी ये कार लेने की प्लानिंग कर रहे हैं तो फिर आपको ये कंपेरिजन रिव्यू पूरा पढ़ना चाहिए। यहां हमने महिंंद्रा थार का कंपेरिजन कंपनी की ही एक्सयूवी300 से किया है। यहां हमारा मकसद दोनों कारों में से कोई बेस्ट चुनना नहीं है, मगर हमने ये पता लगाने की कोशिश जरूर की है कि नई महिंद्रा थार रेगुलर कार के तौर पर इस्तेमाल करने के हिसाब से किस हद तक एक्सयूवी300 को कड़ी टक्कर देती है। 

बूट स्पेस

क्या आप महिंद्रा थार के रहते अपने किसी रिश्तेदार को एयरपोर्ट या रेलवे स्टेशन से पिकअप कर सकते हैं जिनके पास बहुत सारे बैग्स हों?

सबसे पहले आप ध्यान से नज़र डालिए एक्सयूवी300 के बूट स्पेस पर। इसमें वैसे तो मात्र 256 लीटर का ही बूट स्पेस दिया गया है लेकिन इसमें एक बड़ा सूटकेस और केबिन में एक बैग रखा जा सकता है जिसे रखने के बाद आपको कोई परेशानी भी नहीं होगी। सेगमेंट में दूसरी सब 4 मीटर एसयूवी कारों में तो एक बड़ा, एक मीडियम साइज का और एक छोटा सूटकेस रखा जा सकता है। इसके अलावा भी फिर इतनी जगह बच जाती है कि आप चाहें तो कुछ छोटे मोटे बैग्स भी रख सकते हैं। 

क्या थार में ये सब पॉसिबल है? साफ शब्दों में हमारा जवाब ना होगा। थार में काफी कम बूट स्पेस दिया गया है जिसमें आप ज्यादा से ज्यादा दो छोटे या एक मीडियम साइज का बैग रख सकते हैं। ये सब भी तक मुमकिन है जब आप रियर सीट को रिक्लाइन करें। ज्यादा लगेज रखने के लिए या तो आपको सीटों को फोल्ड करना पड़ेगा या फिर सामान को पीछे वाली सीटों पर रखना पड़ेगा। यदि आपकी थार में 4 लोग सवार हैं तो फिर पीछे बैठने वाले पैसेंजर्स को अपनी गोद में ही अपना सामान रखना पड़ेगा जिससे उन्हें काफी देर तक अनकंफर्टेबल होकर बैठना पड़ सकता है। 

केबिन फीचर्स

एक 15 लाख की कार में अच्छे फीचर्स होना तो लाजमी है। ऐसे में क्या थार का केबिन फीचर लोडेड है?

महिंद्रा एक्सयूवी300 में कुछ बेहद काम के फीचर्स दिए गए है। मगर इसमें कुछ ऐसे फीचर्स नहीं है जो कि सेगमेंट की दूसरी कारों में दिए गए हैं। एक्सयूवी300 में ड्यूल जोन क्लाइमेट कंट्रोल, ऑटोमैटिक हेडलैंप्स और वायपर्स, स्टीयरिंग मोड्स, रियर पार्किंग सेंसर्स, फ्रंट पार्किंग सेंसर्स और सनरूफ दी गई है। हालांकि इसमें कनेक्टेड कार टेक्नोलॉजी और वायरलैस चार्जर का फीचर नहीं दिया गया है। 

इस मोर्चे पर थार काफी अच्छी कार है। इसमें एक्सयूवी300 की तरह टचस्क्रीन इंफोटेनमेंट सिस्टम, एंड्रॉयड ऑटो और एपल कारप्ले कनेक्टिविटी, स्टीयरिंग माउंटेड कंट्रोल्स, इलेक्ट्रिकली एडजस्टेबल ओआरवीएम, टिल्ट एडजस्टेबल स्टीयरिंग, टायर प्रेशर मॉनिटरिंग सिस्टम, हाइट एडजस्टेबल ड्राइवर सीट और रिमोट की लैस एंट्री जैसे फीचर्स दिए गए हैं। यहां तक कि इसमें कलर एमआईडी भी दी गई है। मगर इसमें पुश बटन स्टार्ट और सनरूफ का फीचर मौजूद नहीं है। यदि आप थार में सनरूफ फीचर का मजा लेना चाहते हैं तो आप इसका कन्वर्टिबल टॉप वर्जन ले सकते हैं। इसके अलावा थार में रियर डिफ्रेंशियल के साथ 4x4 सिस्टम भी दिया गया है जो जरूरत के वक्त ही काम में आता है। इस तरह थार में अच्छे फीचर्स होने की वजह से पैसेंजर्स अच्छा फील करते हैं। 

रियर सीट स्पेस और फीचर्स

किसी कार की रियर सीट पर बैठना बेहद ही आसान! बस दरवाजा खोलिए और बैठ जाईये! मगर क्या महिंद्रा थार में ऐसा कर पाना संभव है?

एक्सयूवी300 एक अर्बन एसयूवी है ​जो रोजाना एक शहरी परिवेश में इस्तेमाल किए जाने के हिसाब से डिजाइन की गई है। ऐसे में इसमें आपको काफी अच्छा लेगरूम स्पेस, नीरूम स्पेस और हेडरूम स्पेस मिलता है। इसके सीटबैक्स पर कुशनिंग भी काफी अच्छी तरह से की गई है जिससे आपकी कमर को काफी आराम मिलता है। वहीं लंबी यात्राओं के दौरान आप इन्हें रिक्लाइन कर आराम से बैठ सकते हैं। फीचर्स की बात करें तो महिंद्रा एक्सयूवी300 की रियर सीट पर आर्मरेस्ट, कपहोल्डर्स और स्मार्टफोन चार्ज करने के लिए यूएसबी पोर्ट्स जैसे फीचर्स दिए गए हैं। हालांकि फिर इसमें एसी वेंट्स का फीचर नहीं दिया गया है जो अर्बन एसयूवी कारों में काफी कॉमन है।

अब बात की जाए थार की तो इसमें रियर सीट पर जाने के लिए आपको फ्रंट सीट के ऊपर से कूदकर निकलना होता है। वहीं ऐसा करने के लिए आप फिट भी होने चाहिए, क्योंकि कोई बुजुर्ग तो ऐसा नहीं कर सकता है। रियर सीट पर बैठने के बाद आपको अच्छा फुटरूम भी नहीं मिलता है। हालांकि आप इसमें बैकरेस्ट को रिक्लाइन कर सकते हैं, मगर ये तब ही संभव है जब तक बूट में लगेज ना हो। इसमें हेडरूम और नीरूम स्पेस की तो कोई कमी नहीं लगती है, मगर यहां आप तीन एडल्ट पैसेंजर्स नहीं बैठा सकते हैं। रियर सीट पर दो सीटबेल्ट भी दी गई हैं। फीचर्स के नाम पर यहां कुछ भी नहीं दिया गया है। यहां ना तो आपको चार्जिंग सॉकेट मिलेगा, ना आर्मरेस्ट, ना कपहोल्डर और ना ही फिक्स्ड ग्लास विंडोज़ पर कोई सनशेड नजर आएगा। वहीं बार बार रियर पैसेंजर को अंदर बाहर होने से फ्रंट पैसेंजर्र को परेशानी आती है। 

एसी कूलिंग 

इंटरनेट पर कई थार ओनर्स ने शिकायत की थी कि इसकी सेकंड रो तक कूलिंग ही नहीं पहुंचती है। ऐसे में हमने इसका एक टेस्ट करने का फैस​ला किया। इसके लिए हमने दोनों एसयूवी कारों को धूप में उनकी विंडोज खोलकर करीब आधे घंटे के लिए खड़ा कर दिया। वहीं हमने दो फोम के व्हाइट बोर्ड्स को भी धूप में इतनी ही देर रखा। इसके बाद एक थर्मल गन से दोनों बोर्ड्स का तापमान मापा गया और इसके बाद दोनों बोर्ड को एक्सयूवी300 और थार की रियर सीट पर रख दिया गया। इस दौरान ही 15 मिनट के लिए एसी को फुल ऑन करके चलाया गया और हर पांच मिनट में टेंपरेचर की जांच की गई जिसके बाद नतीजा कुछ यूं रहा। 

समय

थार

टेंपरेचर में गिरावट

एक्सयूवी300

टेंपरेचर में गिरावट

स्टार्ट

39.7 °C

 

40.2 °C

 

5 मिनट

31.1 °C

8.6 °C

28.9 °C

11.3 °C

10 मिनट

26.4 °C

13.3 °C

25.6 °C

14.6 °C

15 मिनट

25.5 °C

14.2 °C

24.9 °C

15.3 °C

इस टेस्ट में हमने पाया कि थार के मुकाबले एक्सयूवी300 में रियर सीट पर रखे गर्म फोम बोर्ड का टेंपरेचर ज्यादा तेजी से गिरता चला गया। 5 मिनट बाद ही दोनों के तापमान में करीब 2 डिग्री का अंतर आ गया, वहीं 10 मिनट ये अंतर 1 डिग्री हो गया और 15 मिनट बाद 0.5 डिग्री। हालांकि थार में बड़ा ग्लास एरिया दिया गया है जिससे ये कार धूप में जल्दी भी गर्म हो जाती है और फिर पैसेंजर्स को इसमें ज्यादा गर्मी लगती है। 

राइड कंफर्ट 

यदि गर्मियों के दिनों में आपकी थार में कोई पीछे वाली सीटों पर बैठ जाए तो क्या इसकी राइड क्वालिटी उन्हें मन मुताबिक कंफर्ट देगी?

सबसे पहले महिंद्रा एक्सयूवी300 की राइड क्वालिटी की बात करते हैं। सिटी में इसके सस्पेंशन काफी सॉफ्ट मालूम पड़ते हैं। इसका मतलब ये हुआ किसी स्पीड ब्रेकर या गड्ढे के ऊपर से गुजरते वक्त इसके स्प्रिंग और डैंपर्स अच्छी तरह दबते हैं। नतीजतन इसके सस्पेंशन उन झटकों को केबिन तक पहुंचने ही नहीं देते हैं। एक्सयूवी300 को खासतौर पर भारतीय सड़कों की परिस्थितियों के हिसाब से तैयार किया गया है जो खराब रास्तों और गड्ढों पर से आराम से गुजर जाती है। यहां तक कि ऑफ रोड रास्तों पर भी ये आराम से चलती है। मगर तेज स्पीड पर यदि आप इसे किसी गड्ढे के ऊपर से गुजार देंगे तो फिर इसके सस्पेंशन से आपको आवाज जरूर आती सुनाई देगी। 

दूसरी तरफ महिंद्रा थार को ऑफ रोडिंग के हिसाब से तैयार किया गया है। इसका मतलब ये हुआ कि इसके सस्पेंशन बुरे से बुरे रास्तों को भी आसानी से सहन कर सकते हैं। इसकी स्प्रिंग और डैंपिंग काफी हार्ड है। वहीं डामर वाली प्लेन सड़कों पर राइड थोड़ी सी अस्थिर रहती है। यहां तक कि ऑफ रोडिंग के दौरान भी इसके केबिन में आप अपने आपको हिलता डुलता ही पाएंगे क्योंकि यहां फिर सस्पेंशन का मुख्य काम केवल आपको कंफर्टेबल राइड देना ही नहीं है बल्कि व्हीकल को किसी पत्थर से होने वाले नुकसान से भी बचाना है। ऐसे में इन रास्तों पर आपको केबिन में उछाल महसूस होता रहेगा। इस तरह थार में आप अपने आपको कंफर्टेबल से ज्यादा सेफ महसूस करेंगे। 

निष्कर्ष

हर त​रह के मोर्चे पर इन दोनों कारों का परीक्षण करने के बाद एक चीज तो बिल्कुल साफ हो गई है। वो ये कि स्पेस और प्रैक्टिकैलिटी के मोर्चे पर थार को कहीं से भी एक परफैक्ट अर्बन एसयूवी तो नहीं कहा जा सकता है। हालांकि केबिन फीचर्स और स्टोरेज के मामले में ये थोड़ी बहुत अच्छी है, बूट स्पेस, रियर सीट कंफर्ट और राइड क्वालिटी के मोर्चे पर इसे उतना अच्छा नहीं कहा जा सकता है। कुल मिलाकर जनरेशन अपडेट मिलने के बाद भी थार सिटी के हिसाब से एक परफैक्ट कार नहीं लगती है। यदि आप इस तर​ह के समझौतों के लिए तैयार हैं तो फिर आपको अपनी फैमिली के साथ बैठकर ऊपर बताई गई सारी बातें शेयर करते हुए ये शानदार रोड प्रजेंस देने वाली ऑफ रोडर कार लेने का सामूहिक निर्णय लेना चाहिए।

नई एसयूवी कारें

अपकमिंग कारें

पॉपुलर एसयूवी कारें

*Estimated Price New Delhi
×
आपका शहर कौन सा है?