• लॉगिन / रजिस्टर

2020 वरना फेसलिफ्ट पेट्रोल सीवीटी: फर्स्ट ड्राइव रिव्यू

Published On jun 29, 2020 By bhanu for हुंडई वरना

2020 वरना के फेसलिफ्ट मॉडल में मॉडर्न टेक्नोलॉजी और नए इंजन एवं गियरबॉक्स ऑप्शन के रूप में कुछ महत्वपूर्ण बदलाव किए गए हैं। मगर ऐसा भी बिल्कुल नहीं है कि वरना का पुराना मॉडल अच्छा नहीं था। तो क्या ये सेडान अब पहले से ज्यादा आकर्षक बन गई है? ऐसे तमाम सवालों के जवाब आपको जानने मिलेंगे इस फर्स्ट ड्राइव रिव्यू में.. इसके लिए हमने वरना फेसलिफ्ट के सीवीटी गियरबॉक्स से लैस नए 1.5 लीटर पेट्रोल वेरिएंट को ड्राइव किया तो कैसा रहा हमारा एक्सपीरियंस ये आप जानेंगे आगे:-

कार टेस्टेड: 2020 हुंडई वरना 

वेरिएंट : एसएक्स (ओ) 

इंजन: 1.5 लीटर पेट्रोल

गियरबॉक्स: सीवीटी ऑटोमैटिक 

कीमत: 13.84 लाख रुपये (एक्स-शोरूम)

वरना के पुराने मॉडल में फ्लोइंग लाइन और कास्केडिंग ग्रिल दी गई थी जिसके कारण इसका लुक काफी स्पोर्टी नजर आता था। अब फेसलिफ्ट अपडेट के बाद इसका लुक और भी ज्यादा स्पोर्टी हो गया है। बंपर के लोअर एज से लेकर हेडलैंप्स तक यहां शार्प लाइनें और क्रीज लाइन दी गई है और ज्यादा स्पोर्टी लुक के लिए नई ग्रिल में डार्क मैटेलिक क्रोम की फिनिशिंग दी गई है। 

नई वरना के टर्बो पेट्रोल वेरिएंट में और भी ज्यादा स्पोर्टी लुक के लिए ऑल ब्लैक ग्रिल दी गई है। कुल मिलाकर वरना 2020 का फ्रंट लुक काफी दमदार और आकर्षक नजर आता है। हालां​कि इसमें एलईडी फॉगलैंप की कमी जरूर महसूस होती है जिससे ये एक कंप्लीट पैकेज के रूप में सामने आ सकती थी। 

साइड प्रोफाइल की बात करें तो वरना फेसलिफ्ट को अब पहले की तरह 195/55 आर16 रबर टायरों में लिपटे हुए नए अलॉय व्हील दिए गए हैं। इन अलॉय व्हील पर ब्लैक कलर की ड्यूल टोन फिनिशिंग की गई है जिससे ये इसकी फ्रंट ग्रिल से काफी मैच करते हैं। बता दें कि वरना फेसलिफ्ट का साइज इसके पुराने मॉडल के बराबर ही है। 

कार के पिछले हिस्से की बात करें तो यहां नई डिजाइन का बंपर और फॉक्स डिफ्यूज़र दिया गया है जिससे ये पहले की तरह यहां से भी एक स्पोर्टी कार नजर आती है। मॉडर्न लुकिंग के लिए इसमें नए डिजाइन के एलईडी टेललैंप भी दिए गए हैं। कुल मिलाकर पहले की तुलना में नई वरना का लुक ज्यादा स्टाइलिश, स्पोर्टी और मॉडर्न हो गया है। 

कितना बदला इसका इंटीरियर ? 

वरना फेसलिफ्ट के इंटीरियर में ज्यादा बदलाव नही हुए हैं, हां मगर, इसमें कुछ ऐसी चीजें दी गई हैं जिससे इसे एक मॉडर्न लुकिंग मिलती है। इसमें 8 इंच की फ्लोटिंग डिस्प्ले वाली टचस्क्रीन दी गई है। ये नई टचस्क्रीन स्मार्टफोन की तरह काम करती है और इसका टच रिस्पॉन्स और स्मूदनैस काफी अच्छी है। इसमें नेविगेशन डेस्टिनेशन सैट करने के लिए वॉइस रिक्ग्निशन दिया गया है। 

2020 वरना में कनेक्टेड कार टेक्नोलॉजी का फीचर भी दिया गया है। ब्लू लिंक के बैनर तले इस फीचर के जरिए आप अपनी कार कहीं से भी ट्रैक कर सकते हैं, वहीं इसमें जिओ फेंसिंग सेट करने, व्हीकल के हैल्थ स्टेटस को मॉनिटर करने और कहीं से भी बैठे बैठे एसी ऑन करने जैसी सुविधाएं दी गई है। इसके अलावा इसमें इमरजेंसी असिस्ट और आईआरवीएम पर बटन को टच करते ही आरएसए का फीचर भी दिया गया है। 

नई वरना के केबिन में एक बदलाव इसके इंस्ट्रूमेंट क्लस्टर में नजर आएगा। नई बीएमडब्ल्यू कारों से इंस्पायर्ड इस इंस्ट्रूमेंट क्लस्टर में एक डिस्प्ले दो डिजिटल स्क्रीन में बंटी हुई है। लेफ्ट स्क्रीन पर स्पीडोमीटर दिया गया है जबकि सीधे हाथ वाली स्क्रीन पर टैकोमीटर दिया गया है। इसके बीच में कलरफुल टीएफटी स्क्रीन दी गई है जिसमें आप गाड़ी के बारे में काफी इंफोर्मेशन देख सकते हैं। इसके अलावा टीएफटी स्क्रीन के लिए चार थीम भी ​दी गई है जो केवल इसके फॉन्ट को चेंज करने का काम करती है। यदि इसमें कलर या लेआउट का फीचर भी दिया जाता तो ये काफी आकर्षक साबित हो सकता था। 

इसके अलावा इसमें नया वायरलैस चार्जर भी दिया गया है। मगर इसमें फोन रखने के लिए ट्रे का साइज काफी छोटा है जिसमें केवल 6 इंच तक का ही फोन आ सकता है। उदाहरण के तौर पर यदि आपके पास 8 इंच का गैलेक्सी फोन है तो वो इस ट्रे में फिट ही नहीं आएगा जिससे आप अपना फोन भी चार्ज नहीं कर पाएंगे। इसमें एयर प्योरिफायर के फीचर की भी काफी कमी महसूस होती है जो कि हुंडई की काफी बजट कारों में दिया गया है। 

इन कमियों के बावजूद वरना कार लोगों को काफी पसंद आती है। इसमें इस्तेमाल की गई मैटेरियल की क्वालिटी काफी अच्छी है। हालांकि डैशबोर्ड पर हार्ड प्लास्टिक का इस्तेमाल किया गया है, मगर ये दिखने में काफी आलीशान लगता है। इसके अलावा स्टीयरिंग और गियर नॉब पर सॉफ्ट टच लैदर का इस्तेमाल किया गया है और की एफओबी जैसे फीचर के होने से इंटीरियर के लुक में एक नई जान सी आ जाती है। 

हुंडई वरना फे​सलिफ्ट में दिए गए फीचर्स को लेकर तो किसी को भी कोई शिकायत नहीं होनी चाहिए। इसमें ऑटोमैटिक क्लाइमेंट कंट्रोल, सनरूफ, वेंटिलेटेड फ्रंट सीट्स, ऑटो डे नाइट आईआरवीएम और क्रूज कंट्रोल का फीचर दिया गया है। मगर, ऑल ब्लैक इंटीरियर के साथ पैडल शिफ्टर का फीचर केवल टर्बो पेट्रोल वेरिएंट में ही मिलता है। 

बूट स्पेस

हुंडई वरना 2020 में 480 लीटर का बूट स्पेस दिया गया है। इसमें काफी सारा सामान ले जाया जा सकता है। हमारे द्वारा किए गए बैगेज टेस्ट में हमने इसके बूट में तीन बैग रखे जिनमें एक छोटा, एक मीडियम और एक बड़ा बैग शामिल था। इन्हीं के साथ एक सॉफ्ट बैग भी रखा जा सकता है। 

इंजन एवं परफॉर्मेंस

वरना 2020 में हुंडई की दूसरी कारों में दिए गए इंजन का ही इस्तेमाल किया गया है। इसमें डीसीटी गियरबॉक्स के साथ दिया गया 1.0 लीटर टर्बो पेट्रोल इंजन वेन्यू से लिया गया है। वहीं मैनुअल और ऑटोमैटिक गियरबॉक्स के ऑप्शन वाले 1.5 लीटर पेट्रोल और डीजल इंजन क्रेटा से लिए गए हैं। हमारे द्वारा इस टेस्ट राइड में इस्तेमाल किए गए 1.5 लीटर पेट्रोल वेरिएंट के साथ 6 स्पीड मैनुअल या सीवीटी ऑटोमैटिक का ऑप्शन मिलता है। 

इसके 1.5 लीटर 4-सिलेंडर टर्बो पेट्रोल इंजन की जितनी तारीफ की जाए उतनी कम है। 2000 आरपीएम से नीचे रहते हुए इसमें मुश्किल ही कोई वाइब्रेशन म​हसूस होता है। यहां तक कि सिटी में तो इसके होने या ना होने के मालूम ही नहीं चलता है और यदि आप स्पोर्टी राइड का तय कर लेते हैं तो ये 6500 आरपीएम तक बड़े आराम से ले जाता है। 

इस इंजन की परफॉर्मेंस में सीवीटी गियरबॉक्स चार चांद लगा देता है। ये काफी स्मूद, रिफाइंड और शांत रहता है। सबसे अच्छी बात ये है कि ये दूसरे सीवीटी गियरबॉक्स की तरह नहीं है जहां स्पीड बढ़ाते समय लैग महसूस होने लगता है। इसका सीवीटी गियरबॉक्स लैग और लंबे एक्सलरेशन इफेक्ट को हटाने में माहिर है। ऐसा इसकी दो विशेषताओं के कारण संभव हो पाता है। पहला तो ये कि यह एक 8-स्पीड सीवीटी गियरबॉक्स है और एक्सलेरशन के दौरान ​स्टेप चेंज होते हुए भी गाड़ी का मोमेंटम बरकरार रहता है। इसकी दूसरी खासियत ये है कि ये ऊंची रेव्स को होल्ड करके नहीं रखता है और स्पीड मैच होने का इंतजार करता है। ये किसी टॉर्क कन्वर्टर की तरह रेव्स बिल्ड करता है जिससे आपको एक दमदार एक्सलरेशन मिलता है। 

टॉर्क कन्वर्टर ऑटोमैटिक गियरबॉक्स से लैस पुरानी 1.6 लीटर वरना के कंपेरिजन में ये 0 से 100 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार पकड़ने में केवल 1 सेकंड ज्यादा लगाती है जो कि 13.04 सेकंड है। ऐसा इसलिए भी है क्योंकि इसके आउटपुट में 8 पीएस की पावर कम हो गई है। नई वरना के 1.5 लीटर टर्बो पेट्रोल सीवीटी वेरिएंट का आउटपुट 115 पीएस और 144 एनएम है। 

हाईवे की बात करें तो यहां एक्सलेरशन थोड़ा धीमा पड़ जाता है। ऐसे में हमारी राय ये है कि आप किसी को एकदम से ओवरटेक ना करें। आप चाहें तो इस दौरान मैनुअल मोड पर आकर गियर डाउन करते हुए स्पीड को बैलेंस कर सकते हैं। इसके अलावा 1700 आरपीएम पर ये सेडान 100 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से शांति से दौड़ सकती है।

हमने वेन्यू के टर्बो पेट्रोल डीसीटी वेरिएंट को भी चलाकर देखा था। ऐसे में हमें ये महसूस हुआ कि वो सिटी में स्मूद चल सकती है। यदि आप एक सिटी में चलाने लायक सेडान की तलाश में है तो वरना का 1.5 लीटर सीवीटी वेरिएंट टर्बो पेट्रोल वेरिएंट से 15,000 रुपये तक सस्ता पड़ेगा। 

राइड और हैंडलिंग 

वरना में हमेशा से ही बैलेंस्ड सस्पेंशन सेटअप मिलते रहे हैं। हालांकि, इसे फेसलिफ्ट अपडेट मिल जाने के बाद से ऐसा महसूस होता है कि कंपनी ने सारा ध्यान कंफर्ट पर लगाया है। ये आपके रास्तों में आने वाली खराब सड़कों और स्पीड ब्रेकर्स को आराम से पार कर लेती है। इसमें शानदार कुशनिंग सेट की गई है और कोई गड्ढा आ जाने पर इसके सस्पेंशन उसपर से गुजरने के बाद वापस से सैटल हो जाते हैं। यहां तक कि गाड़ी के स्पीड में होते हुए वो किसी ब्रेकर या गडढ़े पर से गुजरती है तो भी पैसेंजर्स को इस दौरान कोई तकलीफ नहीं पहुंचती है। हालांकि इस दौरान केबिन में एक अजीब सी आवाज जरूर आती है, मगर इनसे आने वाले झटकों को बिल्कुल महसूस नहीं किया जा सकता है। हाईवे पर भी वरना एकदम स्थिर रहती है और ये लंबा सफर करने के लिए भी लिए तैयार रहती है। 

हालांकि ऐसी गाड़ी में बॉडी रोल से बचा नहीं जा सकता है। मगर इसका अंदाजा आपको पहले की लग जाता है जिससे रूटीन ड्राइविंग में आपको चिंता करने की जरूरत नहीं पड़ती है। इसके स्टीयरिंग का फीडबैक भी सस्पेंशन जितना ही शानदार है। इसे सिटी और हाईवे दोनों के हिसाब से ही ट्यून किया गया है। मगर आप जब स्पोर्टी ड्राइव करने के मूड में हो तो इससे अच्छे फीडबैक की उम्मीद ना करें। 

सेफ्टी 

सेफ्टी के लिहाज से वरना के एसएक्स (ओ) वेरिएंट में 6 एयरबैग, व्हीकल स्टेबिलिटी मैनेजमेंट, हिल असिस्ट कंट्रोल और इलेक्ट्रॉनिक स्टेबिलिटी कंट्रोल जैसे फीचर्स दिए गए हैं। इसके निचले वेरिएंट्स में दो एयरबैग, एबीएस के साथ ईबीडी,और रियर पार्किंग सेंसर दिए गए हैं। 

निष्कर्ष

ओवर ऑल पैकेज के तौर पर 2020 वरना में कोई बहुत बड़ा फर्क नहीं आया है। हालांकि इसका ओवर ऑल एक्सपीरियंस पहले से ज्यादा बेहतर हो गया है। पहली बार इसे ड्राइव करते हुए इसके नए लुक्स, मॉडर्न फीचर्स और नए इंजन ना केवल आपको पसंद आएंगे बल्कि ये आपको आगे भी अहसास कराते रहेंगे कि इसे खरीदकर आपने एक अच्छा निर्णय लिया है। यदि आप स्पोर्टी ड्राइविंग के शौकीन नहीं है तो आपकी रूटीन ड्राइविंग के लिए इसका 1.5 सीवीटी वेरिएंट अच्छा रहेगा। 

इकोनॉमिक पॉइन्ट ऑफ व्यू से भी देखें तो वरना की पोजिशनिंग फोक्सवैगन वेंटो और होंडा सिटी ऑटोमैटिक के बीच में है जिससे ये एक अच्छी चॉइस भी बनती है। हालांकि इसकी रियर सीट्स पर कुछ कमियां मौजूद है, मगर बावजूद इसके इस सेगमेंट में वरना सेडान से अलग आपको दूसरी और कोई कार पसंद नहीं आएगी।

नई सेडान कारें

अपकमिंग कारें

पॉपुलर सेडान कारें

*Estimated Price New Delhi
×
आपका शहर कौन सा है?