• लॉगिन / रजिस्टर

हुंडई वेन्यू आईएमटी: फर्स्ट ड्राइव रिव्यू

Published On सितंबर 05, 2020 By भानु for हुंडई वेन्यू

इन दिनों कई गाड़ियों में काफी सारे ट्रांसमिशन ऑप्शंस आने लगे हैं जिससे ग्राहकों को इनमें से कोई एक चुनना भी काफी कंफ्यूजिंग काम लगता है। अब कारों में मैनुअल समेत, एएमटी  (ऑटोमेटेड मैनुअल ट्रांसमिशन), सीवीटी (कन्टीन्यूअस वेरिएबल ट्रांसमिशन), डीसीटी (ड्यूल क्लच ट्रांसमिशन) और टॉर्क कन्वर्टर जैसे ऑप्शंस मिलते हैं। अब एक नए तरह का आईएमटी गियरबॉक्स यानी इंटेलिजेंट मैनुअल ट्रांसमिशन भी आ गया है। हुंडई मोटर्स भारत में इस तरह का ट्रांसमिशन पेश करने वाली पहली कंपनी है। इसमें बिना क्लच पैडल लगाए गियर बदलने की सुविधा मिलती है जिससे कि ड्राइवर को ज्यादा झंझट नहीं होता है और कार भी उसके कंट्रोल में रहती है। तो क्या ये नए जमाने का नया गियरबॉक्स है दूसरों से काफी अच्छा है? इसका जवाब हुंडई वेन्यू में ही मिल सकता है जो कि हाल ही में आईएमटी गियरबॉक्स से लैस हुई है। तो डालते हैं नजर हुंडई वेन्यू आईएमटी पर:-

कार टेस्टेड: हुंडई वेन्यू एसएक्स (ओ) स्पोर्ट आईएमटी

इंजन: 1.0 लीटर टर्बो पेट्रोल

ट्रांसमिशन: 6-स्पीड यूनिट

कीमत: 11.26 लाख रुपये (एक्स-शोरूम, दिल्ली)

कैसे हैं इसके लुक्स

आपको लुक्स के मोर्चे पर हुंडई वेन्यू का स्पोर्ट्स वेरिएंट काफी पसंद आएगा। इसमें रेड क्रॉस हाइलाइटिंग के साथ ग्लॉसी ब्लैक कलर की फ्रंट ग्रिल, बंपर पर रेड कलर के एसेंट्स और रेड ब्लैक कलर के ब्रेक कैलिपर्स के साथ ग्रे कलर की रूफ रेल्स दी गई है। इसके राइट सी पिलर पर स्पोर्ट बैजिंग दी गई ​है जिसे देखकर लगता है कि ये एलिमेंट बाजार से लगवाया गया हो। इसके अलावा इसमें फ्रंट फेंडर पर आईएमटी का एंबल्म दिया गया है। 

इंटीरियर 

इसमें फ्रंट ग्रिल की ही तरह स्टीयरिंग व्हील, सीट अपहोल्स्ट्री स्टिचंग और एसी कंट्रोल नॉब्स पर भी रेड कलर के एसेंट्स दिए गए हैं। वेन्यू के एसएक्स प्लस और एसएक्स ओ वेरिएंट में क्रेटा जैसा फ्लैट बॉटम स्टीयरिंग दिया गया है। वेन्यू आईएमटी में भी दूसरे वेरिएंट्स जैसे फीचर्स ही दिए गए हैं, जिनमें एपल कारप्ले और एंड्रॉयड ऑटो कनेक्टिविटी से लैस 8 इंच टचस्क्रीन इंफोटेनमेंट सिस्टम, सनरूफ,पुश बटन स्टार्ट स्टॉप,एयर प्योरिफायर,वायरलैस फोन चार्जर और क्रूज़ कंट्रोल शामिल है। 

सेफ्टी के लिहाज से इसमें 6 एयरबैग, ईबीडी के साथ एबीएस, रियर पार्किंग कैमरा,इलेक्ट्रॉनिक स्टेबिलिटी कंट्रोल और आईएसओफिक्स माउंट्स दिए गए हैं। वेन्यू के 'स्पोर्ट' वेरिएंट में ड्राइवर के फुटवेल एरिया में दो मैटल पैडल दिए गए हैं। ये फीचर ही आईएमटी गियरबॉक्स का सबसे बड़ा प्लस पॉइन्ट है जहां क्लच दबाने की झंझट से ड्राइवर को निजात मिलती है। 

ड्राइविंग के लिहाज से कैसा है ये वेरिएंट 

हुंडई वेन्यू आईएमटी में एच पैटर्न की गियर स्टिक दी गई है और एकबारगी तो बिना क्लच पैडल के आपको इसे चलाते हुए थोड़ा अजीब लग सकता है। अब सवाल ये उठता है कि बिना क्लच के इंजन शुरू कैसे होगा? तो बता दें कि इंजन ऑन करने के लिए आपको गियर लिवर को न्यूट्रल पर लाना होता है और उसके बाद ​ब्रेक पर पांव रखते हुए स्टार्ट बटन दबाने पर गाड़ी स्टार्ट हो जाती है। इसके बाद पहला गियर लगाते हुए ब्रेक से पांव हटाते ही गाड़ी आगे बढ़ने लगती है जो किसी ऑटोमैटिक गाड़ी जैसा फील देता है। 

इसमें गियर स्टिक के मूवमेंट को ट्रैक करने के लिए एक इलेक्ट्रॉनिक इंटेशन सेंसर दिया गया है। ये सेंसर हाइड्रॉलिक एक्चुएटर्स को क्लच एंगेज या डिसएंगेज करने का सिग्नल देता है। 

इसका मतलब ये हुआ कि आप बिना अपने बाएं पैर को जोर दिए गियर शिफ्ट कर रहे होते हैं। मगर, इस दौरान कुछ बातों का ध्यान रखना भी काफी जरूरी है। गियर शिफ्ट करते वक्त आप अपना पैर ब्रेक से ​हटा लें जिससे आपको लिवर पुश करने में कम जोर लगाना पड़ेगा। ऊंचे गियरों पर थोड़ा सा थ्रॉटल इनपुट देने पर तो गियर आराम से चेंज हो जाते हैं, मगर उस दौरान स्टिक मूवमेंट थोड़ा कठोर सा लगने लगता है। 

क्या एएमटी गियरबॉक्स से बेहतर है आईएमटी?

आपको आईएमटी और एएमटी में कोई ज्यादा बड़ा फर्क नजर नहीं आएगा। हालांकि आईएमटी में गियर बदलने की प्रक्रिया काफी स्मूद रहती है। जिन्होंने पहले भी एएमटी गियरबॉक्स वाली कारें ही चलाई हो उन्हें तो बिल्कुल भी ऐसा नहीं लगेगा कि वो किसी नए गियरबॉक्स पर हाथ आजमा रहे हैं। हालांकि फर्क केवल इतना है कि उन्हें मैनुअल स्टिक को यहां ऑपरेट करना पड़ता है। 

कार ड्राइव करते वक्त कैसी आती है फील?

जैसा कि हमने आपको पहले भी बताया था बिना क्लच पैडल के आपको शुरूआत में तो कुछ अजीब सा लगेगा लेकिन इसके बाद आप आदी हो जाएंगे। वहीं जब क्लच पैडल ही नहीं होगा तो आप ये भी भूल जाएंगे कि इसमें गियर स्टिक भी है। नतीजतन आप एक्सलरेट करते ही गियर के अपने आप चेंज होने का इंतजार करने लगेंगे। इसके अलावा आपको गाड़ी को न्यूट्रल में लाने की भी प्रैक्टिस करनी होगी क्योंकि ऑटोमैटिक ​गाड़ियों में तो ये काम अपने आप हो जाता है। हालांकि, ये बातें उतनी खास नहीं है और आप धीरे-धीरे इसके आदी हो ही जाएंगे। 

इसके अलावा यदि आपने पहली बार ही कार खरीदी है और आईएमटी गियरबॉक्स को चुना है तो फिर आपको कोई परेशानी नहीं आएगी। दूसरी तरफ पहले से कोई मैनुअल या  ऑटोमैटिक गियरबॉक्स वाली कार चलाने वाले लोगों को ही शुरूआत में थोड़ा सा अपने आपको आईएमटी गियरबॉक्स हैंडल करने के लिए खुद को ढालना पड़ेगा। 

क्या आईएमटी गियरबॉक्स में गाड़ी को किसी भी गियर पर स्टार्ट किया जा सकता है?

यदि आप चौथे गियर पर ही गाड़ी को रोक लेते हैं और न्यूट्रल में लाना भूल जाते हैं तो आप उसे वहीं से फिर से शुरू नहीं कर सकते हैं। पहली बात तो ये कि सिस्टम पर एक ऑडियो अलर्ट डिस्प्ले होगा जिसके साथ एमआईडी स्क्रीन पर एक मैसेज भी आएगा, जहां आपको पहले गाड़ी को न्यूट्रल करने की सलाह दी जाएगी। ज्यादा सहूलियत के लिए आप वेन्यू आईएमटी को पहले या दूसरे गियर में शुरू कर सकते हैं, मगर किसी चढ़ाई या ढलान वाले रास्ते पर आप ऐसा नहीं कर सकते हैं। किसी ढलान वाले रास्ते पर यदि आप गाड़ी को सेकंड गियर में शुरू करना चाहेंगे भी तो इसका इंटैलिजेंट सिस्टम आपको इस बारे में अलर्ट कर देगा। 

क्या आईएमटी गियरबॉक्स के रहते गाड़ी को कैसे भी चला सकते हैं?

यदि आप तीसरे गियर में 15 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से नीचे चलते हैं तो ऑडियो और विजुअल अलर्ट बंद हो जाएगा। यदि आप स्पीड बढ़ा लेते हैं तो क्लच डिसएंगेज होते हुए रेव्स बंद हो जाएगी और नतीजतन आपको गियर डाउन करना ही पड़ेगा। गियर डाउन करने के बाद आपकी गाड़ी फिर से नॉर्मल चल पड़ेगी। 

क्या ढलान भरे रास्तों में कोई सावधानी बरतना जरूरी है?

मैनुअल गियरबॉक्स के मुकाबले आईएमटी गियरबॉक्स के रहते किसी ढलान भरे रास्ते पर कार चलाना काफी आसान है। इसमें हिल होल्ड असिस्ट का फीचर दिया गया है जो आपको कार रोकने में मदद करता है और दोबारा आगे बढ़ने पर कार पीछे नहीं जाती है। इस दौरान हैंडब्रेक लगाने की भी जरूरत नहीं पड़ती है। गियरबॉक्स ढलान की सीमा को ही पहचान लेता है। यदि एक ट्रैफिक से भरी हुई चढ़ाई चढ़ रहे हैं तो ध्यान रखें कि आपको उस दौरान पहले या दूसरे गियर पर ही रहना है। 

​कैसा है इस गियरबॉक्स का परफॉर्मेंस? 

वेन्यू में आईएमटी गियरबॉक्स का ऑप्शन केवल 1.0 लीटर,3 सिलेंडर टर्बोचार्ज्ड पेट्रोल इंजन के साथ ही दिया गया है। इस इंजन के साथ थ्री पैडल 6-स्पीड मैनुअल और 7-स्पीड ड्यूल क्लच ट्रांसमिशन का ऑप्शन भी मिलता है। एक्सलरेशन टेस्ट में हुंडई वेन्यू आईएमटी इसके ऑटोमैटिक और मैनुअल मॉडल से ज्यादा तेज रही। इसके रोल ऑन एक्सलरेशन नतीजे कुछ इस प्रकार से हैं:- 

पैरामीटर

वेन्यू आईएमटी (बीएस6)

वेन्यू एमटी (बीएस4)

वेन्यू डीसीटी (बीएस4)

0-100किमी प्रति घंटा

10.64 सेकंड्स

10.99 सेकंड्स

11.24 सेकंड्स

30-80किमी प्रति घंटा (थर्ड गियर)

7.53 सेकंड्स

9.02 सेकंड्स

-

40-100किमी प्रति घंटा (चौथा गियर)

12.25 सेकंड्स

14.59 सेकंड्स

-

किकडाउन 20-80किमी प्रति घंटा

-

-

6.72 सेकंड्स

वेन्यू के बीएस4 वर्जन में ज्यादा ऑप्शंस नहीं दिए गए थे। लेकिन अब आईएमटी यूनिट बीएस6 वर्जन में ही दी गई है। 

क्या माइलेज पर पड़ता है असर?

ऑटोमैटिक के मुकाबले मैनुअल ​की तरह आईएमटी वर्जन भी काफी माइलेज फ्रेंडली है। हमारे द्वारा किए गए टेस्ट में इसके मैनुअल वर्जन ने डीसीटी वर्जन के मुकाबले 2 से 3 किलोमीटर प्रति लीटर का ज्यादा माइलेज दिया। हुंडई की ओर से वेन्यू आईएमटी के माइलेज को लेकर अभी कोई आधिकारिक जानकारी नहीं दी गई है। फिर भी माना जा सकता है कि ये मैनुअल के बराबर का माइलेज दे देगी।

माइलेज

वेन्यू टर्बो 1.0 आईएमटी (बीएस6) संभावित

वेन्यू टर्बो 1.0 एमटी (बीएस4)

वेन्यू टर्बो 1.0 डीसीटी (बीएस4)

सिटी

10-13-किमी/ली.

12.43-किमी/ली.

10.25-किमी/ली.

हाईवे

17-19-किमी/ली.

18.84-किमी/ली.

16.02-किमी/ली.


लंबे समय तक भरोसेमंद

क्लच पैडल के ना होने से आईएमटी गियरबॉक्स क्लच को डिसइंगेज करता है जब उसे परफॉर्मेंस में कोई कमी नजर आती है। ऊंचे गियरों पर लो स्पीड में चलते हुए वॉर्निंग के अलावा इसका सिस्टम गाड़ी के दूसरे मैकेनिकल पार्ट्स को सेफ रखने के लिए क्लच को डिइंगेज कर देता है। इससे गाड़ी की वियर एंड टियर कॉस्ट भी कम आती है। 

निष्कर्ष

ऑटो इंडस्ट्री इनोवेशन के ऊपर काफी निर्भर रहती है। वहीं ये बात कितनी अच्छी है कि कुछ एडवांस्ड चीजें आपको अफोर्डेबल प्राइस पर मिल जाए। ऐसा हुंडई वेन्यू आईएमटी के लिए कहा जा सकता है। हमने वेन्यू आईएमटी को भीड़-भाड़ वाली सड़कों से लेकर हाईवे और फिर उतार चढ़ाव वाले रास्तों पर चलाकर देखा, जहां इसने हमें बिल्कुल निराश नहीं किया। एएमटी के मुकाबले इसका ड्राइविंग एक्सपीरियंस ज्यादा स्मूद और कंफर्टेबल है। अपकमिंग किया सॉनेट भी आईएमटी गियरबॉक्स से लैस होगी, जल्द ही और भी कई मॉडल्स में ये क्लचलैस टेक्नोलॉजी पेश की जाएगी। 

मैनुअल वेरिएंट के मुकाबले एक एएमटी वेरिएंट 40,000 रुपये से लेकर 50,000 रुपये तक महंगा होता है, वहीं आईएमटी वेरिएंट महज 21,000 रुपये से लेकर 23,000 रुपये तक ही महंगा पड़ता है। हुंडई ने वेन्यू में एक ही वेरिएंट में आईएमटी और डीसीटी गियरबॉक्स का ऑप्शन ना देकर समझदारी का परिचय दिया है। 

मैनुअल गियरबॉक्स और आईएमटी गियरबॉक्स में केवल इले​क्ट्रॉनिक सेंसर और क्लच ना होने का ही फर्क है। ऐसे में आप अंदाजा लगा सकते हैं कि इसकी मेंटेनेंस कॉस्ट मैनुअल के लगभग बराबर ही पड़ने वाली है। यदि आपको स्मूद और कंफर्टेबल राइड के साथ थोड़ा स्पोर्टी ड्राइविंग भी चाहिए तो वेन्यू आईएमटी आपके लिए परफैक्ट कार साबित होगी।

हुंडई वेन्यू

वेरिएंट*एक्स-शोरूम कीमत नई दिल्ली
ई डीज़ल (डीजल)Rs. 8.16 लाख*
एस डीज़ल (डीजल)Rs. 9.07 लाख*
एसएक्स डीज़ल (डीजल)Rs. 9.99 लाख*
एसएक्स डीजल स्पोर्ट (डीजल)Rs. 10.37 लाख*
एसएक्स ऑप्शनल डीजल (डीजल)Rs. 11.47 लाख*
एसएक्स opt डीजल स्पोर्ट (डीजल)Rs. 11.59 लाख*
ई (पेट्रोल)Rs. 6.75 लाख*
एस (पेट्रोल)Rs. 7.46 लाख*
एस प्लस (पेट्रोल)Rs. 8.38 लाख*
एस टर्बो (पेट्रोल)Rs. 8.52 लाख*
एस टर्बो डीसीटी (पेट्रोल)Rs. 9.66 लाख*
एसएक्स टर्बो (पेट्रोल)Rs. 9.85 लाख*
एसएक्स imt (पेट्रोल)Rs. 9.99 लाख*
एसएक्स स्पोर्ट imt (पेट्रोल)Rs. 10.27 लाख*
एसएक्स ऑप्शनल टर्बो (पेट्रोल)Rs. 10.91 लाख*
एसएक्स opt imt (पेट्रोल)Rs. 11.15 लाख*
एसएक्स opt स्पोर्ट imt (पेट्रोल)Rs. 11.27 लाख*
एसएक्स प्लस टर्बो डीसीटी (पेट्रोल)Rs. 11.47 लाख*
एसएक्स प्लस स्पोर्ट dct (पेट्रोल)Rs. 11.65 लाख*

नई एसयूवी कारें

अपकमिंग कारें

पॉपुलर एसयूवी कारें

*Estimated Price New Delhi
×
आपका शहर कौन सा है?