• लॉगिन / रजिस्टर

समय पर इंजन ऑयल बदलवाने के ये हैं 5 फायदे

प्रकाशित: अप्रैल 14, 2021 12:49 pm । sponsored

  • 44 व्यूज़
  • Write a कमेंट

भारत में गाड़ी खरीदते समय इंजन और पावर की तो सभी बात करते हैं लेकिन मेंटेनेंस के बारे में ज्यादा जिकर नहीं किया जाता है। ऐसे में यह कैसे सुनिश्चित किया जाए कि साल दर साल गुजरने पर इंजन अच्छा परफॉर्म कर रहा है? इसके लिए नियमित अंतराल पर इंजन ऑइल को बदलवाने की आवश्यकता रहती है। मोटर स्मूदली काम करे इसके लिए हाई परफॉर्मेंस इंजन ऑयल ब्रांड जैसे जीएस कैल्टेक्स किक्स जी 1 सिंथेटिक एसएई 5डब्ल्यू30 और किक्स जी1 सिंथेटिक पावर एसएई 5डब्ल्यू40 का इस्तेमाल करना बेहद जरूरी है। किक्स कार इंजन ऑयल एक हाई-परफॉर्मेंस सिंथेटिक ऑयल है जिसे कई सारे पेट्रोल और डीजल इंजन में उपयोग में लिया जाता है। इस ऑयल का इस्तेमाल करने की सलाह एसयूवी से लेकर एमपीवी कारों के लिए दी जाती है। तो चलिए अब जानते हैं कि सिंथेटिक इंजन ऑइल जैसे किक्स जी1 सिंथेटिक और किक्स जी1 सिंथेटिक पावर अनलॉक इंजन की परफॉर्मेंस को कैसे सुधारता है:-

धूल मिट्टी नहीं जमने देता

ऑयल, इंजन के जरूरी पार्ट्स को लुब्रिकेट करता है और उस पर धूल व मिट्टी नहीं जमने देता है। नियमित अंतराल पर ऑयलिंग करवाने से इंजन में लंबे समय से जमी धूल-मिटटी हट जाती है। कई बार ऑयल जमने के कारण कीचड़ भी जम जाता है जिससे इंजन में कई बार समस्या भी आ सकती है, सिंथेटिक इंजन ऑइल इससे भी बचाव करता है। कुल मिलाकर, ऑयल बदलवाने से इंजन साफ रहता है और स्मूदली काम करता है।

परफॉर्मेंस में सुधार

कार की परफॉर्मेंस में फ्रिक्शन सबसे बड़ी चुनौती होती है। सही लुब्रिकेशन ना होने की वजह से इंजन के मूविंग पार्ट्स फ्रिक्शन करते हैं और काफी हीट भी जनरेट करते हैं। इंजन ऑयल बदलवाकर इंजन के फ्रिक्शन और ओवरहीटिंग को आसानी से कम किया जा सकता है। इसका मतलब यह है कि समय पर इंजन ऑयल बदलवाने से ना सिर्फ परफॉर्मेंस बल्कि इंजन की ड्यूरेबिलिटी में भी सुधार आता है।

बेहतर माइलेज

हम में से अधिकतर लोग माइलेज की महत्ता को समझते हैं, लेकिन हम इंजन ऑयल के प्रभाव को नज़रअंदाज़ कर देते हैं। मिनरल ऑयल में कई सारी अशुद्धियां होती हैं और सिंथेटिक ऑइल के मुकाबले यह लीक होने लगता है जिसके चलते इंजन की परफॉर्मेंस पर भी असर पड़ता है। ज्यादा इस्तेमाल करने पर इंजन अप्रभावी हो जाता है। सिंथेटिक ऑयल फ्रिक्शन को कम कर देता है जिससे बेहतर माइलेज के साथ-साथ इंजन प्रोटेक्शन भी मिलता है।

ज्यादा पॉल्यूशन नहीं फैलाता

बीएस6 नॉर्म्स लागू होने और व्हीकल्स में इमिशन हार्डवेयर टेक्नोलॉजी का इस्तेमाल होने के चलते इंजन ऑयल को समय पर बदलवाना महत्वपूर्ण हो गया है। एक अच्छा लुब्रिकेटेड इंजन इमिशन को कंट्रोल में रखता है, इसी वजह से समय-समय पर इंजन ऑयल को बदलवाना बेहद जरूरी होता है। यदि आप इंजन ऑयल नहीं बदलवाते हैं तो ऐसे में आपका इंजन और इमिशन हार्डवयेर कम्पोनेंट्स खराब हो सकते हैं।

हेल्दी इंजन = लंबी लाइफ

सही समय पर ऑयल बदलवाने से कार लंबे समय तक चलती है और इंजन के मूविंग पार्ट्स में भी ऑयल बरकरार रहता है। हेल्दी इंजन और अच्छी तरह से मेंटेन की गई कार की रीसेल वैल्यू भी काफी अच्छी होती है।

कुल मिलाकर, सही ऑयल को चुनने के यह सभी फायदे होते हैं। आप फुली सिंथेटिक ऑयल चुन सकते हैं क्योंकि यह मिनरल ऑइल के मुकाबले अच्छा प्रोटेक्शन देता है। जीएस कैल्टेक्स इंडिया का किक्स जी1 सिंथेटिक इंजन ऑयल एडवांस एडिटिव टेक्नोलॉजी के साथ आता है जो टेलपाइप इमिशन को कम करते हुए व्हीकल की बेहतर परफॉर्मेंस में मदद करता है।

द्वारा प्रकाशित
was this article helpful ?

0 out ऑफ 0 found this helpful

Write your कमेंट

Read Full News
×
आपका शहर कौन सा है?