हुंडई ग्रेंड आई-10

` 5.0 - 7.3 Lac*
हुंडई  ग्रेंड आई-10 फोटोज
  • रंग (कलर्स)
  • +

हुंडई ग्रेंड आई-10 मॉडल और कीमत

वेरिएंट की लिस्ट नीचे देखें

एडव्टाइजमेंट

हुंडई के अन्य कार मॉडल

 
*Rs

हुंडई ग्रेंड आई-10 के विडियो

यू-ट्यूब & वेब से सबसे अच्छा विडियो उठाया है - व्यू ऑॅल

भारत में हुंडई ग्रेंड आई-10 के रिव्यू

 

हाईलाइट्स


14 अप्रैल, 2015: कारों में पैसेंजर सुरक्षा के मुद्दे पर जोर देते हुए हुंडई ने भी कदम आगे बढ़ाए हैं। एलीट आई-20, आई-20 एक्टिव और वरना सेडान में स्टैंडर्ड ड्यूल एयरबैग्स देने के बाद अब कंपनी दूसरी कारों में भी एयरबैग देगी। इनमें कॉम्पैक्ट सेडान एक्सेंट, ग्रैंड आई-10 और एंट्री लेवल हैचबैक कार इयॉन शामिल है।
एक्सेंट और ग्रैंड आई-10 में बेस वेरिएंट से ही ड्राइवर साइड एयरबैग स्टैंडर्ड मिलेगा। ग्रैंड आई-10 में स्पोर्ट्ज वेरिएंट से पैसेंजर एयरबैग का भी विकल्प मिलेगा। इसके साथ ही कंपनी ने ग्रैंड आई-10 के एस्टा वेरिएंट को बंद कर दिया है। ग्रैंड आई-10 में अब एस्टा (ओ) ही टॉप वेरिएंट होगा।

ओवरव्यू


परिचय: 01
हुंडई ग्रैंड आई-10 कंपनी की पहली कार है जिसे फ्लूडिक डिजायन थीम पर तैयार किया गया। अपने शानदार डिजायन, ज्यादा फीचर्स और सेगमेंट में दिए गए कुछ स्पेशल फीचर्स के बलबूते इस कार को बाजार में काफी पसंद किया गया है। भारत ही नहीं, दुनियाभर में ग्रैंड आई-10 ने काफी तारीफ बटोरी हैं। कॉम्पैक्ट डायमेंशन, लुभावना इंटीरियर, स्पेशल फीचर्स और किफायती इंजन के दम पर इस कार ने साल 2014 का कार ऑफ द ईयर अवॉर्ड भी हासिल किया।

02

प्लस पॉइंट


1. डिजायन, साफा-सुथरा और नयापन लिए हुए है, जो ज्यादातर लोगों को पसंद आएगा।
2. रियर एसी वेंट्स, पुश बटन स्टार्ट/स्टॉप, की-लैस एंट्री और चिल्ड ग्लोव बॉक्स जैसे फीचर्स सेगमेंट में इसे आगे रखते हैं।
3. छोटी होने बावजूद केबिन में काफी जगह मौजूद है।
4. भारतीय सड़कों के हिसाब से इसे तैयार किया गया है, लिहाजा यह अच्छी राइड क्वालिटी देती है।

माइनस पॉइंट


1. एयरबैग और एबीएस केवल टॉप एंड वेरिएंट में हैं। इन्हें भी ऑप्शनल रखा गया है।
2. फ्रंट हैड रेस्ट को एडजेस्ट करने की सुविधा नहीं है।

खास फीचर्स


1. सेगमेंट में पहली बार आए पिछली तरफ दिए गए एसी वेंट्स
2. इस श्रेणी में सबसे बेहतर बिल्ड क्वालिटी

एक्सटीरियर


03
भारत में ग्रैंड आई-10 फ्लूडिक डिजायन पर बनी हुंडई की पहली कार है। इसमें आगे की तरफ स्वेप्टबैक हैडलैंप्स, हेक्सागोनल ग्रिल और प्रभावशाली वाला बंपर और फॉग लैंप्स दिए गए हैं।

04
साइड प्रोफाइल को सिंपल रखा गया है। यहां शार्प क्रीज़ लाइन दी गई हैं, जो डोर हैंडल से होती हुई टेललैंप्स तक जाती हैं।

05
यूरोपियन वर्जन की तुलना में यहां उतारी गई ग्रैंड आई-10 में थोडे़ बहुत बदलाव हुए हैं। भारत में आया मॉडल की लंबाई और व्हीलबेस क्रमशः 100 एमएम और 40 एमएम ज्यादा है। पिछले दरवाजे और विंडो थोड़ा चौड़ा रखा गया है। सी-पिलर का डिजायन भी थोड़ा अलग है। इन सब वजहों से इसके केबिन में ज्यादा स्पेस मिलता है। नीचे की तरफ दी गई प्लास्टिक क्लैडिंग स्टाइलिश लुक देने के साथ दरवाजों को स्क्रैच से भी सुरक्षा देती है। 8-स्पोक डायमंड कट अलॉय व्हील भी आकर्षक हैं।

06
पिछले हिस्से पर नज़र डालें तो यह सिंपल है पर बोरिंग नहीं है। पीछे की तरफ रैप्ड-अराउण्ड टेललैंप्स को अच्छे से डिजायन किया गया है। पिछले बंपर पर रिफ्लेक्टर्स देखने को मिलेंगे। यह स्टाइल के अलावा सेफ्टी के लिहाज़ से भी बेहतर हैं।

Table 01
डायमेंशन देखें तो ग्रैंड आई-10 अपने प्रतियोगियों के मुकाबले ज्यादा लंबी-चौड़ी नहीं है। इसका व्हीलबेस भी अपने प्रतियोगियों की तुलना में थोड़ा कम है। लेकिन इसका मतलब यह नहीं है कि ग्रैंड आई-10 में जगह नहीं है। इसकी पिछली सीट सेगमेंट में सबसे चौड़ी और स्पेस लिए हुए हैं।

Table 02
ग्रैंड आई-10 का बूट स्पेस 256 लीटर का है जो इस सेगमेंट सबसे ज्यादा है। सेगमेंट में केवल फोर्ड फीगो ही इससे आगे हैं।

इंटीरियर


07
क्वालिटी और फिनिशिंग के मामले में ग्रैंड आई-10 का केबिन सेगमेंट में सबसे बेहतर है। इस कार में इस्तेमाल किए गए मैटेरियल-पार्ट्स और उनकी फिटिंग इतनी अच्छी तरह से हुई है कि इस मामले में यह सी सेगमेंट की कारों को टक्कर देती है।

08
प्रभावशाली और मॉर्डन डिजायन के साथ-साथ इसका इंटीरियर ब्लैक और बेज़ कलर कॉम्बिनेशन में दिया गया है।

09
इंटीरियर का ऊपरी हिस्सा ब्लैक कलर और बीच का हिस्सा बेज़ कलर में दिया गया है। सेंट्रल कंसोल में दिए गए बटनों का साइज ठीक है और यह सही जगह लगाए गए हैं। यह इस्तेमाल आसान हैं। फ्रंट की दोनों सीटें अच्छा कुशन देती हैं। इन में अच्छा थाई सपोर्ट और लैगरूम मिलता है। ड्राइवर सीट में हाईट एडजेस्ट करने की सुविधा यहां मिलेगी लेकिन फिक्स हैडरेस्ट थोड़ा मायूस कर सकते हैं।

10
स्टीयरिंग व्हील का साइज ठीक है, यह पकड़ने में आरामदायक है। इसे सिर्फ ऊपर-नीचे की तरफ ही एडजेस्ट किया जा सकता है। इंस्ट्रूमेंट क्लस्टर आपका ध्यान जरूर खींच पाने में सफल होगा। आमतौर पर दिखने वाला टू-पॉड ले-आउट यहां नहीं दिखेगा। यहां बीच में एक बड़ा स्पीडोमीटर दिया गया है। इसके बाईं ओर टैकोमीटर और दायी तरफ इंजन का तापमान और फ्यूल लेवल बताने वाले दो डायल मिलेंगे। यहां मल्टी-इंफॉर्मेंशन डिस्प्ले भी मिलेगा, इसमें ओडोमीटर, दो ट्रिप मीटर और गियर शिफ्ट इंडिकेटर मौजूद हैं। ड्राइवर कम्फर्ट के लिए स्टीयरिंग व्हील पर मल्टी फंक्शन कंट्रोल्स मौजूद हैं।

11
सेंट्रल कंसोल का डिजायन भी काफी अच्छा है। इसमें ऊपर की तरफ एंटरटेंमेंट सिस्टम और दोनों तरफ राउंड शेप के एसी वेंट्स दिए गए हैं। इसके नीचे की तरफ तीन डायल वाले ले-आउट में एसी के कंट्रोल्स मौजूद हैं। डैशबोर्ड पर बड़ा चिल्ड ग्लोव बॉक्स मिलेगा। जहां आप खाने-पीने की चीजों को गर्मी से बचा कर रख सकते हैं।

12
केबिन में पीछे की तरफ नज़र डाले तो यहां रियर एसी वेंट्स आपको दिखाई देंगे जो सेगमेंट में पहली बार हैं। इससे केबिन और जल्दी ठंडा होता है। पिछली सीट पर तीन पैसेंजर आराम से बैठ सकते हैं। यहां लैगरूम और शोल्डर रूम की कोई दिक्कत महसूस नहीं होगी। पीछे की सीट को फोल्ड कर बूट स्पेस को बढ़ा सकते हैं, हालांकि सीटों को 60 : 40 रेशियो में फोल्ड नहीं किया जा सकता।

13
फीचर्स की बात करें तो इस हैचबैक में फीचर्स की लम्बी लिस्ट देखने को मिलती है।

14
फीचर्स की लिस्ट में रियर एसी वेंट्स, पुश बटन स्टार्ट/स्टॉप, की-लैस एंट्री और कूल्ड ग्लोव बॉक्स शामिल हैं।

15
यहां ऑटोमैटिक क्लाइमेट कंट्रोल फंक्शन का न होना और रियर डिफॉगर का केवल स्पोर्ट्ज वेरिएंट से ही उपलब्ध होना थोड़ा मायूस कर सकता है।

परफॉर्मेंस


हुंडई ग्रैंड आई-10 को 2 इंजन ऑप्शन में उतारा गया है। इनमें 1.2 लीटर का कप्पा ड्यूल वीटीवीटी पेट्रोल इंजन और 1.1 लीटर का सेकेंड जनरेशन यू-2 डीज़ल इंजन शामिल है।

पेट्रोल इंजन


Table 03
ग्रैंड आई-10 के पेट्रोल मॉडल में 1.2 लीटर का कप्पा ड्यूल वीटीवीटी इंजन लगा है। यह इंजन 82 बीएचपी की ताकत 6000आरपीएम पर और 114 एनएम का टॉर्क 4000 आरपीएम पर देता है। यहां 5-स्पीड मैनुअल के साथ 4-स्पीड ऑटोमैटिक गियरबॉक्स का विकल्प भी मिलेगा। यही इंजन हुंडई आई-10 में भी दिया गया है। तेज रफ्तार में यह इंजन वैसे तो शांत है लेकिन जब स्पीड रेड लाइन पर पहुंचती है तो यह थोड़ा शोर करता है। सामान्य तौर पर इंजन काफी स्मूद और बेहतर है।

16
हाईवे पर यह कार निराश नहीं करती है और एक गियर डाउन करने पर बेहतर तरीके से ओवरटेकिंग की जा सकती है। कम आरपीएम पर पावर डिलीवरी सिटी राइड में इसकी ड्राइविंग को आसान बनाती है। इसका मैनुअल गियर बॉक्स भी काफी स्मूद काम करता है।

डीज़ल इंजन


Table 04
इसके डीज़ल वर्जन में 1.1 लीटर का सेकेंड जनरेशन यू-2 इंजन लगा है। यह मशीन अधिकतम 70 बीएचपी की पावर 4000 आरपीएम पर और 160 एनएम का टॉर्क 1500 से 2750 आरपीएम पर जनरेट करती है। यह 3-सिलेंडर का इंजन पावर के मामले में कागजों या आंकड़ों में अपने प्रतियोगियों से कमजोर लग सकता है लेकिन कार का हल्का वजन इसे अच्छी परफॉरमेंस देता है। कार में पावर डिलिवरी एकदम से आने के बजाए आराम से मिलती है। दूसरे टर्बोचार्ज्ड इंजनों के मुकाबले में टर्बो लैग को काफी कंट्रोल किया गया है। सिटी ड्राइविंग में कार का प्रदर्शन अच्छा है।

17
अगर बात करें डीज़ल मॉडल की हाईवे ड्राइव की तो इसमें पावर की कमी महसूस हो सकती है। ओवरटेक करने के दौरान थोड़ी सावधानी बरतनी होगी, एक बार स्पीड कम होने पर वापस वही स्पीड पाने में थोड़ा वक्त लग सकता है। हालांकि डीज़ल इंजन ज्यादा शोर नहीं करता। इसके गियर भी आराम से शिफ्ट होते हैं। गियरबॉक्स स्मूद है।

राइड और हैंडलिंग


18
इसके सस्पेंशन सेटअप की बात करें तो आगे की तरफ मैकफर्सन स्ट्रॉट और पिछली तरफ डबल टॉरजन बीम का इस्तेमाल किया है। कंपनी ने हैंडलिंग से ज्यादा ध्यान राइडिंग कम्फर्ट पर दिया है। यही वजह है कि झटकों को यह आसानी से समा लेती है। सीधे रास्तों पर तेज रफ्तार में यह कार काफी संतुलित रहती है। घुमावदार रास्तों और मोड़ों पर तेज रफ्तार में ज्यादा बॉडी रोल महसूस होता है।
कार की हैंडलिंग सामान्य है, अगर आप इससे मारूति स्विफ्ट और नई फोर्ड फीगो जैसी हैंडलिंग की चाहत रखते हैं तो थोड़ी मायूसी हो सकती है। कार की खासियत इसकी राइड क्वालिटी है, यही वजह है कि इसे काफी पसंद किया जाता है। कार की ब्रेकिंग क्षमता भी अच्छी और भरोसेमंद है।

सेफ्टी


19
इसके यूरोपियन मॉडल में 6 एयरबैग दिए गए हैं लेकिन देश में उपलब्ध मॉडल में केवल ड्यूल फ्रंट एयरबैग ही उपलब्ध हैं। एंटी लॉक ब्रेकिंग सिस्टम (एबीएस) भी यहां मौजूद है लेकिन यह केवल एस्टा वेरिएंट में ही मिलेगा। रियर डिफॉगर और रिवर्स पार्किंग सेंसर्स भी हैं, जो स्पोर्ट्ज वेरिएंट से उपलब्ध होते हैं। दूसरे सेफ्टी फीचर्स में इंजन इमोबिलाइजर, फ्रंट फॉग लैंप्स, डे-नाइट इनसाइड रियर व्यू मिरर और सेंट्रल लॉकिंग शामिल हैं।

वेरिएंट और फीचर्स


ग्रैंड आई-10 को 5 वेरिएंट में उतारा गया है। इसका 4-स्पीड ऑटोमैटिक वर्जन केवल एस्टा वेरिएंट में ही उपलब्ध है।

Table 05
बेस वेरिएंट एरा से फीचर्स की बात शुरू करें तो इस में इंजन इमोबिलाइजर, क्रोम रेडिएटर ग्रिल, टू-टोन ब्लैक-बेज़ इंटीरियर, फ्रंट-रियर डोर मैप पॉकेट्स, टेकोमीटर, एमआईडी, पावर स्टीयरिंग, मैनुअल एसी के साथ हीटर, फ्रंट पावर विंडो और अंदर से सेट होने वाले बाहरी शीशे जैसे फीचर्स मिलेंगे।
अगला वेरिएंट है मैग्ना। इसमें सेंट्रल लॉकिंग, फ्रंट फॉग लैंप्स, डे-नाइट इनसाइड रियर व्यू मिरर, स्टैंडर्ड की-लैस एंट्री, बॉडी कलर के डोर मिरर और हैंडल्स, फुल व्हील कवर, पीछे की तरफ पावर विंडो, पावर से एडजेस्ट होने वाले बाहर के शीशे और पिछली तरफ एसी वेंट्स जैसे फीचर्स शामिल हैं।
स्पोर्ट्ज वेरिएंट में इन सभी फीचर्स के अलावा रिवर्स पार्किंग सेंसर्स, रियर डिफॉगर, रूफ रेल्स, बाहरी शीशों पर टर्न इंडिकेटर, मैटल फिनिशिंग वाले इनसाइड डोर हैंडल, 2-डिन म्यूजिक सिस्टम (एफएम, एमपी-3, ऑक्स, सीडी और ब्लूटूथ सपोर्ट के साथ), स्टीयरिंग व्हील कंट्रोल्स और एडजेस्ट होने वाला स्टीयरिंग व्हील दिया गया है।
इसका टॉप वेरिएंट एस्टा है, इसमें स्मार्ट-की, क्रोम डोर हैंडल्स, रियर स्पॉइलर, सिल्वर अलॉय व्हील, लैदर रैप्ड स्टीयरिंग व्हील, रियर वॉशर-वाइपर, पुश बट्न स्टार्ट/स्टॉप, ड्राइवर सीट हाईट एडजेस्ट करने की सुविधा और पिछली सीटों के हैडरेस्ट को एडजेस्ट करने की सुविधा दी गई है।
इनके अलावा अगर आपको ड्राइवर और फ्रंट पैसेंजर एयरबैग, एबीएस और डायमंड-कट अलॉय व्हील की भी चाहत है तो आप एस्टा का ऑप्शनल वेरिएंट ले सकते हैं।

निष्कर्ष


ग्रैंड आई-10 यह दिखाती है कि तेजी से बदलते भारतीय बाजार में हुंडई ने कैसे बेहतर से बेहतर कारों को पेश करने में सफलता हासिल की है। यह कार भी अच्छा ड्राइविंग अहसास देने के अलावा काफी सारे फीचर्स से लैस है। इस बेहतरीन कॉम्बिनेशन को अपनाने में हुंडई की तुलना में कई घरेलू कार कंपनियां थोड़ी पीछे हैं। यही हुंडई की सफलता का बड़ा फॉर्मूला कहा जा सकता है।