फॉक्सवेगन पोलो

` 5.4 - 9.3 Lac*
फॉक्सवेगन पोलो फोटोज
  • रंग (कलर्स)
  • +

फॉक्सवेगन पोलो मॉडल और कीमत

वेरिएंट की लिस्ट नीचे देखें

एडव्टाइजमेंट

फॉक्सवेगन के अन्य कार मॉडल

 
*Rs

फॉक्सवेगन पोलो के विडियो

यू-ट्यूब & वेब से सबसे अच्छा विडियो उठाया है - व्यू ऑॅल

भारत में फॉक्सवेगन पोलो के रिव्यू

 

हाईलाइट्स


9 मार्च, 2016: फॉक्सवेगन पोलो को नए हैडलैंप्स और डे-टाइम रनिंग एलईडी लाइट्स के साथ स्पॉट किया गया है। उम्मीद है कि कंपनी अपनी इस कार को कुछ और अपडेट के साथ इसी साल लॉन्च करेगी। फरवरी में हुए ऑटो एक्सपो में पोलो जीटीआई से पर्दा हटाया गया था। इसके सितम्बर में लॉन्च होने की बात सामने आई थी। भारतीय बाजार में पोलो जीटीआई का मुकाबला अबार्थ पुंटो ईवो से होगा। पोलो जीटीआई में 1.8 लीटर का टीएसआई टर्बोचार्ज्ड पेट्रोल इंजन मिलेगा जो 192 पीएस की ताकत के साथ 250एनएम का टॉर्क देगा। इसमें 7-स्पीड डीएसजी ऑटोमैटिक गियरबॉक्स लगा होगा।

ओवरऑल


फॉक्सवेगन एक ऐसा नाम है जिसने दुनियाभर के कार बाजारों में काफी नाम कमाया है। लेकिन भारत की बात करें तो यहां स्थिति अलग है। घरेलू और पहले से मौजूद कार कंपनियों और किफायती कारों की डिमांड के चलते फॉक्सवेगन के लिए मुकाबला काफी कड़ा है। प्रीमियम हैचबैक पोलो वो मुख्य कार है जिसके दम पर फॉक्सवेगन यहां सिक्का जमाने की कोशिश कर रही है। यह एक क्लासिक हैचबैक है, जिसकी राइड के बाद आप जानेंगे कि असल में जर्मन इंजीनियरिंग होती क्या है। फोक्सवेगन पोलो का नया एडिशन आ चुका है, तो यहां जानने कि कोशिश करेंगे कि क्या नया है फॉक्सवेगन की पोलो में और भरोसेमंद जर्मन इंजीनियरिंग के वादे के पैमाने पर यह कार कितनी खरी उतरती है।

01

प्लस पॉइंट


1. डिजायन लुभावना है, खासतौर पर युवाओं को काफी पसंद आने वाली है।
2. मौजूदा जरुरतों को ध्यान में रखने हुए अच्छे कम्फर्ट फीचर्स दिए गए हैं।

माइनस पॉइंट


1 ज्यादा जगह चाहने वालों को यह कार निराश करती है।
2. परफॉर्मेंस को थोड़ा और सुधारने की जरूरत है।

खास फीचर्स


1. नया टचस्क्रीन इंफोटेन्मेंट सिस्टम और मिरर लिंक सिस्टम केबिन में एक नया अहसास देते हैं।
2. एबीएस और ईपीएस के अलावा कई अन्य सेफ्टी फीचर्स इसका एक मजबूत पक्ष हैं।

ओवरव्यू


पोलो के नए वर्जन में मामूली बदलाव हुए हैं, इनमें ज्यादा बदलाव इंटीरियर में हुए हैं। इस से पता चलता है कि पोलो का क्लासिक लुक ग्राहकों में कितना लोकप्रिय है। शायद इसीलिए कंपनी ने यहां बदलाव न करते हुए बाहरी डिजायन को पहले जैसा ही रखा गया है। इसके इंटीरियर में ड्यूल टोन कलर स्कीम, फैब्रिक सीट कवर और पियानो ब्लैक सेंटर कंसोल देखने को मिलेगा। कंपनी ने केबिन में कुछ नए फीचर्स जोड़े हैं। जो जाहिर तौर पर ग्राहकों को पसंद आने वाले हैं।
इंजन, चैसिस, ब्रेकिंग और दूसरे मैकेनिकल फीचर्स में कोई बदलाव नहीं हैं। यह पोलो के रेग्युलर मॉडल जैसे ही हैं।

एक्सटीरियर


पोलो सबसे ज्यादा मॉर्डन और एक स्टाइलिश डिजायन वाली कार है। इसकी डिजायन थीम से कम ही लोगों को शिकायत होगी। यही वजह है कि डिजायन के मामले में भारतीय बाजार में मौजूद प्रीमियम हैचबैक कारों में पोलो सबसे अलग जगह रखती है और इसे काफी पसंद भी किया जाता है।

02
एक हैचबैक होने के बावजूद को काफी बारीकी से डिजायन किया गया है। यह क्लासिक होने के साथ-साथ स्पोर्टी कार का भी अहसास देती है। इसकी लंबाई 3971 एमएम, चौड़ाई 1682 एमएम और ऊंचाई 1469 एमएम है। कार की बॉडी काफी संतुलित है। जो इसे सधी हुई कार बनाती है।

03
कंपनी ने पोलो के एक्सटीरियर पर काफी ध्यान दिया है। कार की छत को बेहद बारीकी से डिजायन किया गया है।

04
फ्रंट में देखें तो पतली सिल्वर ग्रिल के बीच में कंपनी का बड़ा सा लोगो मौजूद है। दोनों किनारों पर दिए गए खूबसूरत हैडलैंप्स इसे अग्रेसिव लुक देते हैं। इसमें ड्यूल बीम लाइट सिस्टम दिया गया है, ब्लैक फिनिशिंग इसे और प्रभावशाली बनाती है।

05
नीचे की ओर फ्रंट स्कर्ट मौजूद है जो एयरडैम को कवर किए रहती है। एयरडैम के ऊपर क्रोम लाइन दी गई है।

06
विंडस्क्रीन से नीचे की ओर स्लोप स्टाइल में दिया गया चौड़ा बोनट और इस पर मौजूद लाइनें इसे दूसरों से अलग और प्रभावशाली बनाती हैं।

07
साइड से कार को स्पोर्टी डिजायन दिया गया है। चौड़े व्हीलआर्च और कर्व लाइनें कार की साइड प्रोफाइल को खूबसूरत बनाती हैं।

08
15 इंच के ‘एस्ट्राडा’ अलॉय व्हील इसे और दमदार लुक देते हैं। खासकर युवा ग्राहकों को यह फीचर जरूर पसंद आएगा।

09
अब आते हैं इसके पिछले हिस्से की ओर, जो फ्रंट जितना ही आकर्षक है। टेलगेट के ठीक बीच में गहरी बॉडी लाइन दी गई है। बीच में कंपनी का लोगो मिलेगा। दोनों साइड में मौजूद स्क्वॉयर शेप के टेललैंप्स इसके लुक को और निखारते हैं।

Table 01

इंटीरियर


केबिन की बात करें तो यहां जगह ठीक-ठाक कही जा सकती है। यह न तो बहुत ज्यादा है और ना ही बहुत तंग। हां अगर आप यहां लग्ज़री अहसास ढूंढ़ रहे हैं तो आपको थोड़ी मायूसी हो सकती है। इसके नए वर्जन में कुछ नए फीचर्स आएंगे जो राइड कंफर्ट को थोड़ा बढ़ाने वाले हो सकते हैं। आगे की तरफ अच्छा लैगरूम मिलता है। लंबे कद के ड्राइवर या को-पैसेन्जर को यहां कोई दिक्कत नहीं होगी। हालांकि पीछे की तरफ लैगरूम थोड़ा ज्यादा होता तो और बेहतर रहता।

10
केबिन में ड्यूल टोन कलर स्कीम उत्साह जगाने वाली है। डैशबोर्ड के सेंटर में पियानो ब्लैक फिनिश में सेंट्रल कंसोल दिया गया है, जो काफी अच्छा लगता है।

11
सेंट्रल कंसोल के सबसे ऊपर चौकोर शेप के एसी वेंट्स दिए गए हैं। केबिन में मनोरंजन के लिए टचस्क्रीन इंफोटेंमेंट सिस्टम दिया गया है। इसमें मिररलिंक कनेक्टिवटी भी दी गई है। इसकी मदद से स्मार्टफोन को इंफोटेंमेंट सिस्टम की स्क्रीन से कनेक्ट कर सकते हैं।

12
सेंटर कंसोल में सबसे नीचे की ओर क्लाइमेट्रॉनिक एसी दिया गया है, इसमें छोटी डिस्प्ले भी मौजूद है। जहां आप अपने मुताबिक तापमान को सेट कर सकते हैं। इसके ठीक नीचे स्टोरेज़ स्पेस दिया गया है, जहां मोबाइल फोन और दूसरा छोटा-मोटा सामान रखा जा सकते है।

13
दाई तरफ नज़र डालेंगे तो यहां फ्लेट-बॉट्म स्टाइल का स्टीयरिंग व्हील लैदर कवर में दिया गया है। इसमें भी क्रोम फिनिशिंग देखने को मिलेगी। स्टीयरिंग व्हील पर अच्छी ग्रिप मिलती है। इस पर ऑडियो सिस्टम और दूसरे कंट्रोल्स बटन दिए हुए हैं।

14
स्टीयरिंग व्हील के आगे की ओर इंस्ट्रूमेंट क्लस्टर मौजूद है। क्लस्टर में एक स्पीडोमीटर, टेकोमीटर और मल्टी इंफॉर्मेशन(एमआईडी) स्क्रीन है जिसमें कितनी दूरी लायक फ्यूल बचा है, अगली सर्विस में कितना वक्त बचा है और औसत स्पीड जैसी जानकारियां मिलती हैं।

15
ऑटो डिमिंग इंटीरियर रियर व्यू मिरर भी यहां मिलेगा जो रात में ड्राइविंग को आसान बना देता है। एर्गोनॉमिक सीटें आपके मुताबिक सेट हो जाती हैं और सफर को आरामदायक बनाती हैं। हैडरेस्ट को अपने मुताबिक सेट कर सकते हैं।

16
फैब्रिक क्वालिटी ठीक-ठाक है। इनके अलावा, कूल्ड ग्लोव बॉक्स, डोर-साइड स्टोरेज, एम्बिएंट लाइटिंग, क्रूज़ कंट्रोल, यूएसबी और ऑक्स के साथ एसडी कार्ड कनेक्ट करने की सुविधा भी मिलेगी।

परफॉरमेंस


डीज़ल इंजन 17
इसके डीज़ल मॉडल में 1.5 लीटर का टीडीआई इंजन लगा है। 1498 सीसी का यह 4 सिलेंडर इंजन 5-स्पीड मैनुअल गियरबॉक्स से जुड़ा है। यह इंजन 104 बीएचपी की ताकत 4400 आरपीएम पर और 250 एनएम का टॉर्क 1500-2500 आरपीएम पर देता है। कार की ड्राइविंग-गियर शिफ्टिंग स्मूद है। इंजन से संबंधित कोई बड़ी कमी यहां महसूस नहीं होती।

Table 02 पेट्रोल इंजन 18
पेट्रोल मॉडल में 1.2 लीटर का 4-सिलेंडर टीएसआई, इन-लाइन इंजन लगा है। इसकी क्षमता 1197 सीसी है। इसमें 104 बीएचपी की ताकत 5000 आरपीएम पर और 175 एनएम का टॉर्क 1500-4100 आरपीएम पर मिलता है। इसमें 7-स्पीड डीएसजी ऑटोमैटिक गियरबॉक्स दिया गया है जो राइड और गियर शिफ्टिंग को आसान और स्मूद बनाता है।

Table 03

राइड और हैंडलिंग


19
कार के अगले हिस्से में में मैक्फर्सन स्ट्राउट और स्टेबिलाइज़र बार का इस्तेमाल किया गया है। जो कार को बेहतर संतुलन देते हैं। पीछे की तरफ इंडिपेंडेंट आर्म सस्पेंशन दिया गया है। हमारे मुताबिक पोलो की राइड क्वालिटी अच्छी है हालांकि खराब सड़कों पर हल्के धक्कों-झटकों से दो-चार होना ही पड़ेगा। तेज़ रफ्तार के दौरान कार में बॉडी रोल काफी कम महसूस होता है। कॉर्नरिंग और ब्रेकिंग अच्छी और प्रभावी है। डिस्क और ड्रम ब्रेक का कॉम्बिनेशन अच्छे तरीके से काम करता है। इलेक्ट्रॉनिक पावर स्टीयरिंग हैंडलिंग में हल्का है हालांकि इसके रिस्पॉन्स को थोड़ा और बेहतर किया जा सकता है।

सेफ्टी


पोलो के नए मॉडल में सेफ्टी का काफी ध्यान रखा गया है। यहां नए फीचर्स के तौर पर रेन सेंसर्स, ऑटो डिमिंग इंटीरियर मिरर, इलेक्ट्रॉनिक स्टेबिलिटी प्रोग्राम और हिल-होल्ड कंट्रोल को शामिल किया गया है। एबीएस और ईबीडी भी यहां देखने को मिलेंगे। फ्रंट फॉग लैंप्स के साथ कॉर्नरिंग लैंप्स भी यहां दिए गए हैं जो ड्राइव के दौरान अतिरिक्त सुरक्षा देते हैं। इनके अलावा ड्यूल एयरबैग, रियर पार्किंग सेंसर्स, इलेक्ट्रिकली एडजेस्ट और फोल्ड होने वाले ऑउट साइड मिरर और मल्टी फंक्शन डिस्प्ले जैसे दूसरे फीचर्स भी शामिल हैं।

20 Table 04

वेरिएंट


नई पोलो को केवल 2 वेरिएंट जीटी टीडीआई और जीटी टीएसआई के साथ उतारा गया है। यह दोनों वेरिएंट एक पेट्रोल और एक डीज़ल के साथ आते हैं। दोनों वेरिएंट में कुछ फीचर्स को छोड़कर सभी एक समान हैं। टीडीआई से शुरू करें तो इसमें क्रूज़ कंट्रोल, कूल्ड ग्लोव बॉक्स, सीडी/एमपी3 प्लेयर (यूएसबी, ब्लूटूथ और ऑक्स कनेक्टिविटी के साथ) जैसे फीचर्स आते हैं। वहीं जीटी टीएसआई में अतिरिक्त फीचर्स के तौर पर इलेक्ट्रॉनिक स्टेबिलिटी प्रोग्राम और हिल-होल्ड कंट्रोल को शामिल किया गया है।

Table 05

निष्कर्ष


हमारी राय में पोलो के इन नए वेरिएंट में स्टाइल के साथ-साथ अच्छी परफॉरमेंस भी मिलती है। लुभावना एक्सटीरियर, आरामदायक फीचर्स और कमाल के इंटीरियर के अलावा अच्छे सेफ्टी फीचर्स इसके पक्ष में जाते हैं। इसमें शामिल टचस्क्रीन इंफोटेंमेंट सिस्टम और मिरर लिंक सिस्टम कम्फर्ट फीचर्स इसे हाईटेक बनाते हैं। कार की हैंडलिंग अच्छी है और ओवरऑल ड्राइविंग एक्सपीरियंस भी निराश नहीं करता। केबिन में जगह कम होना, इंजन की औसत परफॉर्मेंस और सर्विस सेंटर्स की कमी, ऐसे कुछ मुख्य बिंदु हैं जहां कमी नज़र आती है। क्लासिक और मॉर्डन डिजायन का कॉम्बिनेशन रखने वाले लोगों और युवा ग्राहकों में पोलो का काफी क्रेज़ देखने को मिलता है। लेकिन ऐसे ग्राहक, जो किसी भी मामले में समझौता नहीं करना चाहते हैं तो हम उन्हें पोलो रेंज के ही दूसरे मॉडलों पर गौर करने की सलाह देंगे।