टाटा Tiago

` 3.3 - 5.9 Lac*
टाटा Tiago फोटोज
  • रंग (कलर्स)
  • +

टाटा Tiago मॉडल और कीमत

वेरिएंट की लिस्ट नीचे देखें

एडव्टाइजमेंट

टाटा के अन्य कार मॉडल

 
*Rs

टाटा Tiago के विडियो

यू-ट्यूब & वेब से सबसे अच्छा विडियो उठाया है - व्यू ऑॅल

भारत में टाटा Tiago के रिव्यू

 

हाईलाइट्स


अप्रैल 06, 2016: टाटा ने अपनी नई हैचबैक टियागो को लॉन्च कर दिया है। इसके पेट्रोल वर्जन की शुरूआती कीमत 3.20 लाख रूपए और डीज़ल वेरिएंट की 3.94 लाख रूपए (एक्स-शोरूम, दिल्ली) रखी गई है। टाटा ने इसे नए डिजायन और प्लेटफार्म पर तैयार किया है। यह टाटा की सभी कारों से अलग है। टियागो को पेट्रोल और डीज़ल इंजन में उतारा गया है। डीज़ल वर्जन में 1.05 लीटर का 3-सिलेन्डर रेवोटॉर्क इंजन दिया गया है। जो 69 बीएचपी की पावर के साथ 140 एनएम का टॉर्क देगा। पेट्रोल वेरिएंट में 1.2 लीटर का रेवोट्रॉन इंजन लगा है। जो 84 बीएचपी की ताकत और 114 एनएम का टॉर्क देता है। हैचबैक सेगमेंट में इसका मुकाबला मारूति सेलेरिया, हुंडई ग्रैंड आई-10 और शेवरले बीट से होगा।

ओवरव्यू


कम कीमत में अच्छी सिटी कार बनाना टाटा की खासियत रही है और टियागो इस मामले में टाटा के लिए बड़ी कामयाबी साबित हो सकती है। टाटा की पहले आईं विस्टा और बोल्ट कहीं न कहीं इंडिका की झलक लिए हुईं थीं। लेकिन टियागो इस मामले में सबसे अलग है। यह कहीं से भी टाटा की अब तक आई कारों से मिलती-जुलती नहीं है। माना जा रहा है कि टियागो, टाटा के लिए नई गेम चेंजर साबित हो सकती है।

01

प्लस पॉइंट



1. टियागो को नया डिजायन दिया गया है। यह टाटा इंडिका, बोल्ट और विस्टा से अलग दिखाई है।
2. इंटीरियर क्वालिटी च्छी है। इस मामले में यह मारूति की सेलेरियो से ऊपर और हुंडई की ग्रैंड आई-10 के बराबर है।
3. पेट्रोल और डीज़ल इंजन सिटी राइडिंग के हिसाब से काफी बेहतर हैं। वहीं, कभी-कभार की हाई-वे राइड के लिए भी बेहतर हैं।
4. म्यूजिक सिस्टम, कूल्ड ग्लोव बॉक्स और इलेक्ट्रिक मिरर जैसे कई आकर्षक फीचर्स से लैस है।

माइनस पॉइंट



1. रियर सीट में अंडर-थाई सपोर्ट काफी कम है। लम्बे सफर के लिहाज से थोड़ी कम आरामदायक है।
2. ऑटोमैटिक गियरबॉक्स का न होना खलता है। मुकाबले में मौजूद सेलेरियो और ग्रैंड आई-10 में ऑटोमैटिक वेरिएंट मौजूद है।
3. हाई स्पीड पर इंजन ज्यादा आवाज करता है।

फीचर्स जो बनाते है टियागो को खास



1. 8-स्पीकर वाला हारमन का साउंड सिस्टम। जो सेगमेंट में सबसे बेहतर है।
2. नेविगेशन सिस्टम और ज्यूक कार एप इसे ज्यादा स्मार्ट बनाती है।
3. बेहतर ड्राइविंग के लिए ईको और सिटी मोड दिए गए हैं।

परिचय


टियागो, टाटा की आइकॉनिक कार इंडिका की जगह लेगी। इंडिका को आए 17 साल हो चुके हैं। टियागो को एक्स0 प्लेटफार्म पर बनाया गया है। इसे ब्रिटेन, इटली और टाटा के पुणे स्थित डिजायन स्टूडियो में तैयार किया गया है। इसमें टाटा की इम्पैक्ट डिजायन का इस्तेमाल किया गया है। टाटा टियागो काफी सारे एडवांस फीचर्स से लैस है, जो इस सेगमेंट की किसी भी कार में नही है। वहीं कीमत के मामले में भी यह कार काफी बेहतर है। इसका मुकाबला मारूति सेलेरियो और हुंडई आई-10 से होगा, जिनकी स्थिति पहले से ही मजबूत है।

टियागो का बैकग्राउंड और डवलपमेंट


टाटा टियागो अंदर और बाहर दोनों ही मामलों में पूरी तरह से नई कार है। इसे शुरुआत से तैयार किया गया है। इस प्रक्रिया में तीन साल का वक्त लगा है। इसे उसी एक्स0 प्लेटफॉर्म पर बनाया गया है जिस पर इंडिका को बनाया गया था। जल्द ही टियागो के बेस पर बनी कॉम्पैक्ट सेडान भी आएगी।

एक्सटीरियर


टियागो एक नया प्रोडक्ट है। यह टाटा की सभी कारों से अलग है। यही वजह है कि पहली झलक सामने आने के बाद से ही इसे अच्छी और उत्साहजनक प्रतिक्रियाएं मिलती रही हैं। जबकि टाटा बोल्ट और विस्टा में इंडिका की झलक के कारण इनके लिए बहुत ज्यादा उत्साह नहीं देखा गया। ग्रैंड आई-10 के बाद यह सेगमेंट की सबसे चौड़ी कार है। इसकी चौड़ाई 1647 एमएम है। सेलेरियो की तुलना में इसका व्हीलबेस 146 एमएम छोटा है। वहीं वजन के मामले में भी यह बाकियों के मुकाबले थोड़ी भारी है।

Table 001
फ्रंट प्रोफाइल पर ध्यान दें तो यहां स्वेप्ट-बैक, स्मोक्ड हैडलैंप्स दिए गए है। दोनों हैडलैंप्स को जोड़ती हुई एक कर्व क्रोम लाइन दी गई है, जिसे टाटा ने ‘ह्यूमैनिटी लाइन’ नाम दिया गया है। इसके एयरडेम को थोड़ा कम चौड़ा रखा गया है। जो इसे शार्पनेस देता है। एयरडेम के दोनों ओर क्रोम फिनिश के साथ फॉग लैंप्स दिए गए हैं। बम्पर और बोनट पर हल्की क्रीज़ लाइनें दी गई हैं, जो टियागो को ज्यादा बेहतर लुक देती हैं।

02
कारों के चारों ओर शार्प कैरेक्टर लाइनें दी गई हैं, जो टेल-लैंप्स पर जाकर खत्म होती हैं। टियागो के बी-पिलर और बाहरी शीशों पर दिए इंडिकेटर्स को ब्लैक कलर में रखा गया है।

02
साइड प्रोफाइल से भी यह कार काफी अच्छी दिखाई देती है। इसमें 14 इंच के अलॉय व्हील दिए गए हैं। हालांकि इसके व्हील का डिजायन थोड़ा कम आकर्षक है। दूसरों से तुलना करने पर ग्रैंड आई-10 में दिए डायमंड-कट व्हील ज्यादा आकर्षक लगते हैं।

03
अब आते हैं पीछे की तरफ। पीछे से यह कार काफी साफ-सुथरी है। यहां बादाम जैसे शेप के टेल-लैंप्स दिए गए हैं। यहां पर स्पॉइलर भी दिया गया है, जिस पर हाई-माउंटेड स्टॉप लैंप लगा हुआ है।

04
कार का स्पॉइलर ध्यान खींचने वाला है। इसे और अधिक आकर्षक बनाने के लिए इसके दोनों सिरों पर ब्लैक कलर का इस्तेमाल किया गया है। टाटा का कहना है कि यह ना के केवल आकर्षक नजर आता है, बल्कि कार को एरोडायनामिक क्वालिटी भी देता है। एग्जॉस्ट को ऐसे रखा गया है कि यह आसानी से दिखाई नहीं देता है। नम्बर प्लेट के चारों ओर के ब्लैक कलर दिया गया है, जो आकर्षक लगने के साथ-साथ सिंगल कलर थीम की एकरसता को भी दूर करता है।

05
टाटा टियागो में 240 लीटर का बूट स्पेस दिया गया है। यह करीब-करीब मारूति सलेरियो के बराबर है, लेकिन ग्रैंड आई-10 से थोड़ा कम है।

06 Table 01 - Copy यहां कहा जा सकता है कि टियागो डिजायन के मामले में टाटा की अब तक की सबसे बेहतर कार है। कार की बनावट और शार्प लाइनें इसे आकर्षक बनाती हैं।

इंटीरियर


टियागो का इंटीरियर टाटा जेस्ट और बोल्ट से मिलता-जुलता है। इसके केबिन में ज्यादा से ज्यादा जगह निकालने और इसकी क्वालिटी सुधारने में टाटा ने काफी मेहनत की है। कार में बैठते ही सबसे पहले इसकी ब्लैक-ग्रे इंटीरियर थीम ध्यान खींचती है। पूरे इंटीरियर में बेहतर क्वालिटी के प्लास्टिक का इस्तेमाल किया गया है, खासकर डैशबोर्ड के आधे के ऊपर वाला हिस्सा तो काफी अच्छा है। सेंटर कंसोल और साइड में दिए गए एसी वेंट्स में पियानो ब्लैक टच दिया गया है। कुछ कलर में साइड एसी वेंट्स में कार के रंग वाले पैलेट्स दिए गए हैं।

08
कार में जाना-पहचाना स्टीयरिंग व्हील दिया गया है। इसे जेस्ट और बोल्ट में भी देखा जा सकता है। इस पर ऑडियो और टेलीफोनी कंट्रोल्स दिए गए हैं। इसका स्टीयरिंग व्हील थोड़ा मोटा है। इसे ऊपर-नीचे एडजस्ट भी किया जा सकता है।

08
इसमें टू पॉड इंस्ट्रूमेंट क्लस्टर दिया गया है। यह बोल्ट से मिलता-जुलता है। हालांकि यह साइज में उससे थोड़ा छोटा है। इसमें टेकोमीटर और स्पीडोमीटर लगे हुए है। सेंटर में मल्टी इंफॉर्मेशन डिस्प्ले स्क्रीन (एमआईडी) दी गई है। इसमें टाइम, तय की गई दूरी, फ्यूल की खपत और माइलेज की जानकारी दिखाई देती है। इसका टेकोमीटर नॉर्मल स्पीड तक तो सही रहता है, स्पीड बढ़ने पर जैसे ही आप रेडलाइन तक पहुंचते हैं टेकोमीटर की सुई का रंग लाल हो जाता है।

09
कार के इंटीरियर खासतौर पर सेंटर कंसोल में भी हैक्सागोनल थीम देखी जा सकती है। यहां एसी वेंट्स और आठ स्पीकर्स वाला हारमन का म्यूजिक सिस्टम दिया गया है। जो बेहतर साउंड देता है। बजट हैचबैक के हिसाब इसका म्यूजिक सिस्टम काफी अच्छा है। नेविगेशन सपोर्ट के लिए इस सिस्टम को स्मार्टफोन से कनेक्ट किया जा सकता है। इसकी स्क्रीन पर आपको मनचाहे रास्ते की जानकारी मिलती रहेगी। इसके अलावा दूसरा खास फीचर है ज्यूक एप। यह एप वाईफाई हॉटस्पॉट की तरह 10 फोन को एकसाथ कनेक्ट कर सकता है और उनकी म्यूजिक लिस्ट को प्ले कर सकता है। यह एप टियागो के अलावा इस सेगमेंट की किसी भी कार में नहीं है।

10
सेंटर कंसोल के नीचे की तरफ एयर कंडिशनर के स्विच दिए गए हैं। हालांकि टियागो के किसी भी वेरिएंट में ऑटोमैटिक क्लाइमेट कंट्रोल नहीं दिया गया है। इसके अलावा टियागो में रियर एसी वेंट्स का भी अभाव है, जबकि ग्रैंड आई-10 में रियर एसी वेंट्स दिए गए हैं। हालांकि टियागो का एसी काफी पावरफुल है जो पूरे केबिन को जल्द ही ठंडा कर देता है।

19
आगे की सीटें काफी आरामदायक हैं और अच्छा सपोर्ट देती हैं। हैडरेस्ट इंटीग्रेटेड नहीं हैं जो अच्छी बात है। सेलेरिया और ग्रैंड आई-10 में इंटीग्रेटेड हैडरेस्ट दिए गए हैं। पीछे वाली सीट में अंडर-थाई सपोर्ट थोड़ा कम मिलता है। फ्रंट सीट में यह समस्या नहीं है। ड्राइवर सीट की हाईट को अपने मुताबिक एडजस्ट किया जा सकता है। यह फीचर टियागो को मुकाबले में दूसरों से आगे रखता है।

11
पीछे वाली सीट दो व्यक्ति के लिए तो बेहतर हैं लेकिन तीसरे व्यक्ति के लिए यहां बैठना थोड़ा असुविधाजनक हो सकता है। दो व्यक्तियों के लिए शोल्डर स्पेस अच्छा है, लेकिन तीन व्यक्ति बैठने पर दिक्कत हो सकती है। पीछे की तरफ अच्छा लेग स्पेस रखा गया है। इस मामले में यह ग्रैंड आई-10 के बराबर है। छोटी कारों के मुकाबले इसका लेग-स्पेस काफी बेहतर है।

14
टाटा टियागो के केबिन में 22 स्टोरेज पॉइंट दिए गए हैं। गियर लीवर के आसपास भी स्टोरेज स्पेस मौजूद है। चारों दरवाजों में बॉटल होल्डर दिए गए हैं। टाटा टियागो में ग्रैंड आई-10 की तरह कूल्ड ग्लोव बॉक्स दिया गया है।

15
टियागो में इस सेगमेंट का सबसे अच्छा इंटीरियर दिया गया है। इस में कई ऐसे फीचर्स हैं जो सेगमेंट में पहली बार देखने को मिले हैं। सेगमेंट में यह पहली कार है, जिसमें 8-स्पीकर वाला हारमन का साउंड सिस्टम और एप सपोर्ट दिया गया है। क्वालिटी और फिनिशिंग के मामले में यह कार ग्रैंड आई-10 के मुकाबले बराबरी पर खड़ी होती है।

परफॉरमेंस


टाटा टियागो को दो नए इंजनों के साथ उतारा गया है। इसका डीज़ल इंजन मौजूदा इंडिका में दिए गए सीआर-4 इंजन जितनी पावर देता है। जबकि पेट्रोल इंजन एकदम नया है।

टियागो डीज़ल (1.05लीटर रेवोटॉर्क)


16
हैचबैक सेगमेंट में टियागो का डीज़ल इंजन ग्रैंड आई-10 के बाद सबसे ज्यादा पावरफुल है। प्रतियोगी कारों की तुलना में इसका वजन ज्यादा है। इस वजह से यह रफ्तार पकड़ने में थोड़ा वक्त लेती है। हालांकि मारूति सेलेरियो और शेवरले बीट के मुकाबले यह ज्यादा फुर्तीली है। इसमें 1800 आरपीएम पर पीक टॉर्क जनरेट होता है। हाईवे पर भी यह कमजोर महसूस नहीं होती लेकिन शहर में ड्राइविंग के लिहाज से यह काफी बेहतर है। इसके डीज़ल इंजन को और स्मूद बनाए जाने की जरूरत महसूस होती है। यह ज्यादा आवाज करता है।

Table 02

टियागो पेट्रोल (1.2 लीटर रेवोट्रॉन)


17
टियागो पेट्रोल में 1.2लीटर का रेवोट्रॉन इंजन दिया गया है। जो 84 बीएचपी की पावर के साथ 114 एनएम का टॉर्क देता है। पावर के मामले में पेट्रोल इंजन, डीज़ल वर्जन से काफी अच्छा है। हैचबैक सेगमेंट में यह सबसे पावरफुल इंजन है। हालांकि इसका वजन सेगमेंट की दूसरी कारों से ज्यादा है। वजन के मामले में ग्रैंड आई-10 इससे 77 किलोग्राम और सेलेरियो 200 किलोग्राम हल्की है। फुल कैपेसिटी और चढ़ाई वाले रास्तों में भी यह कार अच्छा परफॉर्म करती है।

Table 03

मल्टी ड्राइव मोड


18
कंपनी की पिछली हैचबैक बोल्ट की तरह ही टियागो में भी मल्टी ड्राइव मोड देखने को मिलेंगे। यह मोड हैं सिटी और ईको। यहां स्पोर्ट मोड की थोड़ी कमी महसूस हो सकती है जो कि बोल्ट में दिया गया है। जब भी आप कार को स्टार्ट करेंगे यह सिटी मोड में रहेगी। जिसे ईको मोड का बटन दबा कर बदला जा सकता है। ईको मोड ज्यादा माइलेज पाने में मददगार साबित होता है। वहीं सिटी मोड में कार की पावर और रफ्तार बढ़ जाती है।

राइड और हैंडलिंग


19
इस स्टीयरिंग व्हील सिटी ड्राइविंग में हल्का रहता है और हाईवे पर स्पीड बढ़ने के साथ ही यह वजनी होता है और अच्छा रिस्पॉन्स देता है। ग्रैंड आई-10 का स्टीयरिंग इस मामले में बेहतर नहीं है। सस्पेंशन सिस्टम राइडिंग व हैंडलिंग को बेहतर बैलेंस बनाए रखता है। कार टूटी सड़कों और गड्ढों के झटकों को एब्जॉर्ब कर लेती है। डीज़ल के मुकाबले पेट्रोल मॉडल का सस्पेंशन ज्यादा बेहतर है। डीज़ल इंजन का वजन 20 किलोग्राम ज्यादा है। 100 किमी प्रति घंटे की रफ्तार पर भी कार स्मूद बनी रहती है और हुंडई की तरह बाउंस नहीं होती। कार का वजन संतुलन बनाए रखता है।

सेफ्टी


20
टियागो में जोरदार टक्कर से पैदा होने झटके को सोख लेने वाला बॉडी स्ट्रक्चर दिया गया है। इसके अलावा भी टियागो को कई सेफ्टी फीचर्स से लैस किया गया है ताकि दुर्घटना की स्थिति में अंदर बैठे पैसेंजर्स को ज्यादा नुकसान न हो। इसमें ड्यूल फ्रंट एयरबैग के साथ ही एबीएस और ईबीडी दिया गया है। लेकिन बेस वेरिएंट में सेफ्टी के बारे में हम ज्यादा कुछ नहीं बता सकते क्योंकि इसका क्रैश टेस्ट अभी हुआ नहीं है। सुरक्षा मानकों पर अटकलें नहीं करना ही मुनासिब होगा क्योंकि ग्रैंड आई-10 (बेस वेरिएंट-एयरबैग के बिना) लैटिन क्रेश टेस्ट में फेल हो गई थी।

Table 04

वेरिएंट


Table-6
इसके बेस वेरिएंट एक्सबी में न ही इंफोटेंमेंट सिस्टम दिया गया है और न ही सेफ्टी फीचर्स मौजूद हैं। बेस वेरिएंट में ऑप्शनल तौर पर भी यह फीचर्स नहीं दिए गए हैं। ऐसे में इस वेरिएंट से दूर रहना ही बेहतर होगा। एक्सई वेरिएंट में बेस वेरिएंट से ज्यादा फीचर्स तो नहीं है लेकिन ऑप्शन के तौर पर ड्यूल एयरबैग और सीट बेल्ट प्रिटेंशनर जैसे फीचर्स को शामिल किया गया है। मिडिल वेरिएंट एक्सएम और एक्सटी में अच्छे फीचर्स दिए गए हैं। इनमें पावर विंडो, सेन्ट्रल लॉकिंग और पार्किंग सेंसर्स शामिल हैं। इसके आगे एक्सटी वेरिएंट में इंफोटेंमेंट सिस्टम और टॉप वेरिएंट एक्सजेड में स्टीयरिंग माउण्टेड ऑडियो कंट्रोल्स, एबीएस-ईबीडी, कॉर्नर स्टेबिलिटी कंट्रोल, कूल्ड ग्लोव बॉक्स और फॉग लैंप्स समेत अन्य फीचर्स दिए गए हैं। हमारा मानना है कि अगर एक्सटी वेरिएंट में एबीएस भी दिया जाता तो यह और बेहतर पैकेज साबित हो सकता था।

निष्कर्ष


21
अब टाटा टियागो डीलरशिप से सड़कों पर उतरने के लिए तैयार है। जब तक कंपनी ने इसकी कीमत की घोषणा नहीं की थी, तब तक इसकी कीमत सेलेरियो व गै्रंड आई-10 के बीच मानी जा रही थी, लेकिन अब स्थिति पूरी तरह साफ है। इसके पेट्रोल वेरिएंट की कीमत 3.20 लाख व डीज़ल की कीमत भी 4 लाख के अंदर ही है। प्रतियोगियों की बात करें तो पेट्रोल वेरिएंट की कीमत 4 लाख व डीज़ल की कीमत 5 लाख से शुरू है। ऐसे में टियागो को बढ़ मिल सकती है और यह एक फायदे का सौदा साबित हो सकता है। अगर आप ऐसी कार ढूंढ़ रहे हैं जो टेªंडी तो हो ही, साथ ही किफायती हो लेकिन फीचर्स से भी भरी हुई हो, ऐसे में टाटा टियागो आपके बजट में एकदम फिट बैठती है।