भारत में फॉक्सवेगन कार

जर्मनी की सबसे बड़ी और विश्व की दूसरी सबसे बड़ी आॅटोमेकर कंपनी फाॅक्सवेगन नेे आॅटोमोबाइल इंडस्ट्री में अपने 75 साल पूरे कर लिए है। इसकी स्थापना नाजी ट्रेड यूनियन ने, जर्मन लेबर फ्रंट ने 1937 में की थी। इस कंपनी ने पहले घरेलू क्षेत्र में अपने कदम जमाने के बाद 1950 से अंतरराष्ट्रीय आॅटोमोबाइल बाजार में अपना कदम बढ़ाया। भारत में यह जर्मन कंपनी सहायक कंपनी के बैनर तले फाॅक्सवेगन गु्रप सेल्स इण्डिया प्रा. लि. के नाम से 2001 में आया, जिसका मुख्यालय (हैडक्वाटर) मुम्बई में खोला गया। भारत में सहायक कंपनियों का गठन 3 कंपनियां कर रही हैं और वें है आॅडी इण्डिया, स्कोडा इण्उिया और फाॅक्सवेगन इण्डिया प्रा. लि. जो न केवल तीनों कंपनियों की कारों का निर्माण व वितरण के लिए, अपितु अपने ब्रांड की बिक्री के लिए भी पूरी तरह से जिम्मेदार हैं। स्कोडा फाॅक्सवेगन गु्रप का पहला ब्रांड था जो इण्डिया में 2001 में आया था। देश में इस ब्रांड की पहली कार 2007 में आई फाॅक्सवेगन पसाट थी जो पहले से ही इंटरनेषनल मार्केट में काफी पोपुलर थी। इसके बाद 2008 में आईकाॅनिक मिड-सेडान जेटा आई। दिसम्बर, 2009 में स्टाइलिष बीटल और ैन्ट टोरेंग आई। फिर भी इस गु्रप को इतना सफलता नहीं मिली जिसकी वो हकदार थी। 2010 में आई एक सनसनी ने इस कंपनी को देष में सफलता की उंचाई पर पहुंचा दिया और वह थी फाॅक्सवेगन पोलो हैचबैक की लाॅन्चिंग, जिसने देष में इस ब्रांड के नींव के पत्थर का काम किया। फाॅक्सवेगन ने औरंगाबाद में प्रोडेक्षन यूनिट और 3800 करोड़ रूपए की मदद से पुणे के निकट चखन इंडस्ट्रीयल पार्क का निर्माण कराया, वहीं औरंगाबाद में फाॅक्सवेगन और आॅडी मिलकर आॅडी ए4, आॅडी ए6, फाॅक्सवेगन पसाट और जेटा सहित 8 माॅडल्स का निर्माण करते हैं। चखन इंडस्ट्रीयल पार्क फाॅक्सवेगन का देष में सबसे बड़ा निवेष है जहां स्कोडा फाबिया ओर रेपिड माॅडल सहित सालभर में 1 लाख 10 हजार से ज्यादा यूनिट का निर्माण होता है। बिक्री बढ़ाने के लिए कंपनी ने देषभर के 18 राज्यों व 2 केन्द्रषासित प्रदेषों सहित 56 शहरों में 70 डीलरषिप खोल रखे हैं। भारत में फाॅक्सवेगन के उपलब्ध माॅडल जैसा कि उपर बताया गया है कि देश में फाॅक्सवेगन ब्रांड की पहली कार 2007 में फाॅक्सवेगन पसाट के रूप में आई। उसके बाद 2008 में फाॅक्सवेगन जेटा, बीटल, 2009 में फाॅक्सवेगन टोरेंग और 2010 में फाॅक्सवेगन पोलो आई। हालही में फाॅक्सवेगन वेंटो को भी लाॅन्च कर दिया है। देष में वर्तमान में फाॅक्सवेगन ब्रांड की लाइनप में फाॅक्सवेगन पोलो, फाॅक्सवेगन क्राॅस पोलो, फाॅक्सवेगन वेंटो और फाॅक्सवेगन जेटा सहित कुल चार माॅडल उपलब्ध हैं। अपकमिंग फाॅक्सवेगन माॅडल्स साल 2001 में देष में आई फाॅक्सवेगन ने कुछ ही सालों में अपने माॅडल्स सीरीज के जरिए तारीफ के साथ अच्छी बिक्री जुटाने में भी सफल साबित हुई है। पिछले कुछ सालों में आए इस ब्रांड की कारों को देष में जमकर सराहना मिली है, वहीं भारतीय कार बाजार में मजबूत प्रतिद्वंद्वीयों के बीच अपनी स्थिति को मजबूत भी किया है। आने वाले कुछ समय में इस प्रतिस्पर्धा को और अधिक कठिन बनाने के लिए फाॅक्सवेगन अपनी माॅडल लाइनप में फाॅक्सवेगन पसाट, फाॅक्सवेगन टाईगुन और फाॅक्सवेग अप जैसे अपकमिंग माॅडल्स को भी शामिल करेगा।
अधिक पढ़े
* यहां दिखाई गई फॉक्सवेगन की कीमत केवल सांकेतिक कीमतें हैं। यह राशि फॉक्सवेगन Rs की निम्नतम अनुमानित कीमत को प्रदर्शित करती है जो टेक्स, रजिस्टट्रेशन, बीमा और सामान की लागत से अलग है। फॉक्सवेगन की सटीक कीमत के लिए फॉक्सवेगन डीलर से सपंर्क करें।

नई कार 2017

2017 में भारत की नई कारों पर पढें | 2017 को आने वाली कार के बारे में रिव्यू और कीमत सहित सभी जानकारी प्राप्त करें।

2017 में भारत की पोपुलर नई कारें

2017 में भारत की पोपुलर नई कारों को सर्च करें। संभावित कीमत और स्पेसिफिकेशन आदि की जानकारी कारदेखोे पर प्राप्त करें.

भारत में फॉक्सवेगन डीलर्स

Other Car Models In India